loader
दो नाबालिग लड़कियों के अपहरण के बाद पाक में प्रदर्शन करते हिंदू समाज के लोग।नायला इनायत/ट्विटर

पाक में जबरन धर्मांतरण, शादी और कभी न ख़त्म होने वाली पीड़ा

पाकिस्तान में आख़िर हिंदू लड़कियों के साथ लगातार ज़्यादती के मामले क्यों आ रहे हैं? अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन और शादी करने के मामले रुक क्यों नहीं रहे हैं? ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि फिर से यह मामला चर्चा में है। पाक में दो हिंदू नाबालिग बहनों का अपहरण कर लिया गया और जबरन धर्म परिवर्तन कराकर अपहरण करने वाले से ही शादी कर दी गयी। इस पर अब कुछ लोगों ने वही घिसा-पिटा तर्क देना शुरू कर दिया है कि दोनों बहनों ने अपनी मर्ज़ी से शादी की है। पाकिस्तान में ऐसे गिने-चुने ही लोग हैं जो दोनों किशोरियों के पिता की आपबीती और उनकी वेदना को सही मान रहे हैं। तो सच्चाई क्या है? क्या यह एक सामान्य घटना है जो कभी-कभार घटती है? कम से कम रिपोर्टें और आँकड़े तो ऐसा नहीं कहते।

ताज़ा ख़बरें

एक स्थानीय मानवाधिकार ग्रुप साउथ एशिया पार्टनरशिप-पाकिस्तान के अनुसार पाकिस्तान में प्रत्येक साल क़रीब एक हज़ार लड़कियों को जबरन धर्म परिवर्तन कराकर मुसलिम बनाते हैं। इसमें से अधिकतर हिंदू लड़कियाँ होती हैं। पाकिस्तान हिंदू काउंसिल के अनुसार ऐसी पीड़ा से छुटकारा पाने के लिए क़रीब 5000 पाकिस्तानी हिंदू प्रत्येक साल देश छोड़कर भारत चले जाते हैं। 

पाकिस्तान के ही एक मीडिया 'हेरल्ड' ने 'मूवमेंट ऑफ़ सॉलिडरिटी एंड पीस इन पाकिस्तान' की 2014 की एक रिपोर्ट का हवाला दिया है। इसमें कहा गया है कि जबरन धर्म परिवर्तन से उन्हें कभी न ख़त्म होने वाली हिंसा को सहना पड़ता है।

अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन और शादी से गुजरने वाली ऐसी पीड़ितों को बाद में सेक्सुअल हिंसा, दुष्कर्म, जबरन देह व्यापार में धकेले जाने, ख़रीद-फ़रोख्त और घरेलू हिंसा जैसी पीड़ा झेलनी पड़ती है।

दरअसल, पाकिस्तान में हिंदू और क्रिश्चियन का जबरन धर्म परिवर्तन आम बात है। कई ऐसी रिपोर्टें आयी हैं कि यह काम बड़े संगठित तरीक़े से होता है। अलग-अलग तरह से धर्म परिवर्तन कराने के मामले आते हैं। 

अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन कराना

सबसे ज़्यादा मामले अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन कराकर शादी करने के मामले आते हैं। ऐसे मामलों में पुलिस आसानी से रिपोर्ट भी दर्ज नहीं करती। कई ऐसी रिपोर्टें छपी हैं जिसमें कहा गया है कि लड़की को धमकाकर यह लिखवा लिया जाता है कि उसने अपनी मर्ज़ी से शादी की है। इसके बाद यह मामला कोर्ट में भी नहीं टिकता है।

आर्थिक सहायता का लालच देकर धर्मांतरण

थार क्षेत्र भारत की सीमा से सटा है और वहाँ बहुत ज़्यादा ग़रीबी है। शायद इसी का फ़ायदा उठाकर और दबाव डालते हुए परिजनों को आर्थिक सहायता का लालच देकर धर्म परिवर्तन कराया जाता है। डॉन अख़बार ने भी इसकी रिपोर्ट की है। 

  • हालाँकि अलग-अलग धर्मों के लड़के-लड़की की शादी होने पर भी ऐसा ही होता है, लेकिन ऐसे मामले ज़्यादा नहीं होते हैं। यदि लड़की हिंदू है तो उसे मुसलिम धर्म अपनाने की मजबूरी होती है। लड़का के हिंदू होने की स्थिति में भी कट्टरपंथी ताक़तों का इतना दबाव रहता है कि लड़के को ही मुसलिम धर्म अपनाना पड़ता है।

सामाजिक संगठन भी लाचार

पाकिस्तान में दशकों से अल्पसंख्यक हिन्दू उत्पीड़न सह रहे हैं। इसकी जब तब पाकिस्तान के ही अंग्रेज़ी अख़बार ‘डॉन’ से लेकर अंतरराष्ट्रीय मीडिया तक में रिपोर्टें छपती रही हैं। उनकी दशा सुधारने के लिए कुछ सामाजिक संगठन, मानवाधिकार आयोग जुटे रहे हैं, लेकिन कट्टरपंथी ताक़तों के आगे ये प्रयास नाकाफ़ी साबित हो जाते हैं।

दुनिया से और ख़बरें

पाक सरकार का प्रयास भी फेल

18 साल से कम उम्र के बच्चों के धर्म परिवर्तन पर रोक के लिए क़रीब दो साल पहले सिंध प्रांत में क़ानून बना था, लेकिन कभी लागू ही नहीं हुआ। कट्टरपंथी मुसलिम संगठनों ने इस क़ानून का विरोध किया और इसे इसलाम विरोधी तक करार दिया था। कुछ समय बाद ही इस क़ानून पर सिंध के गवर्नर ने वीटो कर दिया यानी उन्होंने उस क़ानून को निष्प्रभावी कर दिया। यह एक ऐसा मामला था जिसमें सरकार और सेना को भी कट्टरपंथी ग्रुपों के सामने झुकना बड़ा। हालाँकि यह कोई नयी बात नहीं है, दूसरे मामलों में भी सरकार दर सरकार कट्टरपंथियों का ज़्यादा विरोध नहीं झेल पाती है।

धर्म परिवर्तन के बाद 4 माह का कोर्स! 

डॉन की 17 अगस्त 2017 की एक रिपोर्ट के अनुसार, थार क्षेत्र में धर्म परिवर्तन कराये गये लोगों के लिए उमेर के पास छोर में एक सेट्लमेंट की व्यवस्था है। इसका नाम दिया गया है न्यू इसलामाबाद। जमीयत उलेमा-ए-इसलाम (फज़ल) मदरसा में धर्म परिवर्तन के लिए कलीमा पढ़ने के बाद आने वाले 'नये मुसलिमों' को न्यू इसलामाबाद में रखा जाता है और उन्हें एक कोर्स पूरा करना पड़ता है। इसमें उन्हें इसलाम के मायने समझाये जाते हैं। इस कोर्स के पूरा करने पर उन्हें सनद यानी सर्टिफ़िकेट भी दिया जाता है।

रिपोर्ट के अनुसार, जमीयत उलेमा-ए-इसलाम (फज़ल) मदरसा के प्रमुख के रूप में जाने जाने वाले मुहम्मद याक़ूब कहते हैं कि एक बार में 40 परिवारों को ही न्यू इसलामाबाद में रखा जा सकता है। यहाँ सिर्फ़ धर्म परिवर्तन कर नये मुसलिम बनने वाले लोगों को ही रखा जाता है। एक बार जब वे कोर्स पूरा कर निकल जाते हैं तो फिर नये लोगों को रखा जाता है।

'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, याक़ूब दावा करते हैं कि 15 साल में सिर्फ़ इस जगह पर ही क़रीब 9000 लोगों के धर्म परिवर्तन कराये गये हैं। पिछले साल ही 850 लोगों के धर्म परिवर्तन कराये गये।

धर्म परिवर्तन कराने की क्या है वजह?

डॉन की ही रिपोर्ट में सामाजिक संगठनों के हवाले से कहा गया है कि थार क्षेत्र में ग़रीब हिंदू परिवारों को लालच देकर बड़ी संख्या में मुसलिम बनाया जा रहा है। जमीयत उलेमा-ए-इसलाम (जेयूआई) मदरसा ने तो इसके लिए न्यू मुसलिम वेलफ़ेयर एसोसिएशन भी बना रखा है। यह संगठन धर्म परिवर्तन करने वालों को ईंट और मोर्टार वाले घर, घी आटा, सिलाई मशीन लड़कियों के लिए दहेज और खेती करने के लिए आसपास की ज़मीनें देता है।

  • डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, नागरिक अधिकार समूह सवाल उठाते हैं कि जेयूआई के पास इतना फ़ंड कहाँ से आता है। एक सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा, 'सबसे बड़ा कारण तो यह है कि पाकिस्तान का यह क्षेत्र भारत की सीमा से जुड़ा है और हिंदू कितना भी वफ़ादार हो जाएँ, सरकार संदेह की नज़र से ही देखेगी।’ उनका इशारा इस तरफ़ था कि यह सोची-समझी रणनीति के तहत किया जा रहा है।

डॉन की रिपोर्ट में ऐसे ही संगठनों से जुड़े रमेश वंकवानी के हवाले से कहा गया है, ' जबरन धर्म परिवर्तन का मामला इसलिए भी बढ़ा है क्योंकि हिंदू को इसलाम में धर्म परिवर्तन कराने को 'सवाब का काम' बताया जाता है और इसकी मिसाल दी जाती है। हमें कोई भी सुरक्षा नहीं दे रहा है, सरकार भी नहीं।'

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ख़ास ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें