loader

पैंगबर मुहम्मद के कार्टून पर फिर विवाद, फ्रांस में शिक्षक का सिर काटा

ऐसे समय जब यूरोप और अमेरिका में इसलामोफ़ोबिया बढ़ता ही जा रहा है, फ्रांस के लोगों को उस घटना की याद ताज़ा हो गई जब दो इसलामी चरमपंथियों ने फ्रेंच पत्रिका शार्ली एब्दो के दफ़्तर में घुस कर कई लोगों की हत्या कर दी थी। 

ताजा घटना में राजधानी पेरिस के एक उपनगर में पैगंबर मुहम्मद का कार्टून दिखाने के कारण इतिहास के एक शिक्षक की गर्दन काट दी गई। वहाँ पहुँची पुलिस ने हमलावर पर गोलियाँ चलाईं, जिससे उसकी वहीं मौत हो गई। हमवलावर 18 साल का किशोर बताया जाता है।

मामला क्या है?

यह वारदात पेरिस से थोड़ी ही दूरी पर स्थित कॉन्फ्लैन्स सौं होनोरी इलाक़े के एक स्कूल में हुई। पुलिस ने कहा है कि वह इसे एक आतंकवादी संगठन से जुड़ी हत्या के रूप में देख रही है। 
फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने शिक्षक को इसलामिक आतंकवादी हमले का पीड़ित बताया है और कहा है कि वह अभिव्यक्ति की आज़ादी के समर्थक हैं। उन्होंने हमलावर को 'इस्लामी आतंकवादी हमला' क़रार दिया है। 

पैगंबर का कार्टून दिखाया

बीबीसी के अनुसार, मैंक्रों ने नागरिकों से हिंसा के विरोध में एकजुट होने की अपील की है और कहा है आतंकवाद कभी जीत नहीं सकता।
मैक्रों ने कहा, 'कॉन्फ्लैन्स सौं होनोरी में शाम को क्या हुआ मैं इस बारे में बात नहीं करना चाहता, लेकिन आज हमारे एक नागरिक को मार दिया गया। उन्होंने अपने छात्रों को अभिव्यक्ति की आज़ादी के बारे में बताया। उन्होंने उन्हें हर मुद्दे पर सोचने और यकीन करने की आज़ादी के बारे में बताया। उन पर हुआ हमला कायराना हरकत है और वो 'इस्लामी आतंकवादी हमले से पीड़ित हैं।'
पीड़ित ने हाल ही में कक्षा में पैगंबर मोहम्मद की चर्चा की थी। अभियोजकों ने कहा कि वे इस घटना को 'आतंकवादी संगठन से जुड़ी एक हत्या' और 'आतंकवादियों के साथ आपराधिक संबंध' के रूप में मान रहे हैं।

शार्ली एब्दू

इसे 2015 की उस घटना के साथ जोड़ कर देखा जा रहा है पाकिस्तान के दो सगे भाइयों ने कार्टून पत्रिका के दफ़्तर में घुस कर कई लोगों को मार डाला था। बता दें कि 7 जनवरी, 2015 को शार्ली एब्दू के पेरिस स्थित दफ़्तर पर इसलामी चरमपंथी दो सगे भाइयों सईद और शरीफ़ कुआशी ने हमला कर दिया था, जिसमें फ़्रांस के कुछ जाने-माने कार्टूनिस्टों समेत 12 लोग मारे गए थे। पूरी दुनिया में इस हमले की व्यापक निन्दा हुई थी और फ़्रांस में भी इसे लेकर काफ़ी तीखी प्रतिक्रिया हुई थी।
शार्ली एब्दू के दफ़्तर पर हमला करने वाले दोनों भाइयों को तो पुलिस ने मार गिराया था, लेकिन इसी हमले की कड़ी से जुड़े 14 और आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया था। इन लोगों पर एक यहूदी सुपरमार्केट पर हमला करने का आरोप था। इन सभी पर बुधवार से मुक़दमा शुरू होगा। 
इस हत्याकांड के बाद फ्रांस ही नहीं दुनिया भर में बड़ी संख्या में लोग हाथों में पोस्टर लेकर सड़कों पर निकल आए थे। इन पोस्टर में ‘मैं भी शार्ली’ लिखा होता था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें