loader

अमेरिका में परेड के दौरान फायरिंग, 6 लोगों की मौत, कई घायल

अमेरिका में एक बार फिर जबरदस्त फायरिंग हुई है जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई। फायरिंग उस वक्त हुई, जब अमेरिका की आजादी वाले दिन के मौके पर परेड निकाली जा रही थी। हाइलैंड पार्क के शिकागो उपनगर में हो रही इस परेड के दौरान एक बेहद ताकतवर राइफल से छत से गोलियां चलाई गई। इस फायरिंग में 36 लोग घायल हो गए। 

घायलों में से कुछ की हालत बेहद गंभीर है। फायरिंग के बाद पुलिसकर्मियों ने हमलावर को दबोच लिया।

संदिग्ध हमलावर का नाम रॉबर्ट क्रीमो है और उसकी उम्र 22 साल है। फायरिंग की वजह से परेड के दौरान बना माहौल मातम में बदल गया। फायरिंग के बाद लोग दहशत में आ गए और इधर-उधर भागने लगे।

अमेरिका में फायरिंग की लगातार घटनाएं होती रहती हैं और बड़ी संख्या में लोगों की जान इस वजह से जाती है। फायरिंग की वजह से आगे के सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया है। राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनकी पत्नी इस घटना के कारण बेहद दुखी हैं।

ताज़ा ख़बरें

21 लोगों की हत्या

इस साल मई में ही टेक्सास में हुए एक दिल दहला देने वाले हादसे में एक शख्स ने 21 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। मरने वालों में 19 बच्चे भी शामिल थे। कई बच्चे घायल भी हुए थे। हमलावर की उम्र 18 साल थी और उसने इस हत्याकांड को अंजाम देने से पहले अपनी दादी को भी गोली मार दी थी। 

राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस घटना के बाद देश के लोगों से गन लॉबी के खिलाफ खड़े होने की अपील की थी। राष्ट्रपति ने कहा था कि किसी बच्चे का जाना इस तरह है जैसे आपकी आत्मा से एक टुकड़ा काट कर निकाल लिया गया हो। 

मास फायरिंग की घटनाएं

अमेरिका में फायरिंग की छोटी-मोटी घटनाओं के साथ ही मास फायरिंग यानी बड़े स्तर पर फायरिंग होने की घटनाएं भी बीते सालों में हो चुकी हैं। 14 मई को 18 साल के एक हमलावर ने न्यूयॉर्क में 10 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसी दिन कैलिफोर्निया के एक चर्च में भी फायरिंग की घटना हुई थी।

टेक्सास में ही अप्रैल 2021 में बीच सड़क पर गोलीबारी की घटना हुई थी, इसमें तीन लोगों की मौत हुई थी और कई लोग घायल हो गए थे। मार्च 2021 में कोलोराडो में 21 साल के बंदूकधारी ने सुपर मार्केट में गोलियां चलाई थी और 10 लोगों की हत्या कर दी थी। इस तरह की घटनाएं जॉर्जिया और दूसरे इलाकों में भी हुई हैं। 

अगस्त 2012 में विस्कांसिन के एक गुरुद्वारे में प्रार्थना सभा में घुसकर एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी थी जिसमें 7 लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे। गोली चलाने की इस तरह की कई घटनाएं नस्लीय हिंसा से सीधे तौर पर जुड़ी हुई हैं।

दुनिया से और खबरें

बंदूकों को चलाने के लिए दिए जाने वाले लाइसेंस को लेकर अमेरिका में अच्छी खासी बहस छिड़ी हुई है। हाल ही में अमेरिकी संसद में इस संबंध में एक विधेयक भी पास किया है।

लगातार हो रही इस तरह की घटनाओं को देखते हुए अमेरिका की नेशनल राइफल एसोसिएशन ने अमेरिका के गन नियमों को सख़्त बनाने की कोशिश की है लेकिन बावजूद इसके इस तरह की वारदात रुकने का नाम नहीं ले रही हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें