loader

ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म से वेब सीरीज़ ने कैसे बदली सिनेमा की परिभाषा?

जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते जा रहे हैं, वैसे ही सिनेमा का दौर भी बदलता जा रहा है। पहले हम सिनेमा के नाम पर सिर्फ़ फ़िल्मों के बारे में ही चर्चा करते थे और फ़िल्मों को देखने के लिए सिनेमाघर ही जाते थे। लेकिन अब हमारे पास न सिर्फ़ फ़िल्मों को बल्कि वेब सीरीज़ को देखने के लिए एक और ज़रिया हो गया है और वह है ओटीटी (ओवर द टॉप) प्लेटफ़ॉर्म्स। एक-डेढ़ साल पहले भारत में ओटीटी प्लेटफॉर्म उभर कर सामने आये। इस साल जिस तरह से ओटीटी प्लेटफॉर्म के क़ारोबार में वृद्धि हुई है, उससे माना जा रहा है कि साल 2024 तक भारत का ओटीटी बाज़ार दुनिया के छठे सबसे बड़े बाज़ार के रूप में उभरकर सामने आयेगा।

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स पर पहले सिर्फ़ वेब सीरीज़ को रिलीज़ करना ही शुरू किया गया था और इसके बाद से ही लोगों ने जाना कि फ़िल्मों के अलावा वेब सीरीज़ भी काफ़ी मजेदार हो सकती हैं। साल 2019 में ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म्स पर कई वेब सीरीज़ रिलीज़ हुई थीं, जिसमें से कुछ को दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया था।

ख़ास ख़बरें

कोरोना काल में ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म का बोलबाला

कोरोना काल में सिनेमाघर बंद हो गये और उस वक़्त लोगों के मनोरंजन का एकमात्र साधन बने ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म्स जैसे- नेटफ्लिक्स, अमेज़ॉन प्राइम वीडियो, जी-5, ऑल्ट बालाजी, सोनी लिव और हॉटस्टार। वेब सीरीज़ के साथ ही बड़ी-बड़ी फ़िल्मों को भी स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म्स पर रिलीज़ किया गया। जिनमें से कुछ फ़िल्मों को लोगों ने पसंद किया लेकिन कुछ फ्लॉप साबित हुईं। ठीक ऐसा ही वेब सीरीज़ के साथ भी हुआ। जो बड़ी फ़िल्में जैसे 'गुलाबो-सिताबो', ‘गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल', 'सड़क 2', ‘लक्ष्मी' जिन्हें सिनेमाघरों में रिलीज़ होना था, वो सभी ओटीटी पर रिलीज़ हुईं। भले ही हमें ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म पर रिलीज़ होने वाली फ़िल्मों के कलेक्शन के बारे में कोई जानकारी नहीं होती, लेकिन हम इतना जान सकते हैं कि किस फ़िल्म को कितने लोगों ने देखा। फ़िल्मों के साथ ही रिलीज़ हुई वेब सीरीज़ में भी दर्शकों को मजेदार कंटेंट देखने को मिला।

वेब सीरीज़ का सिनेमा पर असर

वेब सीरीज़ ने सिनेमा को लेकर एक नया नज़रिया सेट किया है। दर्शक जो चीजें फ़िल्मों में देखना चाहते थे, वो सबकुछ वेब सीरीज़ के कंटेंट में मिलने लगा। बल्कि उससे ज़्यादा ही मिलने लगा। ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म्स पर कोई रोक-टोक नहीं है, हर तरह का कंटेंट रिलीज़ किया जाता है। नेटफ्लिक्स पर जब सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' का पहला पार्ट रिलीज़ हुआ था, तो दर्शकों ने इस कंटेंट को ख़ूब पसंद किया था, जिसकी एक वजह यह भी कही जा सकती है कि सीरीज़ में खुले तौर पर हर भाषा का प्रयोग और हर तरह के दृश्य दिखाये गए हैं। इसके बाद ऐसी कई सीरीज़ आईं, जिनमें गाली-गलौज और अश्लील दृश्य होना आम हो गया। 

फ़िल्मों को रिलीज़ से पहले सेंसर बोर्ड से होकर गुज़रना पड़ता है लेकिन वेब सीरीज़ को लेकर अभी तक ऐसा कुछ नहीं किया गया है। इसके साथ ही वेब सीरीज़ में एक्शन, थ्रिलर, कॉमेडी, ड्रामा सबकुछ लोगों को देखने को मिल जाता है, जो ढाई-तीन घंटे की फ़िल्मों में उतना नहीं दिखाया जा सकता।

साल 2018 में ‘सेक्रेड गेम्स’, ‘मिर्जापुर’, ‘घूल’ और ‘ये मेरी फैमिली’ जैसी वेब सीरीज़ को दर्शकों से खूब प्यार मिला था। इसके बाद निर्माताओं ने सीरीज़ के कंटेंट में कुछ और मसाला जोड़ने की कोशिश की और एक्शन-थ्रिलर, सस्पेंस को सीरीज़ में जगह दी। साल 2019  में ‘दिल्ली क्राइम’, ‘लैला’, ‘बार्ड ऑफ़ ब्लड’, ‘फैमिली मैन’ जैसी सीरीज़ रिलीज़ हुई, जिसके एक्शन, सस्पेंस और इमोशन्स को लोगों ने काफ़ी पसंद किया। फिर आया साल 2020, जिसमें कुछ ऐसी वेब सीरीज़ रिलीज़ हुई, जिनका कोई जवाब ही नहीं है। साल 2020 में जहाँ एक तरफ़ ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म ने युवाओं को ख़ूब प्रभावित किया, वहीं वेब सीरीज़ ने सिनेमा का स्वरूप एकदम बदलकर रख दिया।

ott platform movies in india transform bollywood industry  - Satya Hindi

ताजमहल 1989

नेटफ्लिक्स पर साल 2020 में कई और सीरीज़ और फ़िल्में रिलीज़ हुईं, जिनमें से एक साधारण सी सीरीज़ 'ताजमहल 1989' थी। ताजमहल के नाम पर बनी इस सीरीज़ में प्यार, मुहब्बत और नोकझोंक को दिखाया गया है लेकिन यह सब आज के समय का नहीं है। इसमें उस ज़माने के प्यार-मुहब्बत की 3 कहानियाँ दिखाई गई हैं जब न कोई मोबाइल-फ़ोन होता था और न ही सोशल मीडिया। इसमें 3 अलग-अलग उम्र के लोगों के बीच प्रेम कहानी को दिखाया गया है। इसकी कहानी को देखते हुए आप ख़ुद को इससे जुड़ा हुआ महसूस करेंगे।

इस सीरीज़ को डायरेक्टर पुष्पेंद्र नाथ मिश्रा ने डायरेक्ट किया है। इस सीरीज़ की ख़ास बात यह है कि इसमें कहीं पर भी अभद्र भाषा का प्रयोग नहीं किया गया है और कोई अंतरंगी दृश्य भी नहीं दिखाये गए हैं। अगर आप अपने परिवार के साथ कुछ अच्छा देखने का मूड बना रहे हैं तो इस सीरीज़ 'ताजमहल 1989' को देख सकते हैं।

स्पेशल ऑप्स

स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म हॉटस्टार ने साल 2020 में सीरीज़ प्रेमियों को बैक-टू-बैक तोहफ़े दिये। एक्शन-थ्रिलर सीरीज़ 'स्पेशल ऑप्स' इसी साल मार्च में रिलीज़ हुई थी और इसमें शानदार एक्शन-थ्रिल को देखकर लोगों ने इसके दूसरे सीज़न की डिमांड करना शुरू कर दी थी। 'स्पेशल 26', 'बेबी' और 'ए वेडनेसडे' जैसी शानदार फ़िल्में बना चुके डायरेक्टर नीरज पांडे ने इसका निर्देशन किया है। सीरीज़ की कहानी में रॉ के अफ़सर हिम्मत सिंह (केके मेनन) लीड रोल में हैं और वो एक आतंकवादी की तलाश में हैं, जो पार्लियामेंट और 26/11 आतंकवादी हमले में शामिल था। इसके अलावा हिम्मत सिंह पर बिना किसी की जानकारी के ज़्यादा ख़र्च करने का आरोप भी है। इन सब के बीच हिम्मत सिंह आतंकवादी को कैसे पकड़ता है, वही इसकी कहानी का सस्पेंस और थ्रिल है। 'स्पेशल ऑप्स' का सेकेंड सीज़न भी आयेगा।

ott platform movies in india transform bollywood industry  - Satya Hindi

असुर

साल 2020 में नये ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म वूट सेलेक्ट' पर वेब सीरीज़ 'असुर' रिलीज़ हुई थी। इस सीरीज़ की कहानी में एक सीरियल किलर है जो कि एक के बाद एक मर्डर कर रहा है और उसे पकड़ने के लिए सीबीआई तफ़्तीश में जुटी होती है। सीरीज़ का नाम असुर इसलिए रखा गया है क्योंकि क़ातिल ख़ुद को असुर मानता है। सीरियल किलिंग के साथ पौराणिक कथाओं और धर्म की बातों को भी इस सीरीज़ में जोड़ा गया है। सीरीज़ का निर्देशन डायरेक्टर ओनी सेन ने किया है और इसमें अरशद वारसी, बरुन सोबती, अनुप्रिया गोयनका, ऋद्धि डोगरा और शारिब हाशमी लीड रोल में हैं। कुछ हटकर और अलग देखना चाहते हैं तो ये आपके लिए परफेक्ट मसाला सीरीज़ है।

पाताललोक

स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज़ हुई वेब सीरीज़ 'पाताललोक' की चर्चा काफ़ी दिनों तक हुई थी और अब यह सीरीज़ फ़िल्मफेयर अवॉर्ड जीतने की वजह से चर्चा में है। वैसे तो हमने कहानियों में स्वर्ग, नर्क, धरती और 'पाताल लोक' के बारे में सुना है लेकिन इस वेब सीरीज़ में हमें फिर से बताया गया है कि दुनिया में तीन लोक होते हैं। स्वर्ग लोक जहाँ देवता रहते हैं, धरती लोक जहाँ इंसान रहते हैं और 'पाताल लोक' जहाँ कीड़े रहते हैं। 'पाताल लोक' में कई ऐसी घटनाओं को दिखाया गया है जो कि आज के वक़्त में हमें आए दिन देखने व सुनने को मिलती हैं। इनमें पत्रकारों पर हमला, दंगे, दलितों पर अत्याचार और बलात्कार जैसी घटनाएँ शामिल हैं। कुल मिलाकर आप और हम अपने आस-पास आजकल जो चीजें होते हुए देख रहे हैं, वो सबकुछ इसमें दिखाया गया है। अविनाश अरुण व प्रोसित रॉय के निर्देशन में बनी सीरीज़ 'पाताल लोक' की कहानी सुदीप शर्मा ने लिखी है और इसमें लीड रोल में जयदीप अहलावत हैं। अगर आपने इस सीरीज़ को अब तक नहीं देखा है तो जल्दी से देख लीजिये।

ott platform movies in india transform bollywood industry  - Satya Hindi

आर्या

ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म हॉटस्टार पर 19 जून 2020 को वेब सीरीज़ 'आर्या' रिलीज़ हुई थी। यह क्राइम-थ्रिलर सीरीज़ है, जिसे दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया था। ‘आर्या' को तीन निर्देशकों राम मधवानी, संदीप मोदी और विनोद रावत ने मिलकर निर्देशित किया है। इसमें लीड रोल में एक्ट्रेस सुष्मिता सेन हैं और उन्होंने सीरीज़ के ज़रिये अपना डिजिटल डेब्यू भी किया था। इसकी कहानी एक ऐसे परिवार की थी, जो अफीम का बिज़नेस करता है और इसमें आर्या (सुष्मिता सेन) के पति तेज सरीन (चंद्रचूड़ सिंह) के कई दुश्मन भी हो जाते हैं। तेज़ सरीन की हत्या कर दी जाती है और इसके बाद आर्या बिज़नेस के साथ ही अपने परिवार और बच्चों को संभालती है। सीरीज़ की मुख्य कहानी यही है कि किस तरह से एक औरत अपनी जान को ख़तरे में डालते हुए सबकुछ संभालती है। सीरीज़ का सस्पेंस यह है कि आख़िर आर्या के पति की हत्या किसने की? अगर आपने अब तक इस सीरीज़ को नहीं देखा है तो देख लीजिये।

पंचायत

कई बार हम सिर्फ़ नाम सुनकर ही फ़िल्मों और सीरीज़ को न देखने का मन बना लेते हैं और ऐसा ही कुछ अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज़ हुई वेब सीरीज़ 'पंचायत' को लेकर भी दर्शकों ने सोचा था। लेकिन जब इस सीरीज़ की साधारण सी कहानी और स्टार्स की परफॉर्मेंस लोगों को पसंद आई, तो वेब सीरीज़ 'पंचायत' के रिलीज़ के महीनों बाद भी लोग इसकी तारीफ़ करते हुए नज़र आ रहे थे। वेब सीरीज़ 'पंचायत' में यूपी के बलिया की फुलेरा पंचायत को दिखाया गया है। जिसमें पंचायत सचिव के पद पर अभिषेक त्रिपाठी यानी एक्टर जितेंद्र कुमार की नियुक्ति होती है।

अभिषेक त्रिपाठी के ईर्द-गिर्द बुनी गई 'पंचायत' की कहानी में जितेंद्र कुमार के अलावा नीना गुप्ता, रघुवीर यादव और चंदन रॉय लीड रोल में हैं। इसके साथ ही सीरीज़ में 8 एपिसोड हैं और सभी की अपनी एक अलग कहानी है। सीरीज़ का निर्देशन दीपक कुमार मिश्रा ने किया है और इसकी साधारण सी कहानी आपका मूड फ्रेश कर देगी।

स्कैम 1992

स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म सोनी लिव पर रिलीज़ हुई 'स्कैम 1992: द हर्षद मेहता स्टोरी' साल 2020 की हिट सीरीज़ में से एक है। साल 1992 में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में किये गए घोटाले के चलते हर्षद शांतिलाल मेहता बड़े विवादों में आ गए थे और यह वेब सीरीज़ उसी घोटाले पर आधारित है। इस घोटाले की जितनी चर्चा थी, उतनी ही सुर्खियाँ और तारीफ़ें इस वेब सीरीज़ ने बटोरी हैं। वेब सीरीज़ 'स्कैम 1992: द हर्षद मेहता स्टोरी' में उस वक़्त हुए सबसे बड़े घोटाले की कहानी को दिखाया गया है। भले ही आपको शेयर बाज़ार की ज़रा भी जानकारी न हो तब भी यह सीरीज़ आपको बोर नहीं करेगी, बल्कि शेयर मार्केट और मनी मार्केट में क्या होता है, इसके बारे में आपको पता चल जायेगा। 'स्कैम 1992' में प्रतीक गांधी, श्रेया धनवंतरी, शारिब हाशमी, निखिल द्विवेदी, रजत कपूर, सतीश कौशिक, हेमंत खेर और भी कई स्टार्स लीड रोल में हैं। इसका निर्देशन मशहूर फ़िल्मकार हंसल मेहता ने किया है। वक़्त निकालकर ज़रूर देखिये।

ott platform movies in india transform bollywood industry  - Satya Hindi

अ सिंपल मर्डर

साल 2020 में हमने वेब सीरीज़ में ही हर तरह का कंटेंट देखा है, फिर चाहे वो मर्डर मिस्ट्री हो या कॉमेडी। कुछ सीरीज़ में मर्डर, सस्पेंस और कॉमेडी एक साथ देखने को भी मिला है। उसी में से एक वेब सीरीज़ 'अ सिंपल मर्डर' भी है, जो कि ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म सोनी लिव पर रिलीज़ हुई है। सीरीज़ के नाम में भले ही 'सिंपल' शब्द का इस्तेमाल किया गया हो लेकिन कहानी में ऐसा नहीं है। कहानी में एक मर्डर होता है, पैसों का हेर-फेर होता है और इसके साथ खूनी को ढूंढा भी जाता है। इन सबके ईर्द-गिर्द घूमती वेब सीरीज़ की कहानी आपको गुदगुदाएगी भी और सस्पेंस के साथ भी बांधे रखेगी। वेब सीरीज़ 'अ सिंपल मर्डर' का निर्देशन सचिन पाठक ने किया है और इसमें जीशान अयूब, प्रिया आनंद, सुशांत सिंह, यशपाल शर्मा और अमित सियाल लीड रोल में हैं। अगर आपने अब तक इस सीरीज़ को नहीं देखा है तो देख लीजिये। यह एक परफेक्ट मसाला सीरीज़ है।

कई स्टार्स को मिली अलग पहचान

जिस तरह से वेब सीरीज़ ने सिनेमा को बदलकर रख दिया, वैसे ही कई एक्टर्स की ज़िंदगी को भी बदल दिया। वेब सीरीज़ में हर कलाकार को बराबर का किरदार मिलता है और कुछ ऐसे स्टार्स को लीड रोल भी मिला, जिन्हें दर्शकों ने इससे पहले सिर्फ़ साइड रोल करते ही देखा था। इस कड़ी में सबसे पहला नाम एक्टर जयदीप अहलावत का आता है। वेब सीरीज़ 'पाताललोक' में जयदीप अहलावत ने हाथी राम चौधरी का किरदार निभाया है और दर्शकों ने उनके किरदार के साथ उनकी शानदार परफॉर्मेंस को काफ़ी पसंद किया। इसी सीरीज़ में हथौड़ा त्यागी के किरदार को निभाने वाले अभिषेक बनर्जी को भी अलग पहचान मिली। इसके बाद सीरीज़ 'स्पेशल ऑप्स' में हिम्मत सिंह के किरदार में एक्टर केके मेनन ने अपनी एक अलग पहचान बनाई।

केके मेनन को हमने फ़िल्मों में हमेशा ही उम्दा अभिनय करते हुए देखा था, लेकिन वेब सीरीज़ में लीड रोल में आकर उन्होंने दर्शकों के दिलों में अलग जगह बनाई।

वेब सीरीज़ 'पंचायत' में दूल्हे का किरदार निभाने वाले एक्टर आसिफ़ ख़ान को भी दर्शकों से ख़ूब प्यार मिला। उन्हें उनके किरदार के साथ ही कहानी में उनके चक्का वाली कुर्सी के सीन को लोगों ने काफ़ी पसंद किया। वेब सीरीज़ 'स्कैम 1992' के सभी स्टार्स को दर्शकों ने पसंद किया, लेकिन एक्टर प्रतीक गांधी को एक अलग पहचान मिली। प्रतीक गांधी ने सीरीज़ में हर्षद मेहता का रोल निभाया है। उस किरदार को जितना दर्शकों ने प्यार दिया, उससे कहीं ज़्यादा प्रतीक गांधी को लोगों ने पसंद किया। इसके अलावा इस सीरीज़ में पत्रकार सुचेता दलाल का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस श्रेया धनवंतरी को भी अलग पहचान मिली।

साफ़ है कि वेब सीरीज़ ने सिनेमा के इस दौर को एक नया रूप दिया है और यह साबित किया है कि फ़िल्मों में मिलने वाला मसाला अब सीरीज़ में मिल रहा है और लोग अपने घरों में बैठकर मनपसंद सीरीज़ आराम से देख सकते हैं। सोने पर सुहागा ओटीटी प्लेटफॉर्म्स ने किया है। हम एक फ़िल्म को देखने के लिए तीन सौ रुपये का टिकट खरीदते थे और अब हम इतने रुपये में किसी भी ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म का सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं। तो आप ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म पर वेब सीरीज़ का लुत्फ उठाइये और अगर आपने अब तक साल 2020 की ये सीरीज़ न देखी हो, तो अब देख लीजिये।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें