loader

क्या अमेरिकी संसद को बम से उड़ाना चाहते थे ट्रंप समर्थक? 

क्या अमेरिकी संसद को बम से उड़ाने की साज़िश थी? क्या बड़े पैमाने पर खूनखराबे की योजना बनाकर ट्रंप समर्थक आये थे? क्या ट्रंप समर्थक किसी बेहद ख़तरनाक मंशा से संसद के पास जुटे थे और बाद में हमला किया था?

हथियारों का ज़खीरा बरामद

अमेरिकी संसद के पास हथियारों के बड़े ज़ख़ीरे की बरामदगी के बाद ये सवाल खड़े हो गये हैं। अमेरिका की जाँच एजेंसियाँ यह पता लगाने में जुट गयी है कि कि संसद पर हमला करने वालों का असली मक़सद सिर्फ़ तोड़फोड़ करना था या फिर इसकी आड़ में किसी और बड़ी घटना को अंजाम देना था। हथियारों का यह जख़ीरा दुनिया के सबसे ताक़तवर देश की संसद से सिर्फ दो मकान पास खड़े एक ट्रक से बरामद किया है। पुलिस ने इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ़्तार कर लिया है।

'सीएनएन' के मुताबिक़, कैपिटल बिल्डंग के पास से एक ट्रक पकड़ा गया, जिसमें 11 देसी बम, एक असॉल्ट राइफ़ल और एक हैंडगन रखे हुए थे।

ख़ास ख़बरें

गिरफ़्तारी

संघीय जाँचकर्ताओं के हवाले से कहा गया है कि एक दूसरे आदमी को भी गिरफ़्तार किया गया है, जिसके पास से एक असॉल्ट राइफ़ल और सैकड़ों गोलियाँ बरामद की गई हैं। उसने यह कहा है कि वह प्रतिनिधि सभा हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स की स्पीकर नैन्सी पलोसी को मारना चाहता था। पलोसी डेमोक्रेट हैं और बहुत ही वरिष्ठ और सम्मानित राजनेताओं में गिनी जाती हैं।

बता दें कि बुधवार को डोनल्ड ट्रंप ने संसद के पास अपने समर्थकों की एक रैली को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने एक बार फिर कहा कि चुनाव में धाँधली कर उनसे जीत छीन ली गई। इसके साथ ही उन्होंने अपने समर्थकों से कैपिटल की ओर कूच करने को कहा। इसके बाद उनके सैकड़ों समर्थक कैपिटल बिल्डिंग यानी संसद भवन के सुरक्षा घेरे को तोड़ कर अंदर घुस गए, तोड़फोड़ की, गोलियाँ चलाईं और बड़े पैमाने पर हिंसा की। इसमें एक पुलिस अफ़सर समेत पाँच लोग मारे गए हैं।

छापेमारी

पुलिस ने कहा कि कैपिटल के चारों ओर सुरक्षा व्यवस्था ठीक करने के लिए की गई छानबीन और छापेमारी में उन्हें बमों से लदा यह ट्रक दिखा। इस मामले में अलाबामा निवासी लोनी लरॉय कॉफ़मैन को गिरफ़्तार कर लिया गया है। न्यायिक विभाग ने कैपिटल में दंगा करने के मामले में 13 लोगों के खिलाफ़ आरोपों का एलान किया है। इसमें वेस्ट वर्जीनिया से चुना गया एक सांसद और वह आदमी भी है जो नैन्सी पलोसी के कमरे में घुस गया था।

कॉफ़मैन ने पुलिस को बताया कि वह स्टाइरोफ़ोम और गैसोलीन से भरे जार ले कर गया था। इसमें विस्फोट होने पर आग लगती और वह बहुत तेज़ी से चारों ओर फैलती। पुलिस ने कप़ड़ों के टुकड़े और लाइटर भी बरामद किया।

कॉफ़मैन ने हथियारों से भरा ट्रक रिपब्लिकन क्लब के पास खड़ा कर रखा था। यह कांग्रेस की लाइब्रेरी के पास ही है। ट्रक में बम, हैंडगन और असॉल्ट राइफ़ल के अलावा एम-4 कार्बाइन, गोलियाँ और राइफ़ल की मैगज़ीन भी रखी हुए थीं।
donald trump supporters plan to destroy capital building with bombs - Satya Hindi
नैन्सी पलोसी, स्पीकर, हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स, अमेरिका

पलोसी पर हमले की योजना

'सीएनएन' ने संघीय जाँचकर्ताओं के हवाले से कहा है कि क्लीवलैंड के रहने वाले ग्रोवर मेरीडिथ जूनियर को हथियारों के साथ गिरफ़्तार किया गया है। उसके पास से टेक्स्ट मैसेज मिले, जिसमें नैन्सी पलोसी को धमकियाँ दी गई थीं। उसने पुलिस से कहा कि वह ट्रंप की रैली में शामिल था।

'द हिल' के अनुसार, डिस्ट्रिक्ट मेट्रोपोलिटन पुलिस विभाग ने कहा है कि उसने मोलोटोव कॉकटेल यानी आग लगाने वाला बम कैपिटल के मैदान से बरामद किया है।

डिस्ट्रक्ट कोलंबिया मेट्रोपोलिटन पुलिस प्रमुख रॉबर्ट कोंटी ने कहा कि 52 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। इसमें 26 लोगों को कैपिटल ग्राउंड में पकड़ा गया। चार लोगों के पास बग़ैर लाइसेंस के हथियार, पिस्तौल, एके 47 राइफ़ल और गोलियाँ मिलीं।

donald trump supporters plan to destroy capital building with bombs - Satya Hindi

बम, पाइप गन बरामद

'न्यूयॉर्क टाइम्स' के मुताबिक़, रिपब्लिकन नेशनल कमिटी के दफ़्तर से एक पाइप गन बरामद किया गया। इसके बाद डेमोक्रेट नेशल कमिटी के दफ़्तर को खाली करा दिया गया।

इस पूरे मामले के बाद कैपिटल हिल की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो गए और कई जन प्रतिनिधियों ने इस पर चिंता जताई है। कई सांसदों ने पूछा है कि कैपिटल हिल की पुलिस पहले से तैयार क्यों नहीं थी।

यूएस कैपिटल पुलिस प्रमुख स्टीवन सुंड ने 'सीएनएन' से कहा कि कैपिटल हिल यानी संसद परिसर पर हमले की कोई आशंका नहीं थी और उन्होंने अपने 30 साल के पुलिस कैरियर ऐसा कभी नहीं देखा था।

बता दें कि जिस समय डोनल्ड ट्रंप के सैकड़ों समर्थक कैपिटल बिल्टिंग में घुस कर तांडव मचा रहे थे, ख़ुद राष्ट्रपति अपने ओवल ऑफ़िस में बैठ कर टेलीविज़न पर सारा तमाशा देख रहे थे। उनकी बेटी इवांका ट्रंप ने ट्वीट कर दंगाइयों को 'देशभक्त' बताया, हालांकि बाद में उन्होंने यह शब्द डिलीट कर दिया।

सुरक्षा पर सवाल

ह्वाइट हाउस के आला अधिकारी बार बार राष्ट्रपति से आग्रह कर रहे थे कि वे तोड़फोड़ कर रही इस भीड़ को रोकने के लिए वह कुछ करें, पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। बाद में एक वीडियो मैसेज जारी कर ट्रंप ने अपने समर्थकों से घर चले जाने को कहा भी तो उसमें भी दुहराया कि 'चुनाव चुरा लिया गया', 'उनकी जीत छीन ली गई।'

दंगाइयों की इस भीड़ पर काबू पाने और उन्हें कैपिटल बिल्डिंग से बाहर निकाल कर संसद पर कब्जा करने में पुलिस को चार घंटे लग गए। बाद में ट्रंप ने इस वारदात की निंदा की। लेकिन समझा जाता है कि उन्होंने इस डर से इस कांड की निंदा की कि ऐसा नहीं करने पर उन्हें पद से हटा कर उन पर मुक़दमा चलाया जा सकता है। 

इसके बावजूद ट्रंप ने खुले मन से चुनाव नतीजों को स्वीकार नहीं किया। उन्होंने कहा है कि हालांकि वे इस नतीजे को कभी भी स्वीकार नहीं कर सकते, पर 20 जुलाई को सत्ता हस्तांतरण शांतिपूर्ण तरीके से हो जाएगा। लेकिन वे ख़ुद इसमें मौजूद नहीं रहेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें