loader
facebook

मसूद अज़हर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करने के लिए सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पेश

भारत और पाकिस्तान के बीच हर क्षण बढ़ रहे तनाव और आतंकवादियों के अपने देश में होने से पाकिस्तान के इनकार करने के बीच भारत के लिए एक अच्छी ख़बरी है। दरअसल अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने मिलकर मसूद अज़हर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कराने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पेश किया है।
अगर यह प्रस्ताव पारित हो जाता है तो जैश-ए-मुहम्मद के दिन उसी दिन से ढलने शुरू हो जाएंगे। मसूद पर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी होने का ठप्पा लग जाएगा, जिस कारण न तो वो दुनिया में घूम सकता है और न ही व्यापार कर सकता है।

चीन पर रहेगी नज़र

बता दें कि वीटो पावर वाले इन तीनों देशों ने बुधवार को ही सुरक्षाा परिषद में यह प्रस्ताव पेश कर दिया। इस प्रस्ताव को  रूस का भी साथ मिलेगा क्योंकि रूस पहले भी जैश पर प्रतिबंध लगाने के पक्ष में रहा है। इसके इतर जिस पर सबकी निगाहें होंगी, वह देश है चीन। चीन ही एक ऐसा देश है जो वीटो का प्रयाग कर अज़हर को बचाता आया है।
बता दें कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा ज़िले में हुए आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी जैश ने ही ली थी। हमले के कुछ देर बाद ही उसने एक वीडियो जारी कर इसकी ज़िम्मेदारी ली, जिसमें भारत के 40 सीआरपीएफ़ जवान मारे गए थे। 
ऐसा नहीं है कि जैश का भारत पर यह पहला हमला है। इससे पहले भी वह 2001 में भारतीय संसद पर, 2016 में पठानकोट और उरी पर हमले करा चुका है।
पाकिस्तान हमेशा ही अपनी ज़मीन पर चल रहे आतंकियों को संरक्षण ही नहीं देता है, अपनी सीमा में आतंकवादियों के होने से भी इंकार करता रहा है। वहां हाफ़िज सईद, मसूद अज़हर जैसे खूंखार आंतकवादी खुले घूमते हैं और उनपर कोई रोक टोक नहीं है। अगर तीनों देशों द्वारा मसूद अज़हर के ख़िलाफ़ पेश किया गया प्रस्ताव पास हो जाता है तो पाकिस्तान के मुँह पर एक क़रारा तमाचा होगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें