loader

डिटेंशन कैंप में पिता की मौत पर बेटे ने मोदी से पूछा, कहाँ रखा था उनको?

विदेशी न्यायाधिकरण द्वारा विदेशी घोषित तथा डिटेंशन कैंप में मारे गए दुलाल चंद्र पाल के परिवार वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर आगबबूला हैं, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं है। दुलाल पाल के 29 वर्षीय बेटे आशीष ने कहा कि यदि भारत में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं है, तो प्रधानमंत्री को यह बताना चाहिए कि मेरे पिता मरने के पहले दो साल तक कहाँ रखे गए थे। उन्हें कहाँ हवालात में रखा गया था। 

सम्बंधित खबरें
बता दें कि दुलाल पाल को शोणितपुर ज़िले के तेजपुर स्थित डिटेंशन कैंप में रखा गया था। पाल को विदेशी न्यायाधिकरण ने विदेशी घोषित किया तो 2017 से उन्हें दो साल तक तेजपुर के डिटेंशन कैंप में रखा गया। पाल को गंभीर बीमारी के बाद गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ 13 अक्टूबर को डिटेंशन में रहते ही उनकी मौत हो गई। आशीष कहते हैं कि मोदी सरकार अब बांग्लादेशी प्रवासियों को नागरिकता देने जा रही है, जबकि मेरे पिता भारतीय होते हुए भी विदेशी के रूप में मरे। उन्होंने कहा, ‘जो सरकार अपने लोगों के साथ न्याय नहीं कर सकती वह अब विदेशी लोगों को लाकर उन्हें भारतीय बनाने जा रही है जो कि एक विडम्बना है।’ 

पाल के बेटे ने आगे कहा कि हमारे पास 1956 के काग़ज़ात थे, फिर भी पिताजी को विदेशी घोषित किया गया और डिटेंशन सेंटर भेज दिया गया। पाल के सभी परिवारवाले भारतीय के रूप में रह रहे हैं, तब पाल को अपने जीवन के अंतिम दिन डिटेंशन सेंटर में गुज़ारने पड़े। उन्होंने कहा, ‘हमें प्रशासन ने भरोसा दिलाया था कि मामले की जाँच की जाएगी और तीन महीने में न्याय मिलेगा। अब तक हमें उनकी मौत का प्रमाण पत्र तक नहीं मिला है।’ 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि पाल के शव को परिवारवालों ने दस दिनों तक लेने से इनकार कर दिया था। बाद में मुख्यमंत्री ने ख़ुद उनके परिवार का दौरा करने की बात कही तो उन लोगों से शव को स्वीकारा। पर मुख्यमंत्री ख़राब मौसम के चलते हेलिकॉप्टर से नहीं जा पाए। परिवारवालों का कहना था कि उन पर बांग्लादेशी होने का जो लेबल चस्पां किया गया है उसे हटाया जाए और भारतीय घोषित किया जाए। 

वकील मसूद जमान कहते हैं कि जब प्रशासन की देखरेख में डिटेंशन सेंटर चल रहे हैं तब प्रधानमंत्री इस तरह का ‘सफेद झूठ’ कैसे बोल सकते हैं। विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया ने कहा कि मोदी के मुँह में झूठ नई बात नहीं है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में पहली बार 1998 में डिटेंशन सेंटर की स्थापना की बात आई थी। केंद्र ने सभी राज्यों को डिटेंशन सेंटर स्थापित करने का निर्देश दिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजीब कुमार सिंघी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें