loader

दिल्ली पुलिस ने गांधी प्रतिष्ठान का 'बुलडोजर राज' कार्यक्रम रद्द क्यों किया?

दिल्ली पुलिस ने कथित तौर पर 'सांप्रदायिक राजनीति और बुलडोजर राज' के मसले पर आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम को रद्द कर दिया है। यह कार्यक्रम गांधी शांति प्रतिष्ठान आयोजित करने वाला था और इसमें सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया, नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी (इंडियन), मजदूर एकता सहित कम से कम 12 संगठनों के इसमें शामिल होने की संभावना थी।

यह कार्यक्रम सोमवार को गांधी पीस फाउंडेशन सभागार में शाम 6 बजे से 8 बजे के बीच होने वाला था। लेकिन सोमवार को ही दिल्ली पुलिस ने परिसर का दौरा किया और कथित तौर पर फाउंडेशन को कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने उस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए आयोजकों पर दबाव बनाया।

ताज़ा ख़बरें

आयोजकों का मानना है कि 'सांप्रदायिक राजनीति और बुलडोजर राज' जैसे मुद्दे पर चर्चा की वजह से इस कार्यक्रम को रद्द किया गया है। बता दें कि बुलडोजर का यह मामला तब र्चचा में आया है जब पहली बार मध्य प्रदेश के खरगोन में रामनवमी पर सांप्रदायिक हिंसा के बाद बुलडोजर का इस्तेमाल मकानों को ध्वस्त करने के लिए किया गया। आरोप लगाया गया था कि इसका इस्तेमाल एक खास समुदाय को निशाना बनाने के लिए किया गया।

दिल्ली के जहाँगीरपुरी में भी एक शोभायात्रा के दौरान हिंसा हुई थी और फिर वहाँ भी बुलडोजर का इस्तेमला किया गया। आधिकारिक बयान में कहा गया कि अवैध कब्जों पर वह कार्रवाई की गई, लेकिन आरोप लगा कि एक समुदाय विशेष को निशाना बनाया गया। हालाँकि उस कार्रवाई में कुछ दूसरे समुदाय के ढाँचे भी ढहाए गए। 

अब शाहीन बाग जैसे इलाक़ों में भी बुलडोजर से ऐसी ही कार्रवाई की जा रही है। सवाल उठाए जा रहे हैं कि भले ही कार्रवाई किसी भी कारण से की जा रही है, लेकिन निशाने पर ग़रीब और मध्यम परिवार के लोग आ रहे हैं, न कि धनाढ्य लोग। 

ऐसे ही मसलों को लेकर गांधी शांति प्रतिष्ठान में एक गोष्ठी का आयोजन किया जाना था। लेकिन उस कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा।

मजदूर एकता कमेटी के सचिव बिरजू नायक ने 'द वायर' को बताया, "उन्होंने (दिल्ली पुलिस) विशेष रूप से प्रबंधन को बताया कि कार्यक्रम एक आतंकवादी संगठन द्वारा आयोजित किया जा रहा है, 'इसलिए कृपया कार्यक्रम रद्द करें, अन्यथा हमें सभागार को सील करना होगा'।"

उन्होंने कहा कि इसलिए सभागार ने पुलिस की बात सुनी और अपने ही फाउंडेशन के कार्यक्रम को रद्द कर दिया। 

दिल्ली से और ख़बरें

उन्होंने आगे कहा कि मज़दूर एकता कमेटी ने गांधी पीस फाउंडेशन सभागार में कई कार्यक्रम आयोजित किए थे, लेकिन ऐसी घटना पहले कभी नहीं हुई थी।

द वायर से बात करते हुए सुप्रीम कोर्ट के वकील अरुण मांझी ने पुष्टि की, 'दिल्ली पुलिस ने सभागार प्रबंधन से कहा कि अगर यहाँ बैठक होती है तो वे सभागार को सील कर सकते हैं।' उन्होंने कहा कि हमें उन लोकतांत्रिक अधिकारों को बचाने की कोशिश करनी होगी जो हमसे छीने जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हम देख सकते हैं कि राज्य कैसे उन लोगों पर नज़र रख रहा है जो बैठकें और चर्चा कर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें