loader
प्रतीकात्मक तसवीर

हिमाचल: विस्फोटक खिलाने से गर्भवती गाय घायल, एक आरोपी गिरफ़्तार

हिमाचल के बिलासपुर में एक गर्भवती गाय को विस्फोटक खिला देने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ़्तार किया है। आरोप है कि पिछले महीने गेहूँ के आटे में विस्फोटक मिलाकर गाय को खिला दिया गया था। यह मामला तब आया जब एक घायल गाय का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। गाय के मालिक ने उस वीडियो को पोस्ट किया था। इसमें कहा गया था कि केरल में गर्भवती हथिनी को जिस तरह से विस्फोटक भरा अनानास खिला दिया गया था और उससे उसकी मौत हो गई थी विस्फोटक खिलाने की वैसी ही घटना हिमाचल प्रदेश में एक गर्भवती के साथ हुई है। 

बता दें कि हाल ही में केरल में एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई है। कुछ लोगों ने अनानास के अंदर पटाखे भर दिए थे और ये अनानास उसे खाने के लिए दिए थे। हथिनी के मुंह में पटाखे फट गए और कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। उसके पेट में जो बच्चा था, वह भी मर गया। सोशल मीडिया पर हथिनी और उसके बच्चे की मौत को लेकर लोगों ने गहरा दुख जताया और पटाखे खिलाने वाले लोगों को जमकर लानतें भेजीं। 

ताज़ा ख़बरें

यह घटना तब सामने आई जब वन विभाग के एक अधिकारी ने इसके बारे में जानकारी दी और यह सोशल मीडिया पर वायरल हुई। गर्भवती हथिनी केरल के जंगलों से खाने की तलाश में एक नजदीकी गांव में पहुंची थी। वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक़, गाँव में हथिनी ने अनानास खाया था। इस अनानास में पटाखे भरे हुए थे। ये पटाखे स्थानीय लोगों द्वारा जंगली सुअरों से अपने खेतों की रक्षा के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। 

कुछ ऐसी ही घटना हिमाचल प्रदेश में भी आई। पुलिस के अनुसार, यह घटना 25 मई की रात लगभग 8 बजे झंडूता तहसील के दहद गाँव में घटी जब पालतू गाय के मालिक गुरदयाल सिंह ने खेतों में चरने के लिए उसे छोड़ दिया था। पुलिस ने बताया कि गाय के मालिक गुरदयाल सिंह की शिकायत पर उसके पड़ोसी नंदलाल को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

हिमाचल से और ख़बरें

'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने कहा, 'माना जाता है कि गाय झाड़ियों और झाड़ियों से ढंके हुए क्षेत्र में पड़ोसी के खेतों की ओर भटक गई थी, जहाँ किसी ने कुछ गेहूँ के आटे को विस्फोटक पदार्थों के साथ मिलाया था।' गाय ने उसको खा लिया, जिससे विस्फोट हुआ। इससे उसके जबड़े और मुँह के अन्य हिस्सों में गंभीर चोटें आईं।

गाय के मालिक ने उसका चिकित्सकीय उपचार कराया और पुलिस को भी सूचित किया, जिसके बाद झंडूता में पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया। फिर उन्होंने इंटरनेट पर इसका वीडियो अपलोड कर दिया जो वायरल हो गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें