loader
बीजेपी हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती। (फ़ाइल फ़ोटो)सतपाल सिंह सत्ती/फ़ेसबुक

हिमाचल प्रदेश: बीजेपी में लोकसभा टिकटों को लेकर घमासान

हिमाचल प्रदेश में चार लोकसभा क्षेत्र हैं, यहाँ इस समय चारों सीटों पर बीजेपी क़ाबिज़ है और प्रदेश में सरकार भी बीजेपी की है। इसी के चलते विपक्षी दल कांग्रेस को यहाँ चुनाव जीतना आसान नहीं है। चुनावी बिगुल बज चुका है और बीजेपी व कांग्रेस दोनों ही दल मैदान में हैं।
चुनाव प्रचार में बीजेपी कांग्रेस से कहीं आगे है, लेकिन प्रत्याशियों को पहली लड़ाई टिकट पाने है। बता दें कि प्रदेश में चुनाव सातवें चरण में है जो 19 मई को है। दोनों ही दल इसी लिहाज़ से अपने-अपने उम्मीदवार घोषित करेंगे। वर्तमान में मंडी से बीजेपी के रामस्वरूप शर्मा सांसद हैं तो वहीं शिमला से वीरेंद्र कश्यप हैं। कांगड़ा-चंबा सीट से बीजेपी के ही वरिष्ठ नेता शांता कुमार सांसद हैं। वहीं हमीरपुर से पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर सांसद हैं।
ताज़ा ख़बरें

शांता कुमार पर विचार

इस समय सबसे अधिक चर्चा कांगड़ा के सांसद शांता कुमार को लेकर हो रही है। उन्होंने चुनाव न लड़ने की इच्छा जताई थी, लेकिन फिर कुछ समय पहले पार्टी नेतृत्व पर निर्णय छोड़ने की बात कह कर सियासी माहौल गर्म कर दिया है। लिहाज़ा अगर शांता कुमार चुनाव नहीं लड़ते हैं तो कांगड़ा से बीजेपी का कौन चेहरा होगा, इस पर भी मंथन जारी है।
बीजेपी में शांता कुमार के अलावा प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार का नाम भी ज़ोरों पर है। इसके अलावा केसीसी बैंक के चेयरमैन राजीव भारद्वाज, फतेहपुर से विधायक का चुनाव लड़ चुके कृपाल परमार, वूल फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष त्रिलोक कपूर, पूर्व विधायक दूलो राम के नाम भी चर्चा में हैं। यह नाम आगे उसी सूरत में बढ़ेंगे,जब ख़ुद शांता कुमार ही मैदान से हट जायें और चुनाव लड़ने से मना कर दें।
हिमाचल से और ख़बरें

टिकट के लिए लगी होड़

वहीं, शिमला संसदीय चुनाव क्षेत्र से बीजेपी के वर्तमान सांसद वीरेंद्र कश्यप का टिकट भी आलाकमान के लिए काटना आसान नहीं होगा।  कश्यप अभी इस रिज़र्व सीट से मज़बूत प्रत्याशी माने जा रहे हैं। हालाँकि शिमला से बीजेपी में टिकट की दौड़ में कई नए चेहरे भी आ गये हैं। इनमें जयराम सरकार के सहकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल के अलावा पच्छाद से विधायक सुरेश कश्यप, रोहडू से विधानसभा का चुनाव लड़ चुकीं शशि बाला, शिमला मेयर कुसुम सदरेट और एचएन कश्यप का नाम भी उनके समर्थक उछाल रहे हैं।
इसी तरह मंडी से बीजेपी के मौजूदा सांसद रामस्वरूप शर्मा भी मज़बूत दावेदार हैं। रामस्वरूप का नाम मंडी सम्मेलन के दौरान ख़ुद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ले चुके हैं।
वहीं, मुख्यमंत्री जयराम के गृह संसदीय क्षेत्र में पूर्व केंद्रीय मंत्री और कद्दावर नेता पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा के ताल ठोकने के बाद सियासी माहौल बदल गया है। इसके अलावा कुल्लू से विधानसभा चुनाव हार चुके महेश्वर सिंह और अजय राणा के नाम भी संभावित प्रत्याशियों के तौर पर लोगों की ज़ुबान पर हैं।
बता दें कि हमीरपुर के वर्तमान सांसद अनुराग ठाकुर ने भी अगले चुनाव को लेकर एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा रखा है, लेकिन पिता और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल की हार के बाद से कुछ नए नामों की चर्चा है। इनमें सबसे बड़ा नाम पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती का है। इसको लेकर सत्ती ने तो दावा नहीं किया है, लेकिन समर्थकों ने सोशल मीडिया पर उनके नाम को लेकर चर्चा छेड़ रखी है। पूर्व सांसद सुरेश चंदेल का नाम अभी भी टिकट के दावेदारों में चल रहा है।आने वाले दिनों में अब यह देखना होगा कि पार्टी मौजूदा सांसदो पर विश्वास व्यक्त कर एक बार फिर उन्हें मैदान में उतारती है या फिर बदलाव लाकर सभी को चौंकाती है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विजयेन्दर शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें