loader
अपने घर को पलायन करते लोग। (फ़ाइल फ़ोटो)

सूरत: पलायन कर रहे लोगों को रोकने पर झड़प, पुलिस ने आँसू गैस के गोले छोड़े

सूरत में टेक्सटाइल्स फ़ैक्ट्री के मज़दूरों को अपने गृह राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार जैसे राज्यों के लिए पलायन करने से रोकने पर हिंसा हो गई। यह घटना रविवार शाम की है। रिपोर्टों के अनुसार, जब क़रीब 500 ऐसे मज़दूरों को रोका गया तो उन्होंने पथराव कर दिया और पुलिस वाहनों को नुक़सान पहुँचाया। पुलिस ने लाठी चार्ज किया और आँसू गैस के गोले दागे। पुलिस को प्रदर्शन करने वालों को उनकी कॉलोनी में वापस धकेलने के लिए बल का प्रयोग करना पड़ा। पुलिस ने दंगा करने के आरोप में 96 लोगों को गिरफ़्तार किया था जिन्हें बाद में सोमवार को ज़मानत मिल गई। ऐसी रिपोर्टें हैं कि गिरफ़्तार किए गए सभी लोग टेक्सटाइल्स के मज़दूर थे। 

इतने बड़े स्तर पर शायद यह पहला ऐसा मामला सामने आया है जहाँ घर के लिए पलायन करने वाले लोगों के साथ पुलिस की ऐसी झड़प हुई है और पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा है। लॉकडाउन के बाद ऐसा मामला पूरे देश भर में आया है जहाँ लोग सैकड़ों किलोमीटर दूर अपने घरों के लिए पैदल ही निकल गए। दिल्ली-एनसीआर से पलायन करने वाले लोगों की ऐसी तसवीरें आती रही हैं जो विचलित करती हैं। लॉकडाउन के बाद पिछले 4-5 दिनों से जैसे-तैसे अपने घर पहुँचने की जद्दोजहद में हज़ारों ग़रीब और मज़दूर दिल्ली-एनसीआर सहित देश के बड़े-बड़े शहरों को छोड़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने तो ऐसे लोगों को लिए 1000 बसों का इंतज़ाम भी किया। लोगों के पलायन करने के ऐसे ही मामले पंजाब, हैदराबाद, चेन्नई, बेंगलुरु जैसे शहरों से भी आए। ऐसे लोगों के सामने दिक्कत यह है कि उनके लिए बिना काम के भूखे रहने की नौबत आ गई है और इसी कारण लोग पैदल घर पहुँच जाना चाहते हैं।

ताज़ा ख़बरें

सूरत में भी लॉकडाउन के कारण टेक्सटाइल्स मज़दूरों के काम ख़त्म हो गए हैं। उनके सामने अब खाने का संकट आ गया है। इसी संकट को देखते हुए बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के मज़दूर पैदल घर के लिए निकल गए। लेकिन हाईवे पर पहुँचने के पहले ही इन्हें रोक दिया गया और कहा गया कि हाईवे पर कोई भी वाहन उपलब्ध नहीं हैं। इसके बाद भी वे नहीं माने और उन्होंने आगे बढ़ना जारी रखा। इसके बाद स्थिति बिगड़ गई और पुलिस को और ज़्यादा पुलिस कर्मियों को बुलाना पड़ा। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आँसू गैस के गोले दागने पड़े। 

गुजरात से और ख़बरें

हालाँकि पुलिस पलायन कर रहे लोगों को धकेलकर वापस उनकी कॉलोनी पांडेसरा में पहुँचाने में कामयाब हो गई, लेकिन इस हिंसा में काफ़ी नुक़सान भी हुआ। रिपोर्ट के अनुसार पुलिस का कहना है कि डीसीपी विधि चौधरी के वाहन सहित पुलिस की तीन गाड़ियों को नुक़सान पहुँचा है। हालाँकि कोई भी पुलिसकर्मी घायल नहीं हुआ है। 

गिरफ़्तार गिए गए लोगों को सोमवार को स्थानीय अदालत में पेश किया गया जिन्हें ज़मानत दे दी गई। पुलिस का कहना है कि स्थिति अब नियंत्रण में है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें