loader

रहस्य-रोमांच से भरपूर 'रात अकेली है' में नवाज़ुद्दीन-राधिका का ज़बरदस्त अभिनय

फ़िल्म- रात अकेली है

कलाकार- नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, राधिका आप्टे, श्वेता त्रिपाठी, तिग्मांशू धूलिया, शिवानी रघुवंशी, आदित्य श्रीवास्तव, निशांत दाहिया, ईला अरुण

निर्देशक- हनी त्रेहन

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- नेटफ़्लिक्स

रेटिंग- 4/5

कोरोना महामारी के कारण सभी बड़ी फ़िल्में ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ हो रही हैं और इसी में से एक फ़िल्म 'रात अकेली है' नेटफ़्लिस्क पर रिलीज़ हुई है।
सिनेमा से और खबरें
फ़िल्म का निर्देशन हनी त्रेहन ने किया है और इसमें लीड रोल में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, राधिका आप्टे, श्वेता त्रिपाठी, ईला अरुण, निशांत दाहिया हैं। निर्देशक के रूप में कास्टिंग डायरेक्टर हनी त्रेहन की यह पहली फ़िल्म है। फ़िल्म 'रात अकेली है' सस्पेंस से भरी हुई फ़िल्म है। जिसमें एक पुलिस वाले को हत्या का एक मामला सुलझाना है।

फ़िल्म में क्या है?

एक हवेली के मालिक रघुबीर सिंह (ख़ालिद तैयबजी) की शादी की ही रात हत्या हो जाती है। उसकी हत्या गोली मारकर की जाती है, लेकिन किसी ने भी गोली चलने की आवाज़ नहीं सुनी। रघुबीर सिंह के परिवार में बेटी करुणा सिंह (श्वेता त्रिपाठी), भतीजा विक्रम (निशांत दाहिया), भतीजी वसुधा (शिवानी रघुवंशी) और जिससे शादी हुई थी पत्नी राधा (राधिका आप्टे) हैं।
nawazuddin siddiqui, radhika apte starrer Raat Akeli Hai suspense thriller - Satya Hindi
हत्या की जाँच करने के लिए इंस्पेक्टर जटिल यादव (नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी) आते हैं और उन्हें पूरा शक होता है कि परिवार में ही किसी ने यह हत्या की है। इसके अलावा एक निर्दलीय विधायक मुन्ना राजा (आदित्य श्रीवास्तव) और एसएसपी लालजी (तिग्माशूं धूलिया) भी है, जो इस परिवार के बेहद क़रीब हैं। जटिल को इन पर भी पूरा शक है। तो वहीं दूसरी तरफ जटिल यादव सांवले से हैं, ‘फेयर एंड लवली’ लगाते हैं और उनकी माँ (इला अरुण) उनकी शादी के लिए कोई अच्छी सी लड़की ढूंढ़ रही हैं।
इस मर्डर मिस्ट्री में जटिल को पूरा शक राधा और विक्रम पर है, वह मानता है कि इन दोनों ने मिलकर यह हत्या कर दी है, लेकिन अंत में खूनी कोई और निकल कर सामने आता है।
आख़िर में खुलासा बेहद चौंकाने वाला होता है और हत्या का कारण भी काफी हैरान करता है। हत्या के इस मामले को जटिल यादव किस तरह से सुलझाते हैं? आखिर रघुबीर सिंह की हत्या क्यों की जाती है? परिवार के किस सदस्य ने हवेली के मुखिया की हत्या की? ये सब जानने के लिए आपको नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई फ़िल्म 'रात अकेली है' देखनी पड़ेगी। ये फ़िल्म 2 घंटे 29 मिनट की है।

निर्देशन

कास्टिंग डायरेक्टर से डायरेक्टर बने हनी त्रेहन ने अच्छी फ़िल्म बनाई है और उन्होंने अंत तक कहानी के सस्पेंस को बरक़रार रखा। फ़िल्म की कहानी स्मिता सिंह ने लिखी है। फ़िल्म की कहानी बेहद सधी हुई रही और कही भी इधर-उधर नहीं हुई। फ़िल्म का म्यूज़िक और रात के सीन्स को काफी अच्छे से पेश किया गया है। बतौर निर्देशक हनी त्रेहन की यह पहली फ़िल्म थी और उन्होंने काफी अच्छे से फ़िल्म का निर्देशन किया है।

एक्टिंग

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को कोई भी किरदार दे दिया जाये वो उसमें जान फूंक देते हैं। उनकी एक्टिंग काफी रियलिस्टिक होती है और एक अलग छाप छोड़ती है। फ़िल्म में पुलिस वाले के किरदार में उन्होंने काफी अच्छी एक्टिंग की है।

राधिका आप्टे ने भी बेहतरीन काम किया है। अपने ग्लैमरस लुक को दरकिनार करते हुए सीधी सी लड़की का किरदार उन्होंने बखूबी निभाया है।
ईला अरुण ने माँ के किरदार को शानदार तरीके से पेश किया है। जिस तरह से एक लड़के की माँ बेटे से शादी की बात करती है। उसी तरह से उन्होंने पर्दे पर अपने किरदार को उतारा है। इसके अलावा श्वेता त्रिपाठी, निशांत दाहिया, शिवानी रघुवंशी और आदित्य श्रीवास्तव भी अपने किरदार में खूब जमे हैं।

कॉमेडी नहीं, सस्पेंस!

फ़िल्म 'रात अकेली है' सस्पेंस से भरी हुई फ़िल्म है। जिसमें अगर आप कॉमेडी या एक्शन देखना चाहेंगे तो निराश होंगे। फ़िल्म मर्डर  मिस्ट्री है और उसके कई संदिग्ध हैं। इसी के ईर्द-गिर्द इसकी कहानी है। नवाज़ुद्दनी की एक्टिंग बेहद दमदार है और कहानी अंत तक सस्पेंस बनाकर रखती है। आपको आख़िर में ही पता चलेगा कि खूनी कौन था।
मर्डर मिस्ट्री कहानी होने के साथ फ़िल्म की गति थोड़ी धीमी है,  आपको धैर्य के साथ देखना पड़ेगा। इसके अलावा फ़िल्म की कहानी और किरदारों की एक्टिंग काफी अच्छी है। सस्पेंस से भरी फ़िल्म 'रात अकेली है' आपको बोर नहीं करेगी इसे आप एक बार ज़रूर देख सकते हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें