loader

कई देशों में दिखने लगी कोरोना की 'सुनामी'! अमेरिका-फ्रांस में रिकॉर्ड केस

डब्ल्यूएचओ जब कोरोना की सुनामी आने की चेतावनी दे रहा था तब दुनिया भर के कई देशों में रिकॉर्ड कोरोना संक्रमण के मामले आने भी लगे थे। अमेरिका में एक दिन पहले 4 लाख 65 हज़ार केस आए। यह संख्या एक दिन में अब तक किसी भी देश में आए संक्रमण के मामलों से ज़्यादा है। भारत में भी दूसरी लहर के दौरान 6 मई को एक दिन में क़रीब 4 लाख 14 हज़ार मामले ही आए थे। 

अमेरिका के अलावा फ्रांस में भी एक दिन पहले रिकॉर्ड 2 लाख 8 हज़ार मामले आए। ब्रिटेन में 1 लाख 83 हज़ार, स्पेन में 1 लाख से ज़्यादा, इटली में 98 हज़ार और यूरोप के दूसरे देशों में भी काफ़ी ज़्यादा संक्रमण के मामले आ रहे हैं।

usa france uk register record positive cases as who warns of tsunami  - Satya Hindi
एक दिन पहले बुधवार को संक्रमण के मामले। आँकड़े: वर्ल्डओमीटर्स इंफो

दुनिया भर के देशों में संक्रमण के मामले तब बढ़ रहे हैं जब कोरोना के नये वैरिएंट ओमिक्रॉन काफ़ी तेज़ी से फैल रहा है। दुनिया भर के विशेषज्ञ इस वैरिएंट को लेकर कह रहे हैं कि यह डेल्टा से भी काफ़ी ज़्यादा तेज़ गति से फैलता है। हालाँकि, अब तक के शोध बता रहे हैं कि यह उतना घातक नहीं है। शुरुआत से ही यह रिपोर्ट आ रही है कि इसके लक्षण हल्के हैं। लेकिन इस बात को लेकर आगाह किया जा रहा है कि एक साथ में बड़ी आबादी के संक्रमित होने पर स्वास्थ्य व्यवस्था स्थिति को संभाल नहीं पाएगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस ने दुनिया भर में कोरोना मामलों में वृद्धि पर चिंता व्यक्त की। घेब्रेयसस ने कहा कि वह कोरोनो के ओमिक्रॉन और डेल्टा वैरिएंट के बारे में चिंतित हैं और दोनों मिलकर संक्रमण की सुनामी लाएँगे। 

ताज़ा ख़बरें

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा है कि अगर ऐसा होना जारी रहता है तो इससे स्वास्थ्य कर्मियों पर जबरदस्त दबाव पड़ेगा और हमारा स्वास्थ्य ढांचा ध्वस्त होने की कगार पर पहुंच जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य ढांचे पर जो दबाव पड़ा है वह सिर्फ कोरोना के नए मरीजों की वजह से ही नहीं है बल्कि बड़ी संख्या में बीमार होते स्वास्थ्य कर्मियों की वजह से भी है। 

डब्ल्यूएचओ की इस चेतावनी के बीच ही कई देशों में संक्रमण के मामलों की बाढ़ आ गई है। अमेरिका में पहली बार साढ़े 4 लाख से ज़्यादा केस आए हैं। इससे पहले जनवरी में दूसरी लहर के दौरान ढाई से तीन लाख के बीच पॉजिटिव केस आ रहे थे। हालाँकि तब और अब के बीच अंतर यह है कि दूसरी लहर के दौरान अमेरिका में जहाँ हर रोज़ 4 हज़ार से भी ज़्यादा मौतें होने लगी थीं वहीं मौजूदा लहर के दौरान मृतकों की संख्या डेढ़ से दो हज़ार के बीच है।

अमेरिका में पिछले 28 दिन में 49 लाख से ज़्यादा मामले आ चुके हैं। इसके बाद ब्रिटेन में इतने ही दिनों में क़रीब 23 लाख मामले आ चुके हैं। ब्रिटेन में हर रोज़ 1 लाख 80 हज़ार से ज़्यादा मामले आने लगे हैं। इससे पहले दूसरी लहर के दौरान जनवरी में वहाँ अधिकतम मामले क़रीब 55 हज़ार आए थे। तब हर रोज़ वहाँ 1500-1800 लोगों की मौत हो रही थी, लेकिन अब 50 से लेकर 200 लोगों के बीच ही मौत हुई है। 

फ्रांस में भी मौजूदा हालात बेकाबू हो गए लगते हैं। छोटी आबादी वाले इस यूरोपीय देश में अब 2 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आने लगे हैं।

जबकि इससे पहले फ्रांस में दूसरी लहर के दौरान भी आम तौर पर सबसे ज़्यादा मामले क़रीब 50 हज़ार के आसपास आते रहे थे। यहाँ भी मौत के मामले इस बार बेहद कम हैं। 

दुनिया से और ख़बरें

इन देशों के अलावा इटली में भी हर रोज़ 1 लाख से ज़्यादा केस आने लगे हैं। इनके अलावा ग्रीस, पुर्तगाल, डेनमार्क, बेल्जियम, नीदरलैंड्स जैसे यूरोपीय देशों में भी संक्रमण के मामले बढ़े हुए हैं। दुनिया के दूसरे देशों में भी संक्रमण के मामले काफ़ी तेज़ी से बढ़ रहे हैं। 

पूरी दुनिया में तो अब एक दिन में 16 लाख से ज़्यादा नये पॉजिटिव केस आ रहे हैं। दुनिया भर में अब तक 28 करोड़ से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं। इसमें से 25 करोड़ से ज़्यादा ठीक हो चुके हैं। 54 लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 2 करोड़ 28 लाख फ़िलहाल संक्रमित हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें