loader
एयर चीफ मार्शव वी आर चौधरी

अग्निपथः एयर चीफ ने कहा - प्रदर्शनकारियों को बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है

अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को एयर चीफ मार्शल वी. आर. चौधरी ने सीधे चेतावनी दे डाली है। एयर चीफ चौधरी ने कहा कि प्रदर्शनकारी युवकों को बाद में इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। सेना में उनकी भर्ती बिना पुलिस वेरिफिकेशन के नहीं होगी। ऐसे में पुलिस ऐसे युवकों को वेरिफिकेशन क्यों और कैसे करेगी। एयर चीफ ने इंडिया टुडे टीवी को दिए गए खास इंटरव्यू में ये बातें कहीं हैं।
एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी ने कहा कि उन्हें इस तरह की हिंसक प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं थी। हम इस तरह की हिंसा की निंदा करते हैं। यह समाधान नहीं है। सेना में अंतिम चरण पुलिस सत्यापन है। अगर कोई इन प्रदर्शनों में शामिल है, तो उन्हें पुलिस से मंजूरी नहीं मिलेगी।

ताजा ख़बरें
अग्निपथ योजना को एक पॉजिटिव कदम बताते हुए, एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा कि जिन्हें इस स्कीम के बारे में चिंता है, वे पास के आर्मी स्टेशनों, वायु सेना या नेवी के ठिकानों से संपर्क कर सकते हैं और अपनी शंकाओं को दूर कर सकते हैं। 
चौधरी ने कहा कि युवकों को अब जो करने की ज़रूरत है, वह है सही जानकारी हासिल करना, योजना को पूरी तरह से समझना। वे खुद ही योजना का लाभ देखे सकते हैं। मुझे यकीन है कि यह उनके सभी संदेहों को दूर कर देगा, जो कुछ भी उनके मन में है।  
सीएएस ने बताया कि अग्निपथ भर्ती योजना पिछले दो साल से चल रही थी और इसका मकसद सशस्त्र बलों की आयु को 30 से घटाकर 25 वर्ष करना है। चार साल के कार्यकाल के बाद रिटायर होने वाले अनुशासित, प्रेरक के रूप में वापस जाएंगे।
चौधरी ने कहा कि सरकार और रक्षा प्रतिष्ठान नौकरी चाहने वालों की चिंताओं को दूर करने और डर को दूर करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, खासकर भविष्य के बारे में उनकी असुरक्षा के संबंध में।
बता दें कि शुक्रवार को, वायु सेना प्रमुख ने घोषणा की थी कि अग्निपथ योजना के तहत भर्ती के लिए भारतीय वायु सेना चयन प्रक्रिया 24 जून से शुरू करेगी। इस वर्ष के लिए इस योजना के तहत शामिल होने के लिए ऊपरी आयु सीमा को बढ़ाकर 23 कर दिया गया है।

देश से और खबरें
सरकार ने मंगलवार को अग्निपथ योजना की शुरुआत करते हुए कहा था कि साढ़े 17 से 21 वर्ष की आयु के युवाओं को चार साल के कार्यकाल के लिए शामिल किया जाएगा, जबकि उनमें से 25 प्रतिशत को बाद में नियमित सेवा के लिए शामिल किया जाएगा।

योजना का विरोध करने वाले लोग सेवा की अवधि से नाखुश होने के कारण रोलबैक की मांग कर रहे हैं। इसमें पेंशन का कोई प्रावधान नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें