loader

बेरोज़गारी पर फ़ज़ीहत से सरकार को बचाने के लिए नीति आयोग ने बोला था झूठ

31 जनवरी 2019 को राष्ट्रीय मीडिया (प्रिंट और टीवी) में नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार का बयान छपा, जिसमें कहा गया था कि 'बिज़नेस स्टैंडर्ड' समेत मीडिया के दूसरे हिस्सों में नेशनल सैंपल सर्वे ऑफ़िस (एनएसएसओ) की जो रिपोर्ट छपी है वह सिर्फ एक ड्राफ़्ट है, अभी यह तैयार हो रही है, तैयार होते ही हम इसे जारी करेंगे।' 

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी यानी सीईओ अमिताभ कान्त ने भी यही दोहराया। उन्होंने उस ख़बर का खंडन किया जिसमें बताया गया था कि वर्ष 2017-18 में बेरोज़गारी बढ़ने की दर 45 वर्षों का रिकार्ड तोड़ कर सबसे ज्यादा हो गई है।

इसके बाद लगभग हर दूसरे दिन विभिन्न अख़बारों में सांख्यिकी आयोग के प्रमुख पी.सी. मोहनन और विशेषज्ञ सदस्य जे. वी. मीनाक्षी, जिन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया था, उनके हवाले से ख़बरें छपती रहीं। मोहनन के साक्षात्कार भी छपे, जिसमें पूरी प्रक्रिया समझाई गई थी। यह कहा भी गया था कि रिपोर्ट पूरी करके अनुमोदित की जा चुकी है और सरकार इसे छिपाये बैठी है, क्योंकि आँकड़े मन मुताबिक़ नहीं  हैं। एनएसएसओ के आँकड़े पहली बार तो सामने आए नहीं, हमेशा से आते रहे हैं। पर चूँकि इस बार आम चुनाव वर्ष होने के नाते सरकार वह हर बात छिपाने में लगी है जो उसको मतदाताओं  के सामने अक्षम साबित करे, तो इस लिहाज़ से यह बड़ी गंभीर बात थी। 
Did Niti Ayog deputy chief tell lies to defend government? - Satya Hindi
सांख्यिकी आयोग के प्रमुख पी. सी. मोहनन ने इस्तीफ़ा दे दिया था।

पर जिस तरह नीति आयोग ने सामने आकर प्रेस कॉन्फरेंस कर रिपोर्ट को सीधे-सीधे नकार दिया था, उससे लोगों में दूसरी धारणा भी बन रही थी, जैसी आजकल लगभग हर मामले में बना दी जा रही है। 

सोमवार को लोकसभा में केंद्रीय श्रम व रोज़गार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने एक लिखित जवाब में संसद को बताया कि रोज़गार और श्रम शक्ति की संख्या की गणना करने वाली यह रिपोर्ट दिसंबर 2018 में ही मंज़ूर हो चुकी थी। मोहनन ने भी तो ठीक यही कहा था!

श्रम मंत्री गंगवार ने रिपोर्ट जारी न करने की वजह यह बताई कि अभी त्रैमासिक विवरण तैयार नहीं हो पाए हैं, इसलिए यह रिपोर्ट जारी नहीं की गई है। इस लोकसभा का यह आख़िरी सत्र है, इसके बाद आम चुनाव ही हैं। जल्द ही आचार संहिता लग जाएगी और सरकार ज़िम्मेदारी से मुक्त हो जाएगी।

फिर भी यह सवाल जीवित ही रहेगा कि नीति आयोग ने झूठ क्यों बोला?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शीतल पी. सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें