loader

यूपी: पहले स्याही फेंकी गई, फिर सोमनाथ भारती की ही गिरफ्तारी

आप के विधायक सोमनाथ भारती फिर सुर्खियों में हैं। इस बार दिल्ली में नहीं, बल्कि उत्तर प्रदेश के राय बरेली में। पहले उन पर स्याही फेंकी गई और बाद में उन्हें ही कथित तौर पर आपत्तिजनक बयान देने के लिए गिरफ़्तार कर लिया गया। यूपी पुलिस ने कहा है कि सोमनाथ द्वारा कथित तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्य के अस्पतालों का ज़िक्र कर आपराधिक धमकी दी गई और समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा दिया गया। हालाँकि, स्याही फेंके जाने के मामले में अभी तक कोई गिरफ़्तारी नहीं हुई है। पुलिस का कहना है कि वह मामले की जाँच कर रही है। 

इस मामले की शुरुआत तब हुई जब वह एक गेस्ट हाउस से बाहर निकल रहे थे और तभी एक युवक ने उन पर स्याही फेंक दी। 

ताज़ा ख़बरें

स्याही फेंके जाने के तुरंत बाद भारती ने एक वीडियो क्लिप को भी रीट्वीट किया, जिसमें उन्हें राज्य में 'महिलाओं पर अत्याचार' की बात कहते हुए योगी आदित्यनाथ के लिए 'अपमानजनक शब्द' का इस्तेमाल करते हुए सुना जा सकता है। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, रायबरेली के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने कहा, 'आप विधायक पर स्याही फेंकी गई, और मामले की जाँच की जा रही है।'

स्याही फेंके जाने के क़रीब एक घंटे बाद ही अमेठी पुलिस ने राय बरेली में दिल्ली की केजरीवाल सरकार में पूर्व में क़ानून मंत्री रहे सोमनाथ भारती को गिरफ़्तार कर लिया।

यह गिरफ़्तारी उस मामले में हुई है जिसमें बीजेपी के कार्यकर्ता सोमनाथ साहू ने शिकायत दर्ज कराई थी कि पिछले हफ़्ते उन्होंने कथित तौर पर आपत्तिजनक बयान दिया था।

एक वीडियो में कथित तौर पर सोमनाथ भारती को यह कहते सुना जा सकता है कि 'उत्तर प्रदेश के अस्पतालों में बच्चे तो पैदा हो रहे हैं, लेकिन कुत्तों के'। इस बयान के बाद सोमनाथ भारती पर जगदीशपुर थाने में केस दर्ज किया गया। 

aap mla somnath bharti arrested in up - Satya Hindi

इस विवाद के बीच ही सोमनाथ भारती को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। न्यायिक हिरासत में भेजे जाने पर भी सोमनाथ भारती ने सवाल उठाया है। उन्होंने ट्वीट किया है, 'यह जानकर ताज्जुब हुआ कि मेरी ज़मानत की अर्जी 13 जनवरी तक लंबित रखी गई है और मुझे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।'

बता दें कि पिछले दिनों सोमनाथ भारती ने केजरीवाल मॉडल और उत्तर प्रदेश के स्कूलों की तुलना की थी। इसी दौरान उन्होंने अस्पतालों में कुत्तों के बच्चे वाला बयान दे दिया था। सोमनाथ भारती ने ऐसा इसलिए कहा था क्योंकि वह प्रयागराज के सरकारी अस्पताल में गए थे तो वहाँ कुत्ते के बच्चे उन्हें टहलते मिले थे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें