loader

MeToo- उत्पीड़न के आरोप पर गुरुग्राम में 14 साल के किशोर ने की आत्महत्या: पुलिस

दिल्ली में 'बॉयज़ लॉकर रूम' विवाद के बाद फिर से चर्चा में आए 'MeToo' अभियान में गुरुग्राम में एक लड़की द्वारा सोशल मीडिया पर उत्पीड़न का आरोप लगाए जाने के बाद 14 वर्षीय किशोर ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मंगलवार को कहा कि किशोर ने अपने घर के अपार्टमेंट की 11वीं मंजिल से कूदकर जान दे दी। लड़की ने अपने साथ दो साल पहले घटी घटना के बारे में इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट किया था। 

उसकी मौत से कुछ घंटे पहले ही एक लड़की ने इंस्टाग्राम पर 'MeToo' में पोस्ट कर उस किशोर पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था। 'बॉयज़ लॉकर रूम' का मामला आने के बाद 'MeToo' को टैग कर उत्पीड़न की शिकार लड़कियाँ अपनी साथ घटी उत्पीड़न की घटनाएँ व्यक्त कर रही हैं। पिछले दो दिन से 'बॉयज़ लॉकर रूम' को लेकर विवाद चल रहा है। 'बॉयज़ लॉकर रूम' इंस्टाग्राम पर बनाया गया एक चैट ग्रुप था। यह इसलिए चर्चा में है कि इसमें शामिल स्कूल के लड़के बलात्कार की धमकी देते थे, लड़कियों की आपत्तिजनक तसवीरें और वीडियो शेयर करते और चैट करते थे।

ताज़ा ख़बरें
दो दिन पहले ही एक लड़की के बारे में ऐसा ही पोस्ट सामने आने पर उसने शिकायत की। वह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद दिल्ली के एक प्रतिष्ठित स्कूल के एक छात्र को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। आरोप था कि इस छात्र ने एक इंस्टाग्राम चैट ग्रुप में अपनी ही क्लास की एक छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार करने की बात की। 'बॉयज़ लॉकर रूम' नाम के इस चैट रूम और उसकी गतिविधियों पर सोशल मीडिया में काफ़ी ग़ुस्सा है, लोग उस पर बात कर रहे हैं, यह चैट ग्रुप ट्रेंड कर रहा है। 

इसी बीच गुरुग्राम में एक किशोर की जान देने की ख़बर आई। ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, एक पुलिस अधिकारी ने कहा, 'आत्महत्या करने वाले किशोर ने कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है लेकिन उसके फ़ोन से मैसेज मिले हैं। उसके दोस्तों द्वारा भेजे गये मैसेज में उसको चेतावनी दी गई है कि पुलिस पूछताछ करेगी।' इससे पहले लड़की ने अपने साथ दो साल पहले हुई घटना के बारे में इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया था। उसने लिखा, 'इसे गुप्त रखकर उब चुकी हूँ।' उसने अपने अपार्टमेंट कॉम्पलेक्स के बेसमेंट में कथित तौर पर घटी उस घटना का ज़िक्र किया था और उस किशोर का नाम भी लिया था। 

हरियाणा से और ख़बरें

रिपोर्ट में कहा गया है कि सेक्टर 53 के एसएचओ दीपक कुमार ने कहा कि रात में जब घटना घटी उस दौरान गार्ड ने तेज़ आवाज़ सुनी और वे घटनास्थल पर पहुँचे। उन्होंने रात क़रीब साढ़े ग्यारह बजे ख़ून में सने लड़के को ज़मीन पर पड़ा देखा। हॉस्पिटल ले जाने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। कहा गया है कि इस मामले में सुसाइड की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई है। पुलिस का कहना है कि वह छात्रों और उस लड़की से भी पूछताछ करेगी।

'बॉयज़ लॉकर रूम' विवाद के बाद MeToo फिर से चर्चा में आ गया है। दरअसल, 2018 से दुनिया भर की महिलाओं ने #MeToo कैंपेन के तहत अपने साथ हुई यौन दुर्व्यवहार और यौन शोषण की घटनाओं को सोशल मीडिया पर और दूसरी जगहों पर शेयर करती रही हैं। कई नामी-गिरामी पुरुषों के नाम इसमें सामने आए हैं। उस दौरान तत्कालीन मंत्री रहे एमजे अकबर का भी नाम आया था और उन्हें मंत्री पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था। लेकिन फिर बाद में MeToo अभियान शांत पड़ गया था। लेकिन अब 'बॉयज़ लॉकर रूम' का मामला आने के बाद फिर से यह MeToo अभियान तेज़ हो गया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें