loader

सिरसा बोले- दीप सिद्धू को देंगे क़ानूनी मदद, बीजेपी समर्थकों ने घेरा

26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा और लाल क़िले पर निशान साहिब फहराने के मामले के मुख्य अभियुक्त दीप सिद्धू को लेकर दिए गए एक बयान के कारण शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा घिर गए हैं। सिरसा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) के अध्यक्ष होने के साथ-साथ अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं। सिरसा इन दिनों किसान आंदोलन में खासे सक्रिय हैं। 

सिरसा ने ट्वीट कर कहा, “जिस दिन दीप सिद्धू को रिमांड पर लिया गया था, मेरी उससे बात हुई, वह ठीक और सेहतमंद है। मैंने दीप को भरोसा दिलाया है कि डीएसजीएमसी उसे हरसंभव क़ानूनी सहायता देगी और वह जल्द से जल्द जेल से बाहर आ सके, इसमें पूरी मदद करेगी।” 

ताज़ा ख़बरें

सिरसा के इस ट्वीट के बाद बीजेपी नेता और कुछ अन्य लोग उनके पीछे पड़ गए और पूछा कि गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बाद तो सिरसा कह रहे थे कि दीप सिद्धू बीजेपी का आदमी है, अब डीएसजीएमसी उसे क़ानूनी सहायता क्यों दे रही है। 

बीजेपी महिला मोर्चा की राष्ट्रीय सोशल मीडिया प्रभारी प्रीति गांधी ने कहा, “सब जानते हैं कि दीप सिद्धू विपक्ष का राजनीतिक मोहरा है। दीप को बीजेपी नेता के रूप में दिखाने के बाद सिरसा उसे जमानत दिलाने की कोशिश कर रहे हैं।” गांधी ने कहा कि मासूम किसानों को गुमराह किया जा रहा है। 

बीजेपी समर्थकों ने कहा कि बीजेपी का दीप सिद्धू से क्या रिश्ता है, इसका कोई सबूत नहीं है लेकिन सिरसा का प्यार उसके लिए उमड़ रहा है। 

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि दीप सिद्धू बीजेपी का नेता है और वही उसे बचाने की कोशिश कर रही है। 

कभी साथ थे अकाली-बीजेपी 

कुछ महीने पहले तक जब बीजेपी और अकाली दल साथ थे तो सिरसा दिल्ली विधानसभा चुनाव में अकाली दल को गठबंधन के तहत मिलने वाली सीटों में से एक पर चुनाव लड़ते थे और सहयोगी दल होने के कारण स्वाभाविक रूप से बीजेपी उनके साथ खड़ी रहती थी। लेकिन कृषि क़ानूनों के मसले पर अकाली दल के एनडीए से बाहर निकलने के बाद दोनों दलों के रिश्ते बिगड़ चुके हैं।  

दिल्ली से और ख़बरें

लाल क़िले पर हुई हिंसा के बाद दीप सिद्धू कई दिन तक फरार रहा था। कुछ दिन बाद उसे हरियाणा के करनाल से गिरफ़्तार किया गया था जबकि एक और अभियुक्त लक्खा सिढाणा को दिल्ली पुलिस अब तक गिरफ़्तार नहीं कर सकी है। 23 फरवरी को सिद्धू को दिल्ली की एक अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। 

कुछ दिन पहले दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने सिद्धू को घटनास्थल पर लाकर उससे यह जानने की कोशिश की थी कि लाल क़िले पर निशान साहिब को फहराए जाने की घटना को किस तरह अंजाम दिया गया। क्राइम ब्रांच की टीम ने सीन रीक्रिएट कर कई सवालों के जवाब ढूंढने की कोशिश की थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें