loader

लॉकडाउन को लेकर 5 लाख से ज़्यादा सुझाव मिले, आने वाला समय बेहद कठिन: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में लॉकडाउन को लेकर लोगों ने अपने सुझाव दिए हैं। उन्होंने कहा कि फ़ोन, ई-मेल और वॉट्स ऐप मैसेज से कुल मिलाकर 5 लाख से ज़्यादा सुझाव आए हैं। 

केजरीवाल ने गुरुवार को कहा, ‘दिल्ली के अधिकतर लोगों का कहना है कि कॉलेज, स्कूल और दूसरे शिक्षण संस्थान गर्मी की छुट्टियों तक बंद रहने चाहिए। इसी तरह अधिकतर लोग होटल बंद रखने के पक्ष में है लेकिन वे चाहते हैं कि रेस्तरां खोल दिए जाएं। इसके अलावा लोग चाहते हैं कि खाने की होम डिलीवरी और टेक अवे (खाना ले जाने) को शुरू कर दिया जाए लेकिन रेस्तरां में बैठकर खाने की अनुमति न दी जाए।’ 

ताज़ा ख़बरें

मुख्यमंत्री ने कहा कि लगभग सभी लोगों की सहमति है कि बार्बर शॉप, सिनेमा हॉल, स्पा, सैलून, स्विमिंग पूल को अभी नहीं खोलना चाहिए। इसके अलावा लोगों का कहना है कि बुजुर्गों, दिल के मरीजों को घर से बाहर नहीं निकलने देना चाहिए। 

केजरीवाल ने कहा, लोगों के सुझाव हैं कि राजधानी में सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होनी चाहिए और मास्क न पहनने वालों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली के लोगों का यह भी कहना है कि मॉर्निंग वॉक के लिए पार्क खोल देने चाहिए। इसके अलावा ऑटो रिक्शा और टैक्सी को भी खोल दिया जाना चाहिए लेकिन उसमें लोगों की संख्या एक या दो होनी चाहिए। 

केजरीवाल के मुताबिक़, अधिकतर लोगों ने कहा है कि बसें शुरू कर देनी चाहिए लेकिन इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए कम सवारियों को चढ़ने देना चाहिए और मेट्रो को भी लिमिटेड तरीक़े से खोलना चाहिए। 

केजरीवाल ने कहा, ‘मार्केट एसोसिएशनों का कहना है कि मार्केट कॉम्प्लेक्स को खोल देना चाहिए, चाहे इसे ऑड-ईवन करके खोला जाए। इसके अलावा लोगों ने कहा कि मॉल्स में एक-तिहाई दुकानों को खोला जाना चाहिए। इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि इंडस्ट्रियल एरिया को पूरी तरह खोला जाना चाहिए।’ 

दिल्ली से और ख़बरें

केजरीवाल ने कहा, ‘पिछले डेढ़ महीने से लॉकडाउन के कारण दिल्ली और देश बंद था। बंद करना आसान था लेकिन अर्थव्यवस्था को खोलने में काफ़ी मेहनत करनी पड़ेगी। आने वाला समय काफ़ी कठिन है।’ 

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों के सुझावों को लेकर शाम को राज्यपाल के साथ बैठक है। बैठक में सुझावों पर चर्चा होगी और इसके बाद दिल्ली सरकार अपना प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार को भेज देगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार फ़ैसला लेगी कि किस राज्य को कितनी ढिलाई देनी है। उन्होंने कहा कि केंद्र के निर्देश के बाद सोमवार से दिल्ली में कुछ काम शुरू होंगे लेकिन हमें सोशल डिस्टेंसिंग को फ़ॉलो करना है और मास्क पहनकर ही बाहर निकलना है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें