loader
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ निवर्तमान प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल।

हिमाचल प्रदेश: पीपीई किट घोटाले का शोर, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने दिया इस्तीफ़ा

स्वास्थ्य विभाग में हुए भ्रष्टाचार को लेकर हिमाचल प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल को इस्तीफ़ा देना पड़ा है। राज्य में इन दिनों एक ऑडियो क्लिप वायरल हो रही है। यह ऑडियो क्लिप स्वास्थ्य महकमे के निदेशक डॉ. अजय गुप्ता की है। ऑडियो क्लिप में 5 लाख रुपये की कथित रिश्वत लेने की बात हो रही है। 

ख़बरों के मुताबिक़, यह मामला पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) किट और सैनिटाइजर की ख़रीद घोटाले में रिश्वत लेने से जुड़ा है। विपक्षी दल कांग्रेस और सीपीआई (एम) ने इस मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। 

ताज़ा ख़बरें

ऑडियो क्लिप में गुप्ता जिस शख़्स से बात कर रहे हैं, उसे एक बीजेपी नेता का क़रीबी बताया गया है। विपक्ष ने मांग की है कि इस नेता का नाम उजागर किया जाए। 

अंग्रेजी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक़, गुप्ता की कॉल डिटेल से पता चला है कि उनकी गिरफ़्तारी वाले दिन वह बीजेपी ऑफ़िस के नजदीक मौजूद थे। कांग्रेस नेता सुधीर शर्मा ने पूछा है कि गुप्ता बीजेपी ऑफ़िस में किससे मिले थे। 

डॉ. राजीव बिंदल ने कहा है कि ऑडियो क्लिप वायरल होते ही राज्य सरकार ने निदेशक डॉ. अजय गुप्ता को गिरफ़्तार कर लिया था और मामले की जांच राज्य के सतर्कता विभाग द्वारा की जा रही है। बिंदल को इस साल जनवरी में प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था। इससे पहले वह हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष थे। 

बिंदल ने बुधवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को भेजे गए इस्तीफ़े में कहा है कि वह इस बात को पूरे भरोसे के साथ कह रहे हैं कि इस वायरल ऑडियो क्लिप का बीजेपी के साथ कोई लेना-देना नहीं है और पार्टी इस मामले में बेदाग है। 

Himachal Pradesh BJP president Dr Rajeev Bindal resigns  - Satya Hindi
बिंदल ने कहा है कि कुछ लोग इस मामले में बेवजह बीजेपी का नाम खींच रहे हैं और इस वजह से वह नैतिक आधार पर इस्तीफ़ा दे रहे हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें