loader

दिल्ली दंगे: ईरान ने कहा - भारतीय मुसलमानों के ख़िलाफ़ हुई संगठित हिंसा

दिल्ली में हुए दंगों को लेकर मुसलिम राष्ट्रों की ओर से लगातार आवाज़ उठ रही है। कई मुसलिम राष्ट्रों के बाद ईरान ने दिल्ली के दंगों को लेकर आधिकारिक प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि ईरान भारतीय मुसलमानों के ख़िलाफ़ हुई संगठित हिंसा की निंदा करता है। ईरान के विदेश मंत्री जवाज ज़रीफ़ ने सोमवार रात को ट्वीट कर कहा, ‘कई सदियों से ईरान भारत का दोस्त है। हम भारत सरकार से अपील करते हैं कि वह सभी भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करे और किसी का भी दमन नहीं होना चाहिए। शांतिपूर्ण बातचीत और कानून का शासन ही आगे बढ़ने का सही रास्ता है।’ ज़रीफ़ को नपे-तुले शब्दों में अपनी बात कहने के लिये जाना जाता है। 

ज़रीफ़ से पहले इंडोनेशिया, तुर्की और पाकिस्तान इन दंगों को लेकर टिप्पणी कर चुके हैं। उससे पहले मलेशिया और बांग्लादेश भी नागरिकता संशोधन क़ानून और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटीजंस (एनआरसी) को लेकर टिप्पणी कर चुके हैं। भारत की ओर से अभी तक ईरान के विदेश मंत्री के ट्वीट को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की गई है जबकि भारत ने तुर्की और पाकिस्तान की टिप्पणियों का जवाब दिया था। 
ताज़ा ख़बरें

इससे पहले इंडोनेशिया ने जकार्ता में भारतीय राजदूत को बुलाकर दिल्ली में हुए दंगों को लेकर चिंता ज़ाहिर की थी। इंडोनेशिया के धार्मिक मामलों के मंत्री ने मुसलमानों के ख़िलाफ़ हो रही हिंसा को लेकर बयान जारी करते हुए हिंसा की निंदा की थी। दिल्ली के दंगों को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने भी पिछले सप्ताह दावा किया था कि भारत में मुसलमानों का बड़े पैमाने पर नरसंहार हो रहा है। 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने दिल्ली दंगों पर भारतीय मुसलमानों के रैडिकलाइज होने को लेकर चेताया था और कहा था कि इसके न केवल इस क्षेत्र में बल्कि पूरी दुनिया में भयानक परिणाम देखने को मिलेंगे। मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मुहम्मद ने नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ बयान दिया था और कहा था कि इस क़ानून के कारण भारत में लोग मर रहे हैं। लेकिन भारत ने उनके बयान को ग़लत बताया था। 

दुनिया से और ख़बरें

जनवरी में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने कहा था कि हालांकि नागरिकता क़ानून और एनआरसी भारत के आंतरिक मामले हैं लेकिन उन्होंने कहा था कि नागरिकता क़ानून कोई ज़रूरी नहीं था। सोमवार को विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रृंगला ने हसीना और उनकी सरकार के विदेश मंत्री ए.के. अब्दुल मोमीन से बात की थी और कहा था कि नागरिकता क़ानून को लेकर चल रहा तनाव अस्थायी है और इस क़ानून से बांग्लादेश में कोई असर नहीं होगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें