loader
किसान नेता राकेश टिकैत भी तेलंगाना के सीएम के साथ धरने पर बैठे। फोटो टीआरएस सोशल मीडिया

पीएम मोदी और गोयल के पास 24 घंटे, चावल खरीदो या मुझे अरेस्ट करोः केसीआर

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने प्रधानमंत्री मोदी को चेतावनी देते हुए कहा है कि वो 24 घंटे में तेलंगाना के किसानों का चावल या तो खरीद ले या मुझे गिरफ्तार कर ले। तेलंगाना केंद्र के बीच संबंध लगातार तनातनी के होते जा रहे हैं। इससे पहले भी केसीआर ने पीएम मोदी के खिलाफ कई बयान देकर मामले को गरमाया था। किसान नेता राकेश टिकैत ने धरना स्थल पर पहुंच कर तेलंगाना किसानों का समर्थन किया। राकेश सीएम केसीआर के साथ धरने पर भी बैठे।तेलंगाना के मुख्यमंत्री सोमवार को दिल्ली में किसानों के साथ धरने पर बैठे और उन्हें संबोधित किया। केसीआर ने कहा कि अगर मोदी में हिम्मत है, तो वह मुझे गिरफ्तार कर लें.. मैं हाथ जोड़कर पीएम और केंद्रीय खाद्य मंत्री पीयूष गोयल से कहता हूं, कृपया हमारा अनाज खरीद लें। मैं आपको 24 घंटे देता हूं, उसके बाद, हम अपना निर्णय लेंगे।

ताजा ख़बरें
केसीआर ने कहा कि तेलंगाना अपना अधिकार मांगता है। मैं पीएम से एक नई कृषि नीति बनाने के लिए कहना चाहता हूं, और हम इसमें भी योगदान देंगे। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपको हटा दिया जाएगा और नई सरकार एक नई एकीकृत कृषि नीति बनाएगी। केंद्र उन किसानों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ न करे जिनके पास सरकारों को गिराने की शक्ति है। किसान भिखारी नहीं हैं। 
तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के नेताओं ने मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को केंद्र के खिलाफ एक दिवसीय धरना शुरू किया, जिसमें राज्य से 15 लाख टन चावल की खरीद की मांग की गई।
2014 में तेलंगाना में सत्ता में आने के बाद किसानों की फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए दिल्ली में पार्टी की यह पहला विरोध प्रदर्शन है।

पार्टी के सांसद, विधायक, सभी कैबिनेट मंत्री और शहरी और ग्रामीण स्थानीय निकायों के निर्वाचित प्रतिनिधि दिल्ली के तेलंगाना भवन में धरने पर बैठ गए।

24 hours for PM Modi and Goyal, buy rice or arrest me: KCR - Satya Hindi
तेलंगाना की महिला विधायक और विधान परिषद किसानों के मुद्दे पर दिल्ली में धरना देती हुई। फोटो टीआरएस ट्विटर हैंडल
हाल ही में केंद्र सरकार की खरीद एजेंसी ने तेलंगाना के किसानों का चावल खरीदने से मना कर दिया। इसके बाद टीआरएस ने अपना विरोध तेज कर दिया।
धरने से पहले, टीआरएस ने तेलंगाना भवन और उसके आसपास 'एक राष्ट्र-एक खरीद नीति' और 'किसानों के हितों की रक्षा' के नारों के साथ होर्डिंग और पोस्टर लगाए। केसीआर, जो टीआरएस के अध्यक्ष हैं, पिछले 10 दिनों से दिल्ली में विरोध प्रदर्शन की व्यवस्था के लिए मौजूद हैं। केंद्र ने तेलंगाना के रुख का विरोध किया था। केंद्रीय खाद्य मंत्री पीयूष गोयल ने हाल ही में कहा था कि तेलंगाना सरकार ने लिखित में दिया था कि वह भारतीय खाद्य निगम को कच्चे चावल की आपूर्ति करेगी।

देश से और खबरें

केंद्र द्वारा कृषि बाजारों को डीरेगुलेट करने के उद्देश्य से तीन कानूनों को निरस्त करने के लगभग पांच महीने बाद यह विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ है। तेलंगाना राज्य बीजेपी अध्यक्ष कुमार ने शनिवार को आरोप लगाया कि टीआरएस सरकार "धान खरीद पर राजनीति" कर रही है। बिचौलियों को करोड़ों रुपये बनाने की छूट देकर उसने किसानों के गुस्से को केंद्र की ओर जिस तरह मोड़ा है, उससे बड़े पैमाने पर साजिश की बू आती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें