loader

रहस्य-रोमांच से भरपूर सीरीज़ 'ब्रीद' की कमज़ोर कड़ियाँ कर सकती हैं निराश

सीरीज़- ब्रीद इंटू द शैडोज़

निर्देशक- मयंक शर्मा

कलाकार- अभिषेक बच्चन, अमित साध, नेत्या मेनन, इवाना कौर, ह्रषिकेश जोशी, श्रीकांत वर्मा

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- अमेज़न प्राइम

शैली- सस्पेंस-थ्रिलर

रेटिंग- 2.5/5

थ्रिलर!

ओटीटी प्लैटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो पर 10 जुलाई को सीरीज़ 'ब्रीद इंटू द शैडोज़' रिलीज़ हुई। यह सीरीज़ क्राइम, सस्पेंस और थ्रिलर से भरपूर है। सीरीज़ का निर्देशन किया है मयंक शर्मा ने और इसकी कहानी मयंक, भवानी अय्यर और विक्रम टुली ने मिलकर लिखी है।

सिनेमा से और खबरें
सीरीज़ 'ब्रीद' में अभिषेक बच्चन, अमित साध, नेत्या मेनन और इवाना कौर मुख्य भूमिका में हैं। यह सीरीज़ रहस्य और रोमांच से भरपूर है तो इसमें हत्या, अपहरण और पुलिस की छानबीन सबकुछ दिखाया गया है। आइये, जानते है इसकी कहानी। 

क्या है खास?

सीरीज़ 'ब्रीद' की कहानी शुरू होती है एक खुशहाल परिवार से, जिसमें तीन सदस्य हैं, अविनाश सबरवाल (अभिषेक बच्चन), आभा (नेत्या मेनन) और सिया (इवाना कौर)। अविनाश एक जाने-माने सायकायट्रिस्ट हैं। 

सबकुछ सही चल रहा होता है कि अचानक सिया का अपहरण हो जाता है। अविनाश और आभा को लगता है कि फिरौती के लिए फ़ोन आयेगा, लेकिन ऐसा नहीं होता है। अपहरण  के 10 महीने बीत जाने के बाद अपहरणकर्ता अविनाश से कहता है कि सिया को बचाना है तो एक आदमी का ख़ून करना होगा।

ख़ून!

आभा और अविनाश सिया को बचाने के लिए पहला खून कर देते हैं, लेकिन यह सिलसिला यहीं ख़त्म नहीं होता है। अपहरणकर्ता दूसरी हत्या करने के लिए कहता है और तब तक इस केस की कमान सीबीआई अफ़सर कबीर सावंत (अमित साध) के हाथों में आ जाती है। कबीर के साथ प्रकाश (ह्रषिकेश जोशी) और जयप्रकाश (श्रीकांत वर्मा) भी इस केस में लग जाते हैं।
अब सवाल है कि अपहरणकर्ता ये हत्याएं क्यों करवा रहा है? अविनाश से क्यों ख़ून करवाए जा रहे है क्या उसका कोई कनेक्शन है? सिया वापस मिलेगी भी या नहीं?
कबीर इस केस को सुलझा पायेगा और कौन होगा वह आदमी जो लोगों को मारने के लिए कह रहा है? ये सब जानने के लिए आपको अमेज़न प्राइम पर सीरीज़ 'ब्रीद' देखनी पड़ेगी। सीरीज़ में कुल 12 एपिसोड है और एक एपिसोड 43 मिनट का है। 

निर्देशन

मयंक शर्मा ने अच्छी कहानी लिखी है और उस पर काम भी काफी अच्छे तरीके से किया है। बस अगर सीरीज़ की थोड़ी एडिटिंग और कर देते तो थोड़ी भी बोरियत महसूस नहीं होती। कई बार कुछ चीजें दुहराई गई हैं और इसे काफी खींचा गया है जो निराश करता है। इसके अलावा कैमरा वर्क, सिनेमेटोग्राफी और बैकग्राउंड म्यूज़िक काफी अच्छा है।

अभिनय

अभिषेक बच्चन ने अविनाश का किरदार बखूबी निभाया है। पिता का रोल हो या एक डॉक्टर का, जूनियर बच्चन ने हर एक इमोशन को बखूबी पर्दे पर पेश किया है। अमित साध ने पुलिस अफ़सर की भूमिका में बेहतरीन अभिनय किया है।

Breathe into shadows full of suspense and thrill - Satya Hindi
नेत्या मेनन ने भी अपने रोल को अच्छे से निभाया। इवाना कौर काफी छोटी हैं, लेकिन उनकी मासूमियत और उनका अभिनय आपका दिल जीत लेंगे। इसके अलावा ह्रषिकेश जोशी, श्रीकांत वर्मा, संयमी खेर और श्रुति बपना ने भी शानदार काम किया है।

सुस्त, बोरिंग

नई कहानी के साथ क्राइम थ्रिलर सीरीज़ 'ब्रिद' मयंक शर्मा दर्शकों के लिए लेकर आये हैं, लेकिन इसमें कुछ कमियाँ भी हैं।
12 एपिसोड की सीरीज़ बीच-बीच में काफी बोरिंग लगने लगती है तो वहीं कुछ दृश्यों को देखकर ऐसा लगता है कि दुहराव है। इससे बचा जा सकता था, सीरीज़ और चुस्त हो सकती थी।
इसके अलावा सीरीज़ में रावण के 10 सिर और उससे जुड़ी भावनाओं पर भी तमाम बातें की गई है लेकिन अंत में उन सबका ताल्लुक कहानी से कुछ समझ नहीं आता। तीसरे एपिसोड तक आप सीरीज़ से ख़ुद को जोड़ नहीं पायेंगे।

लेकिन चौथे एपिसोड से यह काफी दिलचस्प मोड़ ले लेती है और वहाँ से इसे आपको देखने में मजा आने लगेगा। सस्पेंस जानने के लिए आप यह सीरीज़ देख लेंगे। एक बार इस सीरीज़ को देखा जा सकता है, लेकिन इसके लिए आपको काफी समय देना पड़ेगा और धैर्य रखना होगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें