loader

कश्मीरी पंडितों पर बीजेपी विफल, 1990 का दौर लौटा: केजरीवाल

जम्मू-कश्मीर में लक्षित हत्याओं को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि कश्मीरी पंडितों के पूरे मामले में बीजेपी विफल रही है और पार्टी के पास कोई योजना नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि लगता है कि कश्मीर 1990 के दौर में वापस चला गया है। 

केजरीवाल जंतर-मंतर पर विरोध-प्रदर्शन के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जम्मू-कश्मीर में लक्षित हत्याओं यानी टार्गेट किलिंग में बढ़ोतरी को लेकर आम आदमी पार्टी ने रविवार को आक्रोश रैली निकाली और विरोध प्रदर्शन किया है। आप ने कहा है कि जंतर मंतर पर यह विरोध प्रदर्शन 'कश्मीर और कश्मीरी पंडितों' के लिए था। आम आदमी पार्टी कश्मीरी पंडितों के मुद्दे पर बीजेपी सरकार के विफल होने का आरोप लगाती रही है।

केजरीवाल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, 'इस (कश्मीरी पंडितों के मुद्दों) पर भाजपा सरकार विफल रही है। लगता है कि 1990 का दौर फिर आ गया है। उनकी कोई योजना नहीं है। जब भी घाटी में कोई हत्या होती है, तो ख़बर आती है कि गृह मंत्री ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। बहुत हुई ऐसी बैठकें। अब हमें कार्रवाई की ज़रूरत है, कश्मीर कार्रवाई चाहता है।'

उन्होंने कहा, 'पिछले 30 साल में दो बार ऐसे मौक़े आए जब कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा। और इन दोनों ही बार कश्मीर में बीजेपी का शासन था। इसका मतलब ये कि भाजपा से कश्मीर नहीं संभलता।'

केजरीवाल ने आगे कहा, 'जब कश्मीरी लोग लक्षित हत्याओं का विरोध करते हैं, तो कश्मीर में मौजूदा बीजेपी सरकार उन्हें विरोध करने की अनुमति नहीं देती है। अगर सरकार इस तरह व्यवहार करती है, तो लोगों की पीड़ा दोगुनी हो जाती है।'

मुख्यमंत्री ने कहा, '1990 के बाद एक बार फिर कश्मीरी पंडित पलायन करने को मज़बूर हैं। कश्मीरी पंडितों का नरसंहार हो रहा है तो उन्हें आवाज़ उठाने की अनुमति ना देकर उनकी कॉलोनियों के बाहर ताला लगा दिया जाता है। आज कश्मीरी पंडित केवल अपनी सुरक्षा मांग रहा है।' इसके साथ ही उन्होंने गृह मंत्री द्वारा उच्च स्तरीय बैठक बुलाए जाने के नतीज़ों पर सवाल उठाए। केजरीवाल ने पूछा कि हर बार मीटिंग बुलाई जाती है लेकिन क्या हुआ। उन्होंने कहा कि अब ऐसी बैठकें नहीं चाहिए, बल्कि देश को बीजेपी सरकार प्लान बताए। उन्होंने कहा कि अब कार्रवाई होनी चाहिए, लोग मर रहे हैं।

कार्यक्रम में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, 

आज कश्मीर जल रहा है। हमारा दिल कश्मीरी पंडितों के लिए रो रहा है। बीजेपी ने कश्मीर को घटिया राजनीति का अड्डा बना दिया है। बीजेपी सरकार ने 8 साल में कश्मीर को शांत करने तो दूर कश्मीर को 30 साल पहले वाले बुरे दौर में पहुँचा दिया है।


मनीष सिसोदिया, दिल्ली उप मुख्यमंत्री

आप नेता संजय सिंह ने कहा, 'कश्मीरी पंडित अपनी सुरक्षा के लिए सड़क पर निकल कर आवाज़ उठाते हैं तो मोदी सरकार उन्हें सुरक्षा नहीं देती, उन्हें लाठियों से पिटवाती है। कश्मीरी पंडित सुरक्षा के लिए बिलखते हैं तो उन्हें उनके घर के अंदर ही जेल बना कर कैद कर दिया जाता है।'

आप यह प्रदर्शन तब कर रही है जब जम्मू और कश्मीर में पिछले कुछ महीनों में नागरिकों पर हमलों में वृद्धि हुई है। तीन महीनों में कम से कम 13 लोगों को निशाना बनाकर किए गए हमलों में आतंकवादियों ने मार डाला है। इसके बाद कई कश्मीरी पंडित कथित तौर पर अपने परिवारों के साथ घाटी छोड़ रहे हैं।

जम्मू में स्थानांतरण की मांग को लेकर सरकारी कर्मचारियों के साथ कश्मीरी पंडित कश्मीर में बेहतर सुरक्षा की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

ऐसे हालातों के बीच ही दो दिन पहले केंद्र सरकार ने शीर्ष अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अजीत डोभाल, जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा, सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे, जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह की उपस्थिति में अमरनाथ यात्रा पर भी चर्चा की। यह यात्रा 30 जून से शुरू हो रही है।

ताज़ा ख़बरें

इस बीच कांग्रेस सहित दूसरे विपक्ष दल लक्षित हत्याओं को लेकर केंद्र सरकार पर हमले शुरू कर रहे हैं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी हमला किया। 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि महाराष्ट्र कश्मीरी पंडितों का समर्थन करेगा और उनके पीछे दृढ़ता से खड़ा है। उन्होंने कश्मीरी पंडितों को हर संभव मदद का भरोसा दिया। इसके साथ ही उन्होंने अपने पूर्व सहयोगी बीजेपी पर यह कहते हुए निशाना साधा कि कश्मीरी पंडितों को बेहतर हालात का सपना दिखाया गया था, लेकिन वास्तव में उनके हालात और बदतर होते जा रहे हैं।

दिल्ली से और ख़बरें

शिवसेना नेता ने आगे कहा कि उनको घर वापसी यानी उनके कश्मीर घाटी में पुनर्वास का वादा किया गया था, लेकिन वादे पूरे नहीं किए गए। पीटीआई ने मुख्यमंत्री द्वारा जारी एक बयान के हवाले से कहा है, "कश्मीरी पंडितों को ‘घर वापसी’ (घाटी में पुनर्वास) का सपना दिखाया गया था, लेकिन उन्हें निशाना बनाया जा रहा है और मार दिया जा रहा है। पंडितों का पलायन चौंकाने वाला है।"

मुख्यमंत्री कार्यालय ने ठाकरे के हवाले से कहा है, 'कश्मीरी पंडितों के लिए जो भी संभव होगा, हम करेंगे, हम उन्हें अधर में नहीं छोड़ेंगे। शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में, मैं केवल यह वादा कर सकता हूं कि इस कठिन समय में महाराष्ट्र कश्मीरी पंडितों के साथ मजबूती से खड़ा रहेगा।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें