loader

दिल्ली में जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल जारी, स्वास्थ्य मंत्री के साथ वार्ता फेल

दिल्ली में चल रही जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल जारी है। हड़ताली डॉक्टर्स की स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के साथ मंगलवार को मुलाकात भी हुई लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। बता दें कि जूनियर डॉक्टर्स एनईईटी पोस्ट ग्रेजुएट काउंसलिंग में हो रही देरी की वजह से मेडिकल कॉलेजों में दाखिला न मिलने के कारण आक्रोशित हैं। इसके अलावा कॉलेज के आवंटन में देर होने को लेकर भी वे नाराज हैं। 

केंद्र सरकार का इस मामले में कहना है कि वह कुछ नहीं कर सकती क्योंकि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है। पिछले हफ्ते इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इस मामले में दखल देने की मांग की थी। 

डॉक्टर्स ने सोमवार रात को भी जोरदार प्रदर्शन किया था और मेडिकल सुविधाओं को पूरी तरह बंद करने की चेतावनी दी थी। 

ताज़ा ख़बरें

एम्स के डॉक्टर्स काम पर लौटे 

जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल के समर्थन में एम्स की रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन भी आगे आ गई थी। लेकिन मंगलवार रात को एम्स के डॉक्टर्स ने हड़ताल वापस ले ली। 

उन्होंने कहा कि 29 दिसंबर से एम्स में सभी स्वास्थ्य सुविधाएं सामान्य हो जाएंगी। 

Resident Doctors Protest In Delhi Over NEET PG counselling - Satya Hindi

पुलिस से हुई थी झड़प

डॉक्टर्स से मुलाकात के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने पुलिस के बर्ताव को लेकर खेद भी जताया। 

बता दें कि जूनियर डॉक्टर्स ने सोमवार को जब सुप्रीम कोर्ट तक मार्च निकालने की कोशिश की थी तो इस दौरान उनकी पुलिस से झड़प हुई। इस दौरान कई लोग घायल हो गए महिला डॉक्टर्स ने आरोप लगाया कि मार्च के दौरान उनके साथ अभद्रता की गई और बल प्रयोग किया। हालांकि दिल्ली पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि उसने किसी तरह का बल प्रयोग किया। 

दिल्ली से और खबरें

पुलिस ने कहा था कि प्रदर्शनकारियों ने 6 से 8 घंटे तक आईटीओ की ओर जाने वाली रोड के एक हिस्से को जाम कर दिया था और कई बार अनुरोध किए जाने के बाद भी जाम नहीं खोला। 

देश में ओमिक्रॉन के बढ़ रहे संकट को देखते हुए जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल के कारण तमाम तरह की चिंताएं भी बढ़ गई हैं। 

डॉक्टर्स की हड़ताल के कारण 3 बड़े सरकारी अस्पतालों सफदरजंग, राम मनोहर लोहिया, लेडी हार्डिंग में स्वास्थ्य सुविधाएं प्रभावित हुई हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें