loader

दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना केंद्र दिल्ली में, 10 हज़ार बेड होंगे

दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण तेज़ी से बढ़ने और अस्पताल बेड कम पड़ने की आ रही ख़बरों के बीच दुनिया का सबसे बड़ा अस्थायी कोरोना इलाज केंद्र तैयार किया जा रहा है। यह क़रीब 22 फ़ुटबॉल मैदान जितना बड़ा होगा। इसमें क़रीब 10 हज़ार बेड होंगे। यह केंद्र दक्षिणी दिल्ली के राधा स्वामी आध्यात्मिक केंद्र में बनाया जा रहा है। 

इतना बड़ा सेंटर बनाए जाने की ख़बर तब आ रही है जब दिल्ली के कई अस्पतालों में कोरोना वायरस मरीज़ों का बेड फुल होने की शिकायतें आने लगी हैं। इस बीच मरीज़ों की संख्या बेतहाशा बढ़ने की आशंका जताई गई है। 

ताज़ा ख़बरें

पिछले हफ़्ते ही दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था, ‘15 जून तक कोरोना संक्रमण के 44 हज़ार मामले हो जाएँगे और क़रीब 6,600 बेड की आवश्यकता होगी, 30 जून तक मामले 1 लाख तक पहुँच जाएँगे और 15 हज़ार बेड की आवश्यकता होगी, 15 जुलाई तक क़रीब सवा दो लाख तक मामले हो जाएँगे और 33 हज़ार बेड की ज़रूरत होगी और 31 जुलाई तक दिल्ली में क़रीब साढ़े पाँच लाख केस पहुँच जाएँगे और इसके लिए 80 हज़ार बेड की ज़रूरत होगी।’ 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा था कि राजधानी में कोरोना के मरीजों का इलाज जानवरों से भी बदतर ढंग से हो रहा है। शीर्ष अदालत की तीन जजों की बेंच ने कोरोना मरीजों के इलाज में हो रही लापरवाहियों का स्वत: संज्ञान लिया था। बेंच में शामिल जस्टिस एम.आर. शाह ने कहा था, ‘एक मामले में तो शव कूड़ेदान में मिला। यह क्या हो रहा है।’

दिल्ली में कोरोना संक्रमण, जाँच व्यवस्था, अस्पतालों की हालत पर 'भयावह और दयनीय' स्थिति कहकर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार की खिंचाई की थी।

अदालत ने अरविंद केजरीवाल सरकार से कहा कि वह कोरोना वायरस की टेस्टिंग कम क्यों हो रही है, इस बारे में जवाब दे। 

इन सब घटनाक्रमों के बाद दिल्ली में कोरोना वायरस टेस्ट को तीन गुना बढ़ाने का फ़ैसला लिया गया। इसके साथ ही अस्पतालों के बेड की कमी को पूरा करने के लिए ट्रेन के पाँच सौ डब्बे दिये जाने की बात भी कही गई। देश के गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री के साथ बैठक के बाद यह जानकारी दी थी। 

सम्बंधित खबरें

अब इसी बीच दुनिया में सबसे बड़े कोरोना सेंटर बनाए जाने की ख़बर आई है। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, छतरपुर केंद्र में 12,50,000 वर्ग फुट का एक कवर क्षेत्र है, 22 फुटबॉल मैदानों जितना बड़ा। पहले से ही पंखे और सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं और जहाँ लगभग 3 लाख लोग उपदेश में भाग ले सकते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, राधा स्वामी सत्संग ब्यास, भाटी माइंस के सचिव विकास सेठी ने कहा, 'सुविधा का उपयोग हाल तक प्रवासी श्रमिकों को आश्रय देने के लिए किया जा रहा था। इसकी सामुदायिक रसोई अर्ध-औद्योगिक है और एक समय में हज़ारों लोगों को खिला सकती है।'

दिल्ली से और ख़बरें

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिणी दिल्ली के मजिस्ट्रेट बीएम मिश्रा ने कहा कि इसमें 500-500 बेड के 20 मिनी हॉस्पिटल की तरह काम करेंगे। कम से कम 400 डॉक्टर 2 शिफ़्ट में काम करेंगे। 

कहा जा रहा है कि इस सेंटर की विशेषता है कि बेड को सैनिटाइज़ करने की ज़रूरत नहीं होगी। दरअसल, ये बेड कार्डबोर्ड के हैं जिसमें कोरोना वायरस 24 घंटे से ज़्यादा सक्रिय नहीं रहता है, जबकि लोहे, प्लास्टिक या लकड़ी पर पाँच दिन तक भी सक्रिय रह सकता है।

बता दें कि दिल्ली में अब तक 42 हज़ार 829 संक्रमण के मामले आए हैं और 1400 लोगों की मौत हुई। हर रोज़ शहर में क़रीब 2000 मामले आने लगे हैं। दिल्ली देश में तीसरे सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्य है। दिल्ली से ज़्यादा तमिलनाडु में 46 हज़ार 504 संक्रमण के मामले, 479 लोगों की मौत हो चुकी है। महाराष्ट्र में 1 लाख 10 हज़ार 744 पॉजिटिव केस, 4128 लोगों की मौत हुई। शहरों के हिसाब से देखें तो मुंबई के बाद सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले दिल्ली में ही आए हैं। देश भर में अब तक 3 लाख 43 हज़ार 91 पॉजिटिव केस आए, 9900 लोगों की मौत हुई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें