loader

दिल्ली: कोर्ट के आदेश पर टूटा था, फिर से बनाया गया हनुमान मंदिर

पिछले महीने दिल्ली के चांदनी चौक के जिस प्राचीन हनुमान मंदिर को तोड़े जाने पर बीजेपी और आम आदमी पार्टी भिड़ गए थे, उसे फिर से बना दिया गया है। जिस जगह पर यह मंदिर था, उसी के बगल में इसे फिर से स्थापित किया गया है। बताया गया है कि स्थानीय लोगों ने इसे बनाया है। बीजेपी ने मंदिर को फिर से स्थापित करने का स्वागत किया है। 

लेकिन इस बात का कोई पता नहीं है कि रातों-रात यह मंदिर कैसे बना दिया गया। मंदिर किसने बनाया, क्या इसे बनाने के लिए किसी से अनुमति ली गई, इन सवालों का कोई जवाब नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें
अब जब मंदिर फिर से बन गया है तो बीजेपी के नेताओं ने कहा है कि वे वहां जाकर दर्शन करेंगे। दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी ने ‘आज तक’ से कहा है कि किसी की भी धार्मिक भावना को नहीं कुचला जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर यातायात में कोई बाधा नहीं आ रही है तो मंदिर को स्वीकार किया जाना चाहिए। 

दिल्ली से और ख़बरें

हाई कोर्ट का था आदेश 

चांदनी चौक में दिल्ली सरकार का लोक निर्माण विभाग पुनर्विकास का काम कर रहा है और इसमें आड़े आ रहे धार्मिक ढांचों और दूसरी चीजों को हटाकर रास्ते को समतल किया जा रहा है। वर्षों पुराने इस हनुमान मंदिर को भी अतिक्रमण माना गया था और दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश पर ही इसे हटाया गया था। 

इस मामले में आम आदमी पार्टी ने कहा था कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने दिल्ली हाई कोर्ट में कहा था कि वह मंदिर तोड़ने के लिए तैयार है, इस निगम में बीजेपी सत्तारूढ़ है, इसलिए बीजेपी ही मंदिर के टूटने के लिए जिम्मेदार है। 

जबकि बीजेपी का कहना था कि 23 अक्टूबर, 2019 को दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग ने दिल्ली हाई कोर्ट में कहा कि नगर निगम और दिल्ली पुलिस मंदिर को हटाने में सहयोग नहीं कर रहे हैं और इसलिए नगर निगम को यह आदेश दिया जाए कि मंदिर को वहां से हटाया जाए क्योंकि चांदनी चौक के पुनर्विकास में यह मंदिर बाधा बन रहा है। 

बीजेपी का कहना था कि दिल्ली सरकार इस मंदिर को पुनर्विकास योजना का हिस्सा बनाने के लिए तैयार नहीं थी और वह चाहती तो कहीं बगल में इसे बना सकती थी। उन्होंने कहा था कि दिल्ली सरकार की धार्मिक कमेटी ने इस मामले को सुनने से ही इनकार कर दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें