loader
सफीकुल की मौत मामले में आगजनी के आरोपियों के घर बुलडोजर चला।

असम: सफीकुल की 'हिरासत में मौत', पत्नी पर यूएपीए, बेटी गिरफ़्तार

असम के नगांव में जिस सफीकुल इसलाम की 'हिरासत में मौत' का आरोप लगाया गया अब उनकी पत्नी सहित पाँच लोगों पर यूएपीए लगाया गया है। पुलिस को उन पर आतंकवादियों से संबंध होने का संदेह है। सफीकुल की नाबालिग लड़की को भी गिरफ़्तार किया गया है। रविवार को इनके घरों पर 'अतिक्रमण के ख़िलाफ़ कार्रवाई' के नाम पर बुलडोजर चलाकर ढहा दिया गया है। दरअसल, पुलिस का आरोप है कि उन्होंने सफीकुल की हिरासत में मौत का आरोप लगाते हुए पुलिस थाने में आग लगा दी थी। मोटे तौर पर उन पर ये कार्रवाइयाँ थाने में आग लगाने के कारण की जा रही हैं। 

यह मामला मछली व्यापारी सफीकुल इसलाम से जुड़ा है। पुलिस के अनुसार सलोनाबोरी गांव के एक मछली व्यापारी सफीकुल इसलाम को शुक्रवार रात इस शिकायत के आधार पर पुलिस स्टेशन लाया गया था कि वह शराब के नशे में था। बाद में अगले दिन ख़बर आई कि सफीकुल की मौत हो गई है। मौत के कारण बनने वाली घटनाओं पर विवाद है। पुलिस ने दावा किया कि उसकी पत्नी द्वारा अस्पताल ले जाने के बाद उसकी मृत्यु हो गई। जबकि मृतक के परिवार ने आरोप लगाया है कि उसने उसे अस्पताल में मृत पाया।

ताज़ा ख़बरें

हिरासत में मौत का आरोप लगाते हुए सफीकुल के गांव सलोनाबोरी के लोगों की भीड़ ने शनिवार दोपहर ढिंग क्षेत्र में बटाद्रवा पुलिस स्टेशन के एक हिस्से में आग लगा दी थी।

अब इस पूरे मामले में तीन एफ़आईआर दर्ज की गई हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, सफीकुल की 'हिरासत में मौत' के संबंध में अप्राकृतिक मौत का मामला; थाने में आगजनी का मामला; और चूँकि पुलिस को संदेह है कि आरोपियों के 'आतंकवाद से संबंध' हैं, इसलिए एक यूएपीए का मामला है। 

पीड़ित की पत्नी और बेटी को गिरफ़्तार किए जाने को लेकर पुलिस अधिकारी ने बयान दिया है। नगांव की एसपी लीना डोले ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, 'वीडियो फुटेज में पत्नी और बेटी दोनों को पुलिस स्टेशन में आग लगाते देखा जा सकता है। गिरफ्तार किए गए अन्य लोग भी (मृतक के) रिश्तेदार हैं। नाबालिग को किशोर न्याय के नियमों के तहत गिरफ्तार किया गया है। हम उसे कानून के उल्लंघन में एक बच्चे के रूप में मान रहे हैं।'

असम से और ख़बरें

उन्होंने कहा, 'हमें आरोपी व्यक्तियों की कई आपराधिक गतिविधियों के बारे में सूचित किया गया है… हमें संदेह है आतंकवादी संबंध भी हैं, और यह पुष्टि करने के लिए बारपेटा और बोंगाईगांव जिलों में पुलिस से संपर्क किया है कि क्या उनमें से कोई अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (एबीटी) से जुड़ा हुआ है।' रिपोर्ट के अनुसार एबीटी बांग्लादेश में प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है। मार्च के बाद से असम पुलिस ने बारपेटा और बोंगाईगांव जिलों में एबीटी से कथित संबंधों को लेकर कम से कम 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। एनआईए भी मामले की जांच कर रही है। 

एसपी ने कहा है कि सफीकुल की मौत की भी जाँच की जा रही है। लेकिन, अब तक सफीकुल की मौत के मामले में वैसी कोई प्रगति नहीं हुई है जबकि उनकी मौत पर कई गंभीर सवाल खड़े हुए हैं।

असम के पुलिस महानिदेशक ने एक बयान में कहा है कि 'सफीकुल को रिहा कर दिया गया और शनिवार सुबह उसकी पत्नी को सौंप दिया गया। उसकी पत्नी ने उसे कुछ खाना-पानी भी दिया। बाद में उसने बीमारी की शिकायत की और उसे एक के बाद एक दो अस्पतालों में ले जाया गया। दुर्भाग्य से उसे मृत घोषित कर दिया गया।'

पुलिस के इस दावे को सफीकुल के परिवार वालों ने खारिज किया है। पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, उनके परिवार वालों ने दावा किया कि बटाद्रवा स्टेशन पर पुलिस ने उसकी रिहाई के लिए 10,000 रुपये और एक बत्तख की रिश्वत की मांग की थी। रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीणों ने कहा कि सफीकुल की पत्नी शनिवार की सुबह बत्तख लेकर थाने पहुंची थी। ग्रामीणों ने कहा, 'जब वह बाद में पैसे लेकर लौटी, तो उसे पता चला कि उसके पति को नगांव सिविल अस्पताल ले जाया गया है। वहां पहुंचने के बाद उसने उसे मृत पाया।' 

ख़ास ख़बरें
इस बीच विपक्षी एआईयूडीएफ और तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने सोमवार को गांव का दौरा किया और राज्य में बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार की आलोचना की। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, एआईयूडीएफ़ विधायक अशरफुल हुसैन ने कहा कि यह घटना पुलिस की 'विफलता' को दर्शाती है और न्यायिक जाँच की मांग की। उन्होंने कहा, 'अगर पुलिस को इस तरह की छूट के साथ क़ानून का दुरुपयोग करने की अनुमति है तो अदालत और संविधान किसलिए हैं?' तृणमूल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा ने कहा, 'क़ानून को अपना काम करने की अनुमति क्यों नहीं है? यह बीजेपी राज है या हिटलर राज?'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें