loader
चीन में लॉकडाउन और कोरोना प्रतिबंधों के खिलाफ प्रदर्शन करते छात्र।

विद्रोह का डरः चीन में यूनिवर्सिटी छात्रों को घर भेजा जा रहा

चीन की सरकार बढ़ते विरोध प्रदर्शनों से इतना डर गई है कि अब यूनिवर्सिटी, कॉलेजों के छात्रों को उनके घरों पर वापस भेजा जा रहा है। ढेरों हॉस्टल खाली करा लिए गए हैं। छात्रों से कहा गया है कि वे घर से ऑनलाइन परीक्षा दे सकते हैं, पढ़ाई कर सकते हैं। 

न्यूज एजेंसी एपी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि चीनी विश्वविद्यालय छात्रों को घर भेज रहे हैं क्योंकि चीन ने कोविड नियंत्रण को कड़ा कर दिया है। हालांकि मंगलवार को बीजिंग, शंघाई या अन्य प्रमुख शहरों में मंगलवार को शांति रही, कोई विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ। इसकी एक वजह यह भी है कि जगह-जगह भारी पुलिस बल तैनात है।

ताजा ख़बरें
चीन प्रशासन ने आठ शहरों में विरोध प्रदर्शनों के बाद जनता के गुस्से को कम करने की कोशिस में सोमवार को कुछ प्रतिबंधों में ढील दी थी। लेकिन सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने साफ कर दिया कि कोविड पर जीरो टॉलरेंस नीति में कोई कमी नहीं आएगी। इसका मतलब यह है कि लोगों को घरों में ही रहना होगा।
राष्ट्रपति शी जिनफिंग के पूर्व विश्वविद्यालय सिंघुआ यूनिवर्सिटी में रविवार को छात्रों के प्रदर्शन ने सरकार को ज्यादा चिंतित किया। यही वजह है कि बीजिंग और दक्षिणी प्रांत ग्वांगडोंग के अन्य स्कूल-कॉलेजों ने कहा कि वे छात्रों को वापस घरों को भेज रहे हैं। कुछ विश्वविद्यालयों ने छात्रों को रेलवे स्टेशनों तक ले जाने के लिए बसों की व्यवस्था की है। छात्रों से कहा गया है कि उनकी क्लास और अंतिम परीक्षा ऑनलाइन होगी।

एपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि बीजिंग फॉरेस्ट्री यूनिवर्सिटी ने अपनी वेबसाइट पर लगाए गए नोटिस में कहा, हम छात्रों को उनके शहरों में लौटने की व्यवस्था करेंगे। ताकि छात्रों को कोविड वायरस से बचाया जा सके।

चीन को क्या डर है

1980 के दशक में लोकतांत्रिक सुधारों के लिए जो आंदोलन हुआ था, उसकी शुरुआत चीन के छात्रों ने की थी। बीजिंग के थियानमेन स्क्वायर पर 1989 में बहुत बड़ा छात्र आंदोलन हुआ, जिसे चीन की सेना ने बेरहमी से कुचल दिया था। चीनी राजनीति के विशेषज्ञ प्रोफेसर डाली यांग ने कहा, छात्रों को घर भेजकर, अधिकारी शांति की उम्मीद कर रहे हैं। छात्र महीनों से कैंपस में बंद हैं। उनके लिए नौकरी की संभावनाएं खत्म हो गई हैं। आर्थिक मंदी निराशा को बढ़ा रही है।

हांगकांग में प्रदर्शन

इस बीच हांगकांग में, चीन के लगभग 50 छात्रों ने हांगकांग के चीनी विश्वविद्यालय में समर्थन में सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने मोमबत्तियां जलाईं और नारे लगाए- हमें पीसीआर टेस्ट नहीं बल्कि आजादी दो! तानाशाही का विरोध करो, गुलाम मत बनो! लोकतंत्र समर्थक आंदोलन को कुचलने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों के बाद हांगकांग में यह सबसे बड़ा विरोध था।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें