loader

अग्निपथः 6 प्वाइंट्स में समझें इसकी कमियां और खूबियां

सेना की अग्निपथ योजना पर देशभर में बहस और प्रदर्शन जारी है। कई राज्यों में तो प्रदर्शन के साथ हिंसा भी हो रही है। केंद्र सरकार की इस योजना की चर्चा पहले से तो थी लेकिन उसने इस योजना को पेश करने से पहले जनता से या बाकी राजनीतिक दलों से उनकी राय नहीं मांगी। सेना के कई बड़े पूर्व अधिकारी तक अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे हैं। आइए जानते हैं कि इसके पक्ष में क्या कहा जा रहा है और इसके विरोध में क्या कहा जा रहा है-

समर्थन वाले क्या कहते हैं

  •  अगले 6-7 साल में सेना में औसत उम्र मौजूदा 32 से घटाकर 24-26 तक लाया जाएगा, ताकि सशस्त्र बलों को और चुस्त दुरुस्त बनाया जा सके।
  •  इसके जरिए भविष्य के युद्ध के लिए टेक्नॉलजी की ज्यादा समझ रखने वाले युवकों को शामिल किया जाएगा।
  •  अग्निपथ से निकले युवकों से नागरिक समाज और अनुशासित होगा और उससे उनका राष्ट्र निर्माण में भी योगदान होगा।
ताजा ख़बरें
  •  इस योजना से सेना में बढ़ते वेतन और पेंशन बिलों में कमी आएगी। क्योंकि लंबे समय तक जवान सेवा में नहीं रहेगा तो सरकार की पेंशन देने या वेतन बढ़ाने की जिम्मेदारी भी नहीं होगी।
  •   तीनों सेनाओं को अत्याधुनिक तकनीकों से लैस करने के लिए और पैसा मिलेगा। क्योंकि पेंशन न देने और सैलरी न बढ़ने पर पैसे की काफी बचत होगी। उसी पैसे को सेना के आधुनिकीकरण      पर खर्च किया जा सकेगा।
  •  अग्निपथ जैसी स्कीम का कई देशों में इस्तेमाल किया गया है। उन देशों में इसके बेहतर नतीजे आए हैं। चार साल की ट्रेनिंग के बाद सबसे अच्छा अभ्यास माना जाता है।

विरोध करने वाले क्या कहते हैं

  •  सरकार ने किसी पायलट प्रोजेक्ट के साथ इस योजना का परीक्षण क्यों नहीं किया।
  •  सेना प्रोफेशनलिज्म से दूर हो जाएगी। समाज में सेना का सम्मान घटेगा और इससे दुश्मन से लड़ाई की भावना कमजोर होगी।
  •  तीनों सेनाओं में पूरी तरह से प्रशिक्षित युद्ध के लिए तैयार सैनिक बनने में 7-8 साल लगते हैं।
  •  अग्निपथ योजना में भाग लेने वाले युवक उन जोखिमों से दूर रहेंगे जो तीनों सेनाओं की लंबी ट्रेनिंग के बाद जोखिम लेने को तैयार रहते हैं। भर्ती होने के साथ ही वे चार साल बाद के करियर की तलाश में होंगे।
  •   किसी भी बटैलियन के जवान 'नाम, नमक और निशान' (बटालियन की प्रतिष्ठा, निष्ठा और झंडे) के लड़ते हैं। लेकिन चार साल बाद उनसे वो चीज दूर हो जाएगी। उनकी निष्ठा किसके प्रति होगी।
  •   लगभग 35,000 युद्ध-प्रशिक्षित युवा हर साल जब बेरोजगार होंगे तो समाज में बड़े पैमाने पर सैन्य बेरोजगार होंगे। इससे समाज में तमाम तरह के असंतुलन और संकट पैदा होंगे।
देश से और खबरें

क्या है योजना

केंद्र सरकार ने मंगलवार को अग्निपथ योजना की घोषणा की थी। इस योजना के तहत 17.5 साल से 21 साल के 45000 से 50000 युवाओं को 4 साल के लिए सेना में भर्ती किया जाएगा। केंद्र सरकार ने बताया कि अगले 90 दिनों के भीतर भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी और जुलाई 2023 तक पहला बैच तैयार हो जाएगा। इस योजना के तहत जिन युवाओं का चयन सेनाओं में होगा उन्हें अग्निवीर के नाम से जाना जाएगा और इसमें चयन ऑनलाइन केंद्रीय सिस्टम के जरिए होगा। 

योजना घोषित होने के बाद से ही तमाम विशेषज्ञ और जाने-माने लोग तमाम नजरिए से इस योजना को लेकर सवाल उठा रहे हैं। हालांकि गृह मंत्री अमित शाह का ने कहा है कि बाद में इन युवकों को अन्य बलों में खपाया जाएगा। 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जब मंगलवार को इस योजना की घोषणा की तो सेना के तीनों अंगों के चीफ प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे। उन्होंने योजना का स्वागत करने में देर नहीं लगाई। लेकिन जब पूरी योजना सोशल मीडिया के जरिए आम लोगों तक पहुंची तो इसकी तारीफ के साथ आलोचना भी शुरू हो गई। देश के कई राज्यों में युवा इसका जबरदस्त विरोध कर रहे हैं। कई जगह हिंसा की घटनाएं हुई हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें