loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

छत्तीसगढ़: माओवादियों को ट्रैक्टर आपूर्ति करने के आरोप में बीजेपी नेता गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के ज़िला ईकाई के उपाध्यक्ष जगत पुजारी और दूसरे लोगों को माओवादियों को ट्रैक्टर आपूर्ति करने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार पुजारी कम से कम एक दशक से माओवादियों को सामान की आपूर्ति करने में शामिल रहे हैं। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार ये आरोपी उस माओवादी नेता अजय अलामी को ट्रैक्टर देने वाले थे जिसकी गिरफ़्तारी पर पाँच लाख रुपये का ईनाम घोषित है। ट्रैक्टर और 9 लाख 10 हज़ार रुपये जब्त किए गए हैं। 

यह मामला छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा क्षेत्र का है। यह राज्य में सबसे ज़्यादा माओवाद प्रभावित क्षेत्रों में से एक है। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मोबाइल फ़ोन को इंटरसेप्ट कर लंबे समय से पुलिस पुजारी समेत कुछ संदिग्धों पर नज़र रख रही थी।

ताज़ा ख़बरें

फ़ोन पर हुई बातचीत के आधार पर ही पुलिस माओवादियों और उनसे जुड़े लोगों को पकड़ने के लिए जाल बिछा रही थी। 'एनडीटीवी' से बातचीत में दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने कहा, 'पिछले कुछ महीनों से हम कई माओवादी नेताओं के कॉल को इंटरसेप्ट कर रहे हैं, जिनमें अलामी और पुजारी का सेल नंबर कई बार सामग्रियों की आपूर्ति के लिए भी सामने आया था। हाल ही में, अलमी ने पुजारी से कहा था कि उन्हें एक ट्रैक्टर की ज़रूरत है, जिसे खरीदना होगा। पुजारी ने उसके भुगतान के लिए सहमति जताई। उन्होंने कहा कि उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होगी जिसके दस्तावेज़ों का उपयोग खरीद के लिए किया जा सके। इसलिए उन्होंने रमेश उसेंडी को इससे जोड़ा जिनकी पत्नी अलामी गाँव से हैं।'

इस सूचना के आधार पर पुलिस ने गिडम के पास दो स्थानों पर बैरिकेड लगा दिए और सभी नए ट्रैक्टरों को रोक दिया। पुलिस के अनुसार, रोके जाने पर उसेंडी पैसे के स्रोत के बारे में नहीं बता सके और यह भी कि उनके पास कागजात क्यों नहीं थे। एसपी के अनुसार, उसेंडी ने कहा कि वह ट्रैक्टर को जगत के कहने पर ले जा रहा था।

छत्तीसगढ़ से और ख़बरें

पुलिस अधीक्षक पल्लव ने कहा, 'पूछताछ के दौरान जगत ने कबूल किया कि वह 10 वर्षों से माओवादियों को माल की आपूर्ति कर रहा है।' उन्होंने कहा कि गिरफ्तारी खुफिया जानकारी जुटाने के महीनों बाद की गई। पुलिस को पहले जानकारी मिली थी कि पुजारी माओवादियों को वर्दी, जूते, कागज, प्रिंटर, कारतूस, बैटरी और रेडियो सेट की बड़ी खेप सप्लाई करने में शामिल था, लेकिन उसके ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं था।

उन्होंने कहा कि हमें पता चला कि जगत पुजारी माओवादियों से मिलते हैं और सक्रिय रूप से हंदवाड़ा के अंदरूनी इलाकों में ग्रामीणों के माध्यम से सामग्री भेजते हैं। पुलिस का कहना है कि अब यह जाँच का विषय है और इस मामले में अधिक गिरफ्तारियाँ हो सकती हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें