loader
फाइल फोटो

श्रीलंका: बिगड़े हालात, महिंदा राजपक्षे घर छोड़कर भागे

पड़ोसी मुल्क श्रीलंका में हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। एनडीटीवी के मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे और उनके परिवार ने घर छोड़ दिया है और उन्होंने त्रिंकोमाली में एक नौसैनिक अड्डे में शरण ली है। बता दें कि श्रीलंका में बीते कई महीनों से चल रहे विरोध प्रदर्शन सोमवार से तेज और उग्र हो गए हैं। 

हालात इस कदर खराब हैं कि गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने कई पूर्व मंत्रियों और सांसदों के घरों को आग के हवाले कर दिया है। राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के पैतृक घर को भी सोमवार रात को आग लगा दी गई थी। 

ताज़ा ख़बरें

एनडीटीवी के मुताबिक, महिंदा राजपक्षे और उनका परिवार एक हेलीकॉप्टर में बैठकर नौसैनिक अड्डे तक पहुंचा है। लेकिन इसके बाद इस नौसैनिक अड्डे के बाहर भी प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। यह नौसैनिक अड्डा राजधानी कोलंबो से 270 किलोमीटर की दूरी पर है।

सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हजारों लोग सोमवार की रात को महिंदा राजपक्षे के घर में घुस गए। पुलिस ने इन लोगों को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और इसके बाद सेना ने किसी तरह पूर्व प्रधानमंत्री को वहां से निकाला।

दुनिया से और खबरें

5 की मौत, कई घायल 

श्रीलंका में उग्र होते प्रदर्शनों के बीच हजारों की संख्या में पुलिस और सेना के जवानों को तैनात कर दिया गया है। अब तक हुई हिंसा में 5 लोग मारे जा चुके हैं और 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। 

हालात के लगातार खराब होने की वजह से महिंदा राजपक्षे ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था लेकिन बावजूद इसके लोगों का गुस्सा नहीं थमा है।

Mahinda Rajapaksa taken shelter at a naval base - Satya Hindi

सांसद ने की आत्महत्या

उधर, प्रदर्शनकारियों के साथ हुई झड़प में सांसद अमरकीर्ति अथुकोराला की मौत हो गई है। वह सत्तारूढ़ पार्टी के सांसद थे। सांसद लोगों से बचने के लिए जिस इमारत में छिपे थे, उसे हजारों लोगों ने घेर लिया और इसके बाद सांसद ने अपनी ही रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। 

सरकार की ओर से पुलिस से प्रदर्शनकारियों से सख्ती से निपटने के लिए कहा गया है लेकिन अब पुलिस के लिए भी हालात को संभालना बेहद मुश्किल हो रहा है। 

महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के बाद अब उनके भाई और राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे पर इस्तीफा देने के लिए दबाव बढ़ गया है। प्रदर्शनकारी उनके भी इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें