loader

‘इलेक्शन कराओ-मुल्क बचाओ’ के नारे के साथ सड़कों पर उतरेंगे इमरान

पाकिस्तान के पूर्व वज़ीर-ए-आज़म इमरान खान अब एक नए नारे के साथ पाकिस्तान की सियासत में फिर से गर्मी पैदा करने जा रहे हैं। इस नारे का नाम ‘इलेक्शन कराओ मुल्क बचाओ’ है। इसके तहत इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ यानी पीटीआई जल्द से जल्द चुनाव कराए जाने की मांग को लेकर मुल्क भर में प्रदर्शन करेगी। 

इस साल अप्रैल में अपनी हुकूमत के गिरने के बाद से ही इमरान खान जल्द से जल्द चुनाव कराने की मांग को लेकर अड़े हुए हैं। 

तुरंत चुनाव की मांग को लेकर पीटीआई 7 दिसंबर से बड़े पैमाने पर प्रदर्शन करेगी, इसका फैसला लाहौर में इमरान के आवास पर हुई पीटीआई के विधायकों, सांसदों और पदाधिकारियों की एक बैठक में लिया गया। 

Election Karao Mulk Bachao Imran Khan campaign  - Satya Hindi

7 दिसंबर से 17 दिसंबर तक पूरे लाहौर में सार्वजनिक सभाएं की जाएंगी और इनमें मुल्क की शहबाज शरीफ हुकूमत पर दबाव बनाया जाएगा कि वह चुनाव कराए।

ताज़ा ख़बरें

हकीकी आजादी मार्च 

इमरान खान ने कुछ दिन पहले हकीकी आजादी मार्च निकाला था। इस दौरान उन पर हमला हुआ था।  इमरान ने हमले के लिए वज़ीर-ए-आज़म शहबाज शरीफ, गृह मंत्री राणा सनाउल्लाह और आईएसआई के महानिदेशक मेजर जनरल फैसल नसीर को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि मेजर जनरल फैसल नसीर इस मुल्क़ को तबाही की ओर ले जा रहे हैं। 

इमरान ने पहले इस्लामाबाद पहुंचने का एलान किया था लेकिन बाद में उन्होंने रावलपिंडी में मार्च खत्म कर दिया था। 

इमरान ने ऐलान किया था कि पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा से पीटीआई के विधायक इस्तीफे देंगे। लेकिन हाल ही में एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अगर हुकूमत मार्च के अंत तक चुनाव कराने के लिए राजी है तो हम ऐसा नहीं करेंगे। 

इमरान खान इस साल अप्रैल में अपनी हुकूमत के गिरने के बाद से ही आर्मी पर जोरदार ढंग से हमलावर हैं। वह पाकिस्तान में बेहद ताकतवर आर्मी से सीधी लड़ाई छेड़ चुके हैं। 

दुनिया से और खबरें

आसिम मुनीर की तैनाती 

पाकिस्तान में बन नए आर्मी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आसिम मुनीर की तैनाती को लेकर भी राजनीतिक माहौल गर्म है। क्योंकि आसिम मुनीर जब इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के चीफ थे तो इमरान ने वज़ीर-ए-आज़म रहते हुए उन्हें हटा दिया था और उनकी जगह लेफ्टिनेंट जनरल फैज़ हमीद को आईएसआई का चीफ नियुक्त किया था। 

हालांकि अब ऐसी खबर आई है कि इमरान खान ने पार्टी नेताओं से कहा है कि वह आर्मी की आलोचना ना करें। 

Election Karao Mulk Bachao Imran Khan campaign  - Satya Hindi

अपनी सरकार गिरने के बाद से ही इमरान खान ने जितने बड़े जलसे पाकिस्तान के अंदर किए हैं, इन जलसों में आने वाली भीड़ से पता चलता है कि उनकी लोकप्रियता इस मुल्क में सिर चढ़कर बोलती है। हालिया उपचुनाव में भी उनकी पार्टी पीटीआई को जोरदार जीत मिली थी। 

देखना होगा कि इमरान खान शहबाज शरीफ की हुकूमत पर जल्द से जल्द चुनाव कराने के लिए कितना दबाव बना पाते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें