loader

दिल्ली पुलिस का दावा- निज़ामुद्दीन मरकज़, देवबंद से जुड़े हैं दंगों के तार

दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि दिल्ली में फ़रवरी में हुए दंगों के एक अभियुक्त के तब्लीग़ी जमात के निज़ामुद्दीन स्थित मरकज़ से संबंध हैं। दिल्ली पुलिस ने बुधवार को क्राइम ब्रांच में दंगों के संबंध में दाखिल की गई चार्जशीट में इस बात का दावा किया है। 

पुलिस के मुताबिक़, 24 फ़रवरी को शिव विहार में एक स्कूल के बाहर हुए दंगों की जांच के दौरान राजधानी स्कूल के मालिक फ़ैसल फ़ारूक़ की कॉल डिटेल से पता चला है कि उसके संबंध इसलामिक संगठन पॉपुलर फ़्रंट ऑफ़ इंडिया (पीएफ़आई), पिंजरा तोड़, जामिया को-ऑर्डिनेशन कमेटी, हज़रत निज़ामुद्दीन और कुछ अन्य कट्टरपंथी मुसलिम संगठनों और देवबंद से भी हैं। पुलिस के मुताबिक़, इससे साज़िश कितनी गहरी थी, इसका पता चलता है। 

ताज़ा ख़बरें

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, पुलिस ने दावा किया है कि फ़ारूक़ ने राजधानी स्कूल के आसपास हुई हिंसा को बढ़ावा देने की साज़िश रची थी। डीआरपी कॉन्वेन्ट स्कूल में आग लगाए जाने के मामले में 18 लोगों को गिरफ़्तार किया गया था। इसमें फ़ारूक़ का भी नाम है। इस मामले में डीआरपी स्कूल के मालिक की ओर से मुक़दमा दर्ज कराया गया था। 

दिल्ली दंगों के दौरान दंगाइयों ने डीआरपी कॉन्वेन्ट पब्लिक स्कूल और राजधानी पब्लिक स्कूल में घुसकर जमकर तोड़फोड़ की थी। दोनों स्कूल अगल-बगल में स्थित हैं।

पुलिस ने चार्जशीट में कहा है कि दिल्ली दंगों से एक दिन पहले 23 फ़रवरी को फ़ारूक़ ने देवबंद का भी दौरा किया था। चार्जशीट में लिखा है कि दंगों की साज़िश रचने का पता इससे भी चलता है कि दंगों वाले दिन (24 फ़रवरी को) मुसलिम परिवारों के कई बच्चों ने स्कूल जल्दी छोड़ दिया था। 

दिल्ली से और ख़बरें

पुलिस के मुताबिक़, ‘दंगाइयों ने राजधानी स्कूल की छत से पेट्रोल बम, एसिड, पत्थर और कई तरह के ख़तरनाक हथियारों का इस्तेमाल किया। दंगाई डीआरपी कॉन्वेन्ट स्कूल में पहुंचने के लिए राजधानी स्कूल की छत से रस्सी के सहारे नीचे उतरे और स्कूल में रखे कंप्यूटर तोड़ दिए और आग लगा दी।’

पुलिस ने कहा है कि दंगाइयों ने एक दूसरी बिल्डिंग जिसमें अनिल स्वीट्स की दुकान थी, उसमें भी आग लगा दी थी। दंगों के दौरान दुकान का कर्मचारी दिलबर नेगी भी अंदर फंस गया था, बाद में उसका बुरी तरह जला शव मिला था। दिल्ली दंगों में 50 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हुए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें