loader

मोदी को झूठा बताने के लिए राहुल ने शेयर किया फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने कल मोदी को झूठा बताने के चक्कर में ख़ुद को ही झूठा साबित कर दिया। उन्होंने ट्विटर पर ऑक्सफ़र्ड डिक्शनरी का एक पेज शेयर किया जिसमें Modilie नामक एक शब्द का अर्थ बताया गया है और साथ में ऐसे वाक्य भी दिए गए हैं जिनमें modilie शब्द का इस्तेमाल हुआ है। पहली नज़र में लगता है कि मोदी के लगातार झूठ बोलते रहने के कारण अंग्रेज़ी भाषा में यह शब्द आ गया है - Modilie जिसका अर्थ है लगातार और आदतन बोला गया झूठ। देखें राहुल का ट्वीट-
दरअसल यह ट्वीट Modilie को लेकर किया गया राहुल गाँधी का दूसरा ट्वीट है। इससे पहले के ट्वीट को राहुल गाँधी ने डिलीट कर दिया है।उन्होंने जो पहला ट्वीट किया, उसमें शेयर किये गये स्क्रीनशॉट के अनुसार यह पेज Oxford Dictioanaries का है। लेकिन जब हमने Oxford Dictioanaries की वेबसाइट (https://en.oxforddictionaries.com) पर इस शब्द को सर्च किया तो हमें यह पेज नहीं मिला (देखें चित्र)। 
rahul shares photoshoped screenshot of modilie living dictionary  - Satya Hindi
ऑक्सफ़ोर्ड का असली पेज।
फिर हमने दोनों पेजों की तुलना की। पहले ट्वीट में राहुल द्वारा शेयर किये गये स्क्रीनशॉट का लोगो और Oxford Dictioanaries की वेबसाइट का मूल लोगो अलग-अलग हैं। यानी यह साफ़ है कि यह सारा मामला फ़ोटोशॉप का है।
rahul shares photoshoped screenshot of modilie living dictionary  - Satya Hindi
राहुल के पहले ट्वीट का स्क्रीनशॉट जिसमें Oxford Living Dictionaries का ज़िक्र है।
राहुल ने जो दूसरा स्क्रीनशॉट शेयर किया है, उसमें भी ऑक्सफ़र्ड डिक्शनरीज़ के पेज पर जो लोगो लगा है, वह Oxford नाम में मौजूद O के प्रतीक रूप में गोल है, जबकि वेबसाइट पर जो पेज उपलब्ध है, उसमें O का पेट ऊपर से कटा हुआ है और उससे d की आकृति उभरती है (देखें चित्र)। 
rahul shares photoshoped screenshot of modilie living dictionary  - Satya Hindi
यानी राहुल के ट्वीट में शेयर किये गये दूसरे स्क्रीनशॉट का लोगो और Oxford Dictioanaries की वेबसाइट का मूल लोगो अलग-अलग हैं। इसका साफ़ मतलब है कि यह भी मामला फ़ोटोशॉप का ही है। इसके अलावा जहाँ सर्च किया जाता है, वहाँ Powered by OXFORD लिखा हुआ है। राहुल के स्क्रीनशॉट में ऐसा कुछ नहीं लिखा है।

कोई भी कंपनी अपना लोगो हर जगह एक जैसा रखती है। राहुल के पेज पर ऑक्सफ़र्ड डिक्शनरीज़ का लोगो ही बदला हुआ है जिससे साफ़ है कि वह फ़र्ज़ी पेज शेयर कर रहे हैं। मोदी को झूठा बताने के चक्कर में राहुल शायद भूल गए हैं कि दो झूठ मिलाकर कभी भी एक सच नहीं बनता।

बता दें कि कांग्रेस और राहुल गाँधी अक्सर मोदी पर झूठ बोलने का आरोप लगाते रहे हैं। चाहे वह रफ़ाल मामला हो या हर साल दो करोड़ रोज़गार देने का मामला हो या हर भारतीय के बैंक खाते में 15 लाख रुपये डालने का मामला हो, कांग्रेस इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी को घेरती रही है। लेकिन इस बार राहुल ख़ुद झूठे साबित हो गए।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें