loader

पूर्व IPS का आरोप- पटना के रिमांड होम से मंत्रियों तक पहुंचाई जाती थी लड़कियां

गायघाट रिमांड होम में रहने वाली लड़कियां मंत्रियों के पास भेजी जाती हैं। पूर्व IPS अफसर अमिताभ कुमार दास ने गुरुवार राज्यपाल को पत्र लिख कर यह गंभीर आरोप लगाया है। अमिताभ दास ने इस पूरे मामले की  CBI से जांच करवाने की मांग की है।  राज्यपाल को लिखे लेटर में उन्होंने सीधे तौर पर सरकार और उनके कई मंत्रियों पर आरोप लगाया है।

इधर, महिला रिमांड होम से जुड़े मामलों को देखने वाली वकील का दावा है कि वहां रहने वाली 5 लड़कियां लापता हैं। इनमें 2 लड़कियां बांग्लादेश की रहने वाली थी। 

क्या है मामला?

राजधानी पटना  के गायघाट स्थित महिला रिमांड होम से फरार एक युवती ने रिमांड होम की व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए सुपरिटेंडेंट वंदना गुप्ता पर आरोप लगाया कि वो रिमांड होम में रहने वाली लड़कियों को बाहर भेजा करती थी।  हालांकि  समाज कल्याण विभाग ने आनन-फानन में एक टीम गठित कर महिला डिमांड होम की व्यवस्था और  सुपरिटेंडेंट वंदना गुप्ता को क्लीन चिट दे दिया। लेकिन, इस बीच लड़की के पूछताछ का वीडियो वायरल होने के बाद बिहार में बवाल मच गया। 

ताज़ा ख़बरें

पटना हाई कोर्ट ने भी इस मामले स्वतः संज्ञान लेते हुए अपर मुख्य सचिव को पार्टी बनाते हुए जांच का आदेश दिया है। इसके साथ ही अभी तक की पूरी कार्रवाई की रिपोर्ट भी कोर्ट ने समाज कल्‍याण विभाग से मांगी है। 

एफआईआर नहीं दर्ज की थी 

पीड़िता पूरे मामले की सबसे पहले पटना के गांधी मैदान थाना में सूचना लेकर पहुंची थी। वहां पर तैनात पुलिस वालों ने कहा कि यह मामला बहादुरपुर थाने से जुड़ा है। लड़की जब वहां गई तो वहां पर इसकी बात नहीं सुनी गई और न ही आरोपी के खिलाफ एफआईआर ही दर्ज किया गया। फिर लड़की पटना के डीएम के पास अपनी फरियाद लेकर गई थी। वहां से भी उसे भगा दिया गया था।  

IPS officer Amitabh Kumar Das on Patna Gaighat Remand Home - Satya Hindi

लाइफ बन जायेगी, कहकर भेजती थी

ढाई मिनट के वीडियो में लड़की ने रिमांड होम के अंदर की खौफनाक हरकतों का खुलासा किया है । उसके मुताबिक़ वहां रह रही लड़कियों का शारीरिक और मानसिक शोषण किया जाता है।  लाइफ बनाने के नाम पर लड़कियों को गुप्त तरीके से रिमांड होम के बाहर लड़कों के पास भेजा जाता है। अक्सर रिमांड होम में बाहरी लोगों का आना-जाना लगा रहता है।  उसने आरोप लगाया है कि जो लड़कियां सुपरिटेंडेंट वंदना गुप्ता की बात नहीं मानती हैं, उन्हें दवा खिलाकर पागल बनाया जाता है।

तड़प कर मर गई थी दीदी

लड़की वीडियो में काफी घबराई हुई है। उसने वीडियो में कबूल किया है कि उसके साथ भी ऐसी हरकत हुई थी। उसने बताया कि एक लड़की को रिमांड होम में फांसी लगा दिया गया था। उसने  सुसाइड नहीं किया था। उसे मारा गया था। वो अपनी जिंदगी जीना चाहती थी। इसी तरह एक और महिला की उसने चर्चा करते हुए कहा कि वो बीमार थी। उसकी स्थिति गंभीर होने के बाद भी उसे अस्पताल नहीं ले जाया गया।

बिहार से और खबरें

उसका आरोप है कि वंदना गुप्ता इस महिला से इलाज के नाम पर चार हजार रुपया मांग रही थी। उसके पास पैसा नहीं था। इसलिए वो रिमांड होम में तड़प तड़प कर मर गई। उसको एक छोटा बच्चा भी है। 

सीमा समृद्धि का मिला साथ 

गाय घाट महिला रिमांड होम में रह रही लड़कियों के साथ यौन शोषण व प्रताड़ना मामले को अब निर्भया दुष्‍कर्म व हत्‍याकांड के दोषियों को फांसी के तख्‍ते तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाने वाली सुप्रीम कोर्ट की वकील सीमा समृद्धि का साथ मिला है। प्रशासन की अनुमति मिलने पर सीमा आज पीड़ित युवती से मिलने वाली हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजेश कुमार ओझा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें