loader

पक्षपाती जाँच सैंपलिंग की मीडिया रिपोर्टिंग ने तब्लीग़ी जमात को बना दिया विलेन?

पूरी दुनिया की तरह भारत भी कोरोना वायरस की महामारी से लड़ रहा है। पर एक अंतर है। पिछले एक सप्ताह से यहाँ के लोग इस महामारी के बारे में सिर्फ़ एक ही बात की अनावश्यक चर्चा कर रहे हैं– मुसलमानों के धार्मिक समूह तब्लीग़ी जमात से इसके जुड़ाव की।

तब्लीग़ी जमात का एक कार्यक्रम इस वर्ष मार्च के शुरू में दिल्ली में आयोजित हुआ। दक्षिण पूर्व एशिया के अलावा देश भर से आए जमात के सदस्यों ने इसमें शिरकत की। बाद में यह पता चला कि इसमें शामिल होने वाले कुछ लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे। जब यह कार्यक्रम समाप्त हुआ तो वे लोग जो अलग-अलग राज्यों से इसमें शामिल होने आए थे, अपने घर लौट गए और ज़ाहिर है कि वे संक्रमण के साथ लौटे।

इस बात में कोई संदेह नहीं कि इस आयोजन से संक्रमण फैला लेकिन इस बारे में समाचार माध्यमों में जो रिपोर्टिंग हुई उसमें इसको कुछ इस तरह से पेश किया गया कि भारत में इसी कार्यक्रम ने मुख्य रूप से कोरोना का संक्रमण फैलाया है। सवाल उठता है कि यह कितना सही है। विशेषज्ञ मानते हैं कि ऐसा कहना क़तई सही नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

आधा सच!

अब उदाहरण के लिए, ज़रा ‘इंडिया टुडे’ के इस आँकड़े पर ग़ौर करें।

coronavirus outbreak tablighi jamaat test sample partial media reporting - Satya Hindi

वैसे तो इसलाम के प्रति ख़ौफ़ पैदा करने वाले कोरोना के इस ग्राफ़िक की काफ़ी आलोचना हुई, पर इसमें जो आँकड़े दिए गए हैं, उसमें भी कई गड़बड़ियाँ हैं। ‘इंडिया टुडे’ हमें तब्लीग़ से जुड़े संक्रमण के अनुपात के बारे में बताता है, पर ग्राफ़िक हमें यह नहीं बताता कि उन तब्लीग़ के मामलों का अनुपात क्या था जिसकी जाँच हुई और जिसके आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया।

भारतीय मीडिया में हर जगह इस तथ्य को नज़रअंदाज़ किया गया। उदाहरण के लिए, ‘द इकोनॉमिक टाइम्स’, ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि ‘पिछले दो दिनों में जितने भी कोरोना के मामले हुए हैं उसमें 95% का संबंध तब्लीग़ी जमात के कार्यक्रम से रहा है’ लेकिन इस अख़बार ने अपने पाठकों को यह नहीं बताया कि पिछले दो दिनों में कितने लोगों की जाँच हुई।

अगर यह नहीं बताया जाता है कि कुल कितने लोगों की जाँच की गई तो तब्लीग़ी जमात कार्यक्रम के प्रभाव के बारे में दिए गए पहले के आँकड़े का कोई मतलब नहीं है।

उदाहरण के लिए, अगर 1 से 3 अप्रैल के बीच जिन भारी संख्या में लोगों की जाँच हुई वे सब तब्लीग़ी सदस्य थे, तब तो यह कहा जा सकता है कि कोरोना के जितने मामले की पुष्टि हुई वे सब के सब इस समूह से जुड़े थे। 

सैम्प्लिंग पूर्वग्रह 

बिहेव्यरल एंड डिवेलप्मेंट अर्थशास्त्री सौगतो दत्ता बताते हैं कि कुल पुष्ट मामले जिनको दिल्ली के कार्यक्रम से जोड़ा जा रहा है, भ्रामक हैं क्योंकि अथॉरिटीज़ ने दूसरे कार्यक्रमों में शिरकत करनेवालों की जाँच और उसका पता इतनी ही शिद्दत से नहीं लगाया है। दत्ता ने कहा कि यह मूल रूप से सैंपलिंग पूर्वाग्रह है : चूँकि इस विशेष समूह के ज़्यादा लोगों की जाँच की गई है और देश में कुल जाँच कम हुई है, इस बात में कोई आश्चर्य नहीं कि भारी संख्या में पुष्ट मामलों का दोष इस समूह के मत्थे मढ़ दिया गया है।

चूँकि अन्य सभी दूसरे मामलों में सिर्फ़ ऐसे लोगों की जाँच की गई है जिनमें इसके लक्षण थे लेकिन तब्लीग़ के कार्यक्रम में भाग लेने वाले उन लोगों की भी जाँच की गई है जिनमें यह लक्षण नहीं थे। यह अपने आप में पक्षपात का सबसे बड़ा स्रोत है क्योंकि कोरोना वायरस से संक्रमण वाले लोगों में एक बहुत बड़ा वर्ग ऐसा होता है जिसमें इसका लक्षण कभी प्रकट ही नहीं होता।

फिर, भारत के विभिन्न राज्यों का प्रशासन उन लोगों के पीछे पड़ा हुआ है जो जमात के इस कार्यक्रम में शामिल हुए और उन्हें जाँच से गुज़रने का आदेश दिया जा रहा है। कई राज्यों ने तो धमकी दे दी है कि अगर कोई व्यक्ति जिसने जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया है और वह सामने नहीं आता है, तो उसके ख़िलाफ़ कड़ी क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी। पर अन्य समूहों के बारे में इस तरह के आदेश नहीं दिए गए हैं।

विश्लेषण से और ख़बरें

इन दोनों बातों की वजह से बड़ी संख्या में तब्लीग़ के लोगों की जाँच हुई और जिसके कारण उनमें पुष्ट मामलों का अनुपात बहुत ही अधिक रहा है।

दत्ता का कहना है कि ‘अगर ज़्यादा जाँच की जाएगी तो तसवीर स्पष्ट हो जाएगी : इस बारे में जो अधिकांश रिपोर्टिंग हुई है उसमें इस एक समूह के पुष्ट मामलों को बढ़ा-चढ़ाकर बताने की प्रवृत्ति देखी गई है। जब एक से अधिक समूह की जाँच उसी तरह होगी जिस तरह तब्लीग़ी जमात की हुई है तो यह सनसनीख़ेज़ आँकड़ा नीचे आ जाएगा’। 

जोयोजीत पाल मिशिगन के स्कूल ऑफ़ इन्फ़ॉर्मेशन में एसोसिएट प्रोफ़ेसर हैं। वह भी इस बात से सहमत हैं : ‘जमात के लोगों में पुष्ट मामले का जो आँकड़ा दिया जा रहा है उसका मतलब तभी है जब सैंपलिंग के बारे में भी सूचना दी जाए। अगर प्रेस यह कह रहा है कि 60% मामले जमात से जुड़े हैं, तो उन्हें हमें यह भी बताना चाहिए कि जिन लोगों की जाँच हुई है उनमें से जमात से जुड़े लोगों का अनुपात क्या रहा है।’ पाल ने बताया, ‘आँकड़ों के बारे में रिपोर्टिंग करते हुए प्रेस के एक बड़े हिस्से ने इससे जुड़े आधारभूत सिद्धांत को नज़रअंदाज़ किया है, और मामले को सनसनीख़ेज़ बनाया है और इससे भी ज़्यादा, आँकड़ों की ग़लत रिपोर्टिंग की है’।

इसे विडंबना ही कहेंगे कि तब्लीग़ से जुड़े कोरोना वायरस के जो मामले सामने आए हैं और इसको जिस तरह से सनसनीख़ेज़ बनाकर पेश किया गया है, वह इस कार्यक्रम के आयोजन की प्रकृति की वजह से संभव हो पाया क्योंकि इससे अथॉरिटीज़ के लिए सम्पर्कों का पता लगाना आसान हो गया।

‘अथॉरिटीज़ सम्पर्कों का पता लगा पाए और शीघ्रता से उन्होंने भारी संख्या में इस कार्यक्रम से जुड़े लोगों की जाँच भी कर ली जो सिर्फ इस कार्यक्रम के आयोजन के तरीक़े के कारण संभव हो पाया’, ऐसा कहना था सौगतो दत्ता का। ‘हमें नहीं पता कि धार्मिक या किसी और तरह के दूसरे समूह कोरोना वायरस का संक्रमण कैसे फैलाते क्योंकि जमात के विपरीत, उनकी इतनी सघन तरीक़े से जाँच नहीं की गई है’।

आरोपों की झड़ी 

इसे दुर्भाग्य ही कहा जा सकता है कि इस सांख्यिकीय ग़लती ने कई बड़े पत्रकारों और यहाँ तक कि केंद्र सरकार को भी यह विश्वास दिला दिया कि इस देश में कोरोना को मुख्य रूप से तब्लीग़ ने फैलाया है। एक पत्रकार ने तो इस संगठन पर “कोविड-19 के ख़िलाफ़ देश की लड़ाई को अकेले कमज़ोर कर देने’ का आरोप भी लगा दिया।

इतना ही नहीं, इसकी वजह से कोविड-19 पर सांप्रदायिक रंग चढ़ा दिया गया और भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल और कुछ समाचार संगठनों ने तो मुसलमानों पर यह महामारी फैलाने के बेतुके आरोप भी लगा दिए। 

साभार: स्क्रॉल (मूल लेख अंग्रेज़ी में है। इसका अनुवाद अशोक झा ने किया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शोएब दानियाल
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें