loader

शाहीन बाग़: कपिल गुर्जर के पिता ने कहा - मोदी, शाह का सेवक है बेटा 

दिल्ली विधानसभा चुनाव में मतदान से ठीक पहले घटनाक्रम बहुत तेजी से बदल रहा है। दिल्ली पुलिस की ओर से यह ख़ुलासा किये जाने के बाद कि शाहीन बाग़ में गोली चलाने वाला शख़्स कपिल गुर्जर आम आदमी पार्टी (आप) से जुड़ा है, बीजेपी और ‘आप’ में तीख़े शब्द बाण चले। अब इस मामले में नया घटनाक्रम यह हुआ है कि कपिल के पिता ने कहा है कि उनका बेटा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का सेवक है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कपिल के पिता के इस वीडियो को रि-ट्वीट करते हुए कहा है कि बीजेपी दिल्ली की क़ानून व्यवस्था और देश की सुरक्षा के साथ गंदी राजनीति और खिलवाड़ कर रही है। केजरीवाल ने कहा कि चुनाव के दो दिन पहले ‘आप’ पर झूठा आरोप लगाना गंदी राजनीति थी और इसका सच आज सामने आ गया है। 

ताज़ा ख़बरें

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कपिल के पिता ने कहा, ‘न तो हमने आज तक ‘आप’ की सदस्यता ली है और न ही हमारा ‘आप’ से कोई मैटर है। हमारा किसी पार्टी से कोई मैटर नहीं है। मेरा लड़का मेरे साथ दूध का काम करता है और उसे राजनीति से कोई मतलब नहीं है। मैं ‘आप’ के स्टेज में कहीं नहीं गया हूं, प्रचार में कहीं नहीं गया हूं, आप इसकी जांच कर सकते हैं।’ 

वह आगे कहते हैं, ‘मेरा लड़का कपिल गुर्जर मोदी का समर्थक था। गांव के समाज की वजह से वह वहां चला गया। वह मोदी, अमित शाह जी का सेवक था। वह रोड बंद होने से परेशान था, उसे रोज देर होती थी, 1 घंटे के काम में 4 घंटे लगते थे।’ कपिल के पिता ने कहा, ‘कपिल ज़्यादातर हिंदुस्तान की बात करता है। उसने यह क़दम कैसे उठाया, इस बारे में मुझे नहीं पता। मुझे नहीं पता कि वह वहां कैसे पहुंचा। मेरा ‘आप’ से कोई लेना-देना नहीं है। ना मैंने ‘आप’ की कभी सदस्यता ली। मैं वहां चला गया था और आतिशी जी और संजय जी ने मुझे टोपी पहनाई थी। मैं कभी भी ‘आप’ के कार्यालय नहीं गया।’ 
इससे पहले कपिल के चाचा फतेह सिंह ने भी कहा था कि कपिल का या परिवार के किसी और सदस्य का किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा था कि कपिल का कोई दोस्त भी 'आप' से या किसी दूसरे राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा है।
 कपिल के भाई सचिन गुर्जर ने भी यही कहा था कि उसका भाई किसी भी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा है। मंगलवार शाम को यह ख़बर आई थी कि कपिल ने दिल्ली पुलिस के सामने इस बात को स्वीकार किया है कि वह 2019 की शुरुआत में 'आप' में शामिल हुआ था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक़, कपिल ने यह भी कहा कि उसके पिता गजे सिंह भी 'आप' से जुड़े हैं और दोनों ही 2019 में पार्टी में शामिल हुए थे। 
दिल्ली से और ख़बरें
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की ओर से दावा किया गया था कि कपिल गुर्जर के मोबाइल फ़ोन से उसकी 'आप' के कई वरिष्ठ नेताओं के साथ फ़ोटो मिली थीं। लेकिन 'आप' की ओर से पुलिस के कपिल के 'आप' का सदस्य होने के दावे को पूरी तरह ग़लत बताया गया था।

शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चल रहे धरने में पहुंचे कपिल ने जब हवाई फ़ायर किये थे तो इससे दिल्ली का राजनीतिक तापमान और बढ़ गया था। कपिल ने फ़ायर करने के बाद कहा था कि यहां सिर्फ़ हिंदुओं की चलेगी। तब इस मामले को 'आप' ने दिल्ली की क़ानून व्यवस्था से जोड़ा था और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस ओर ध्यान देने के लिये कहा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें