loader

दिल्ली: बीजेपी बोली- अकबर रोड, तुगलक रोड का नाम बदला जाए

दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने दिल्ली में कई सड़कों के नाम बदले जाने की मांग की है। आदेश गुप्ता ने इस संबंध में नई दिल्ली नगरपालिका परिषद यानी एनडीएमसी के चेयरमैन को पत्र लिखा है। गुप्ता दिल्ली में 40 गांवों के नाम बदले जाने की मांग भी दिल्ली सरकार से कर चुके हैं।

बीजेपी अध्यक्ष ने पत्र में लिखा है कि नई दिल्ली में स्थित तुगलक रोड का नाम मुगल काल की गुलामी का प्रतीक है और इसका नाम बदलकर गुरु गोविंद सिंह मार्ग किया जाए। इसी तरह अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप मार्ग किया जाए और औरंगजेब लेन का नाम बदलकर भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर किया जाए। 

बता दें कि उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद और फैजाबाद जिलों के नाम बदले जाने के बाद कई राज्यों में नामों को बदलने की मांग उठी है। 

ताज़ा ख़बरें

कुछ दिन पहले दिल्ली में ही मोहम्मदपुर गांव का नाम माधवपुरम करने की मांग उठी थी और माधवपुरम लिखा एक पोस्टर भी सोशल मीडिया पर आया था।

बाबर लेन, हुमायूं रोड 

आदेश गुप्ता ने कहा है कि बाबर लेन का नाम बदलकर क्रांतिकारी देशभक्त खुदीराम बोस और हुमायूं रोड का नाम बदलकर महर्षि वाल्मीकि रोड किया जाना चाहिए। इसी तरह शाहजहां रोड का नाम भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ रहे जनरल बिपिन रावत के नाम पर रखने की मांग बीजेपी नेता ने की है। 

उन्होंने इस पत्र को नई दिल्ली की सांसद और केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, एनडीएमसी के वाइस चेयरमैन सतीश उपाध्याय सहित एमडीएमसी के बाकी सदस्यों को भी भेजा है। उन्होंने लिखा है कि यह सभी नाम हमारी गुलामी के प्रतीक रहे हैं और इस बारे में उनके द्वारा प्रस्तावित किए गए नामों का संज्ञान लेकर शीघ्र फैसला किया जाए। 

नाम बदले जाने की यह सियासत उत्तर प्रदेश से शुरू हुई थी और दूसरे कई राज्यों में पहुंच गई है। बीते साल मध्य प्रदेश में भी हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर रानी कमलापति स्टेशन कर दिया गया था।
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष ने कुछ दिन पहले राजधानी के 40 गांवों के नाम खेल, कला और संस्कृति से जुड़ी बड़ी हस्तियों के नाम पर रखने की मांग भी उठाई थी। 
दिल्ली से और खबरें

इन गांवों का नाम बदलने की मांग 

जिन गांवों का नाम बदले जाने की मांग की गई है उनमें बेगमपुर, सैदुल्लाजाब, फतेहपुर बेरी, शेख सराय, नेब सराय, जफरपुर कलां,  कादीपुर, नसीरपुर, हसनपुर, ग़ालिब पुर, ताजपुर खुर्द, नज़फगढ़ आदि शामिल हैं। आदेश गुप्ता ने कहा है कि भारत अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और ऐसे में दिल्ली का कोई भी शख्स गुलामी के किसी भी प्रतीक को नहीं चाहता और विशेषकर इन गांवों के लोग इन नामों के पक्ष में बिलकुल भी नहीं हैं।

आदेश गुप्ता ने कहा था कि दिल्ली अब मुगलों की सराय नहीं है बल्कि यह देश की राजधानी है और इन गांवों के युवा ही गुलामी के इन प्रतीकों को अपने साथ नहीं ढोना चाहते।

यूपी में आए कई प्रस्ताव

उधर, उत्तर प्रदेश में दूसरी बार योगी सरकार बनते ही कई जिलों और इलाकों के नाम बदले जाने के प्रस्ताव सरकार के पास आने लगे हैं। इनमें फर्रुखाबाद का नाम पांचाल नगर, सुल्तानपुर का नाम कुश भवनपुर, अलीगढ़ का नाम हरि गढ़, मैनपुरी का नाम मयन नगर, फिरोजाबाद का नाम चंद्र नगर, आगरा का नाम अग्रवन, मुजफ्फरनगर का नाम लक्ष्मी नगर, उन्नाव जिले के मियागंज का नाम मायागंज और मिर्जापुर का नाम विंध्य धाम रखने का प्रस्ताव है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें