loader

हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा ‘अब तक क्यों सो रहे थे’

ऐसे समय जब दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है और राज्य सरकार ने केंद्र के साथ मिल कर एक एक्शन प्लान तैयार किया है, दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को जमकर फटकार लगाई है। 
अदालत ने  केजरीवाल सरकार की खिंचाई करते हुए पूछा है, “किसी शादी में कितने लोग  मौजूद हो सकते हैं, इस पर उसका फ़ैसला बार-बार बदल क्यों रहा है?” अदालत ने यह भी पूछा, “इस पर एक निर्णय लेने में उसे 18 दिन भला कैसे लग गए।” राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना रोगियों की बढ़ती तादाद के मद्देनज़र अदालत की यह फटकार अहम है।
ख़ास ख़बरें

शादी में 50 लोग

दिल्ली सरकार ने एक महत्वपूर्ण फ़ैसले में मंगलवार को कहा कि शादी में अधिकतम 50 लोग मौजूद हो सकते हैं। पहले इसकी अधिकतम सीमा 200 लोगों की थी। दरअसल, पहले सरकार ने शादी-ब्याह में मौजूद रहने वाले लोगों की अधिकतम सीमा 50 ही रखी थी, बाद में उसे बढ़ा कर 200 कर दिया गया। इसके बाद उसे घटा कर एक बार फिर 50 कर दिया गया है।
अदालत ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा, "आपको 1 नवंबर से स्थिति का अंदाज था, पर आप अब पहले के स्तर तक पहुँचे हैं, क्योंकि हमने आपसे कुछ सवाल किए। जब कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या बढ़ रही थी, उसी समय आपको संभल जाना चाहिए था। पर आप तब तक नहीं जगे, जब स्थिति बिगड़ने नहीं लगी।"
delhi high court slams arvind kejriwal on corona - Satya Hindi

'नींद से जगाना पड़ा'

बात यहीं नहीं रुकी। अदालत ने दिल्ली सरकार को फटकारते हुए इसके आगे कहा, "हमें आपको 11 नंबर को क्यों नींद से जगाना पड़ा? आप 1 नवंबर से क्या करते रहे आपको एक फ़ैसला लेने में 18 दिन क्यो लग गए। क्या आपको पता है कि इस बीच कितने लोगों की जान चली गई?"
बता दे कि बुधवार को दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 7,486 नए मामले सामने आए और 131 लोगों की मौत हो गई। यह 24 घंटे में अब तक की सबसे अधिक मृ्त्यु है। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 5,03,084 हो गई और इससे मरने वालों की तादाद 42,458 हो गई।

एक्शन प्लान

कोरोना के मामले में दिल्ली की स्थिति का अंदाज इससे लगाया जा सकता है कि सरकार ने एक एक्शन प्लान बनाया है। बीते हफ्ते गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच हुई बैठक में रोज़ाना की जाने वाली कोरोना जाँच की संख्या दूनी करने, 750 बिस्तर अलग से तैयार रखने और ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने पर फ़ैसला हुआ।
इसके ठीक पहले के 12 दिनों में दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या में में बहुत ही अधिक बढ़ोतरी हुई थी। कुछ हफ़्तों तक संख्या कम रहने के बाद 3 नवंबर को यह 6,725 पर पहुँच गई। अगले तीन दिनों में यह तादाद 7 हज़ार पार कर गई। हालात और बिगड़ी व 11 नवंबर को दिल्ली में कोरोना रोगियों की संख्या 8,593 हो गई।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें