loader

डब्ल्यूएचओ ने चेताया, अब अमेरिका हो सकता है कोरोना महामारी का केंद्र

अमेरिका में कोरोना वायरस के तेज़ी से फैलने पर विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने चेताया है कि यूरोप के बाद अब कोरोना महामारी का केंद्र अमेरिका हो सकता है। सबसे ज़्यादा कोरोना पॉजिटिव केसों के मामले में चीन और इटली के बाद अमेरिका तीसरे नंबर पर आ गया है। पिछले एक हफ़्ते में वहाँ इन मामलों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है। एक दिन पहले ही अमेरिका में सिर्फ़ एक दिन में ही 11 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही वहाँ 54 हज़ार से ज़्यादा पॉजिटिव केस आ चुके हैं, जबकि चीन में क़रीब 81 हज़ार और इटली में क़रीब 69 हज़ार। 

ताज़ा ख़बरें
फ़िलहाल यूरोप इस महामारी का केंद्र है। यूरोप में इटली, स्पेन, जर्मनी और फ्रांस में सबसे ज़्यादा मामले सामने आए। इटली में हालत बिगड़ने का ही नतीजा था कि डब्ल्यूएचओ ने क़रीब 10 दिन पहले कहा था कि कोरोना वायरस महामारी का केंद्र यूरोप हो गया है। पहले यह चीन में था। चीन ही वह देश है जिसके वुहान शहर में इस वायरस का पहला मामला सामने आया था। तब डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि हर रोज़ अब यूरोप में उतने पॉजिटिव केस आ रहे हैं जितने केस चीन में भी कभी नहीं आए थे। अब वैसी ही स्थिति अमेरिका में भी बनने लगी है। 
दुनिया से और ख़बरें

अमेरिका में स्थिति बिगड़ने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप निशाने पर हैं। आरोप लगाया जा रहा है कि ट्रंप प्रशासन ने इस महामारी को नियंत्रित करने के लिए तेज़ी नहीं दिखाई और इस पूरे मामले में लचर रवैया अपनाया। आरोप ये भी लगाए जा रहे हैं कि चीन के बाद यूरोप के देशों में हालत बिगड़ने पर भी ट्रंप सरकार नहीं चेती और सख़्त क़दम नहीं उठाए गए। इसी कारण अब यह वायरस तेज़ी से फैल रहा है। पॉजिटिव मामले तो तेज़ी से बढ़े ही हैं, मौत के मामले भी हाल के दिनों में ज़्यादा आए हैं। 

अमेरिका में अब तक साढ़े सात सौ से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। इटली में सबसे ज़्यादा 6820 मौतें हुई हैं, जबकि चीन में 3281, स्पेन में 2991, जर्मनी में 159 और फ्रांस में 1100 लोगों की। पूरी दुनिया में अब तक 4 लाख 22 हज़ार से ज़्यादा पॉजिटिव केस आ चुके हैं और 18 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौतें हो चुकी हैं। 

Satya Hindi Logo Voluntary Service Fee स्वैच्छिक सेवा शुल्क
गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने और 'सत्य हिन्दी' को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए आप हमें स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) चुका सकते हैं। नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें:
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें