loader

श्रीलंका: सरकार के सभी 26 मंत्रियों का इस्तीफ़ा, राजपक्षे पीएम बने रहेंगे

श्रीलंका में लगातार बिगड़ते हालात के बीच वहां की सरकार के सभी 26 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है। इन सभी 26 मंत्रियों ने रविवार रात को एक अहम बैठक के बाद इस्तीफा दिया। लेकिन महिंदा राजपक्षे प्रधानमंत्री के पद पर बने रहेंगे। बीते हफ्ते राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने आपातकाल लगाने की घोषणा की थी। 

रविवार को बड़ी संख्या में छात्र सड़कों पर उतर आए थे और उन्होंने मुल्क में चल रही आर्थिक बदहाली के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया था। पुलिसकर्मियों को उन्हें हटाने के लिए पानी की बौछार करनी पड़ी थी। 

छात्र सरकार की ओर से लगाए गए वीकेंड कर्फ्यू का भी विरोध कर रहे थे। बीते हफ्ते बड़ी संख्या में लोगों ने कोलंबो में प्रदर्शन किया था और राष्ट्रपति के आवास तक मार्च निकालने की कोशिश की थी। तब उनकी पुलिस के साथ झड़प हुई थी। लोगों की मांग थी कि राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे को हटा दिया जाना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले विपक्षी नेताओं ने राजधानी कोलंबो में मार्च निकाला और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। लगातार प्रदर्शनों से घबराई हुई सरकार ने शनिवार को ही सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बैन लगा दिया था। इस बैन को रविवार दोपहर को हटा लिया गया।

ईंधन, खाने का सामान, दवाएं और दूसरी जरूरी चीजों की जबरदस्त किल्लत के खिलाफ लोग लगातार आवाज बुलंद कर रहे हैं। इसे लेकर अभी तक 600 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

श्रीलंका में हालात इस कदर खराब हैं कि लोगों को पेट्रोल और डीजल तक मिलना मुश्किल हो गया है। बिजली का उत्पादन नहीं होने से हर दिन 10 घंटे से ज़्यादा का पावरकट लग रहा है। स्कूलों में परीक्षाएं ठप हैं और जरूरी दवाएं भी लोगों को नहीं मिल पा रही हैं।

कोलंबो के अलावा गाले, मतारा और मोरातुवा शहरों में भी सरकार विरोधी प्रदर्शन हुए हैं और इन जगहों पर लोगों ने सड़कों को जाम कर दिया। हालात को देखते हुए मुल्क में पुलिस और सेना को अलर्ट पर रखा गया है।

sri lanka economic crisis Ministers Resign - Satya Hindi

निशाने पर राजपक्षे 

आर्थिक नीतियों के मामले के अलावा राष्ट्रपति राजपक्षे परिवारवाद को लेकर भी आलोचकों के निशाने पर हैं। उनके भाई महिंदा राजपक्षे श्रीलंका के प्रधानमंत्री रह चुके हैं जबकि छोटे भाई बासिल राजपक्षे वित्त मंत्री हैं। राजपक्षे के बड़े भाई और भतीजे राजपक्षे की कैबिनेट में हैं। 

दुनिया से और खबरें
आने वाले दिनों में अगर लोगों को जरूरत की चीजें सही वक्त पर और सही क़ीमत पर नहीं मिली तो हालात के और बिगड़ने से इनकार नहीं किया जा सकता।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें