loader

ख़ुशख़बरी: शुरुआती ट्रायल में ऑक्सफ़ोर्ड की कोरोना वायरस की वैक्सीन सुरक्षित

कोरोना वायरस वैक्सीन पर अच्छी ख़बर आई है। शुरुआती ट्रायल में ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित वैक्सीन सुरक्षित है और इसमें प्रतिरोधक क्षमता भी पाई गई है। इंसानों पर किए ट्रायल के नतीजे सोमवार को द लांसेट पत्रिका में छापे गए हैं। रिसर्च पेपर में बताया गया है कि कोरोना वायरस वैक्सीन ChAdOx1 nCoV-19 किसी के शरीर में दिए जाने पर वायरस के ख़िलाफ़ प्रतिरोधक क्षमता पाई गई। इस शुरुआती परिणाम से पूरी दुनिया भर में करोड़ों लोगों में एक उम्मीद की किरण जागी है। इसके साथ ही अब इसे अगले चरण के ट्रायल के लिए भी हरी झंडी मिल गई है। कहा जा रहा है कि दुनिया भर में ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन ही सबसे एडवांस स्टेज में है। 

ताज़ा ख़बरें
वैक्सीन की शुरुआती सफलता दुनिया भर के करोड़ों लोगों के लिए राहत की ख़बर लेकर आई है। दुनिया भर में क़रीब 1 करोड़ 45 लाख संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 6 लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हर रोज़ क़रीब 2 लाख से लेकर सवा दो लाख तक नये संक्रमण के मामले आ रहे हैं। फ़िलहाल भारत में स्थिति यह है कि 11 लाख से ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले आ चुके हैं, 26 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और इस मामले में यह फ़िलहाल तीसरे स्थान पर है। पहले स्थान पर अमेरिका है। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, अमेरिका में 37 लाख 73 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले हैं और एक लाख 40 हज़ार से ज़्यादा मौतें हुई हैं। ब्राज़ील में 20 लाख 98 हज़ार संक्रमण के मामले हैं और क़रीब 80 हज़ार लोगों की मौत हुई है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की इस वैक्सीन का ब्रिटेन, ब्राज़ील और दक्षिण अफ़्रीका सहित कई जगहों पर व्यापक रूप से परीक्षण किया गया। यह परीक्षण फ़िलहाल एडवांस स्टेज में है। दूसरे फेज में 18-55 साल की उम्र के लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल किया गया। कुल 56 दिन तक चले ट्रायल में 23 अप्रैल से 21 मई के बीच जिन लोगों को वैक्सीन दी गई थी उनमें सिरदर्द, बुखार, बदन दर्द जैसी शिकायतें पैरासिटमॉल से ठीक हो गईं। रिपोर्ट में कहा गया है कि ज़्यादा गंभीर दुष्प्रभाव नहीं हुए।

इस रिसर्च के बारे में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रमुख लेखक एंड्रयू पोलार्ड ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि इसका मतलब है कि इम्यून सिस्टम यानी प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस को याद रखेगी, ताकि हमारी वैक्सीन एक लंबी अवधि के लिए लोगों की रक्षा करेगी।' 

उन्होंने यह भी कहा, 'हालांकि, हमें और अधिक शोध की आवश्यकता है इससे पहले कि हम इस बात की पुष्टि कर सकें कि टीका प्रभावी रूप से कोरोना वायरस संक्रमण से बचाता है और कितने समय तक यह सुरक्षा देता है।'

दुनिया से और ख़बरें

इस मामले में ऑक्सफोर्ड, इंग्लैंड सरकार और बायोफार्मा प्रमुख एस्ट्राजेनेका के बीच पहले से ही आपसी सहयोग किया जा रहा है ताकि अंतिम परिणाम सकारात्मक होने पर वैक्सीन बड़े पैमाने पर बनाई जा सके। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया इसके उत्पादन के लिए वैश्विक साझेदारों में से एक है।

बता दें कि इसके अलावा भी कोरोना वायरस का टीका बनाने के प्रयास जारी हैं। कई देशों में मानव पर दूसरे चरण के ट्रायल किए जा रहे हैं जबकि कई देशों में पहले चरण में ट्रायल शुरू किए जा चुके हैं। भारत में भी पहले चरण का ट्रायल शुरू हो चुका है। भारत में भी कम-से-कम सात कंपनियाँ वैक्सीन बनाने के काम में जुटी हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें