loader

वैक्सीन पहले किसे मिलेगी, क्या है तैयारी, एम्स डायरेक्टर से जानिए

कोरोना की वैक्सीन तो आ गई, लेकिन ये सबसे पहले किन्हें लगायी जाएँगी? देश में 130 करोड़ की आबादी को एक साथ टीका लगाना संभव तो होगा नहीं, फिर किस आधार पर तय होगा कि सबसे पहले वैक्सीन किसे लगाई जाए? एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया इसका जवाब देते हैं। कोरोना संक्रमण को काबू करने के प्रयास में लगे रहे गुलेरिया यह भी बताते हैं कि वैक्सीन की पूरी तैयारी कैसी चल रही है। 

सभी लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगेगी या नहीं, इस पर उठ रही आशंकाओं को दूर करते हुए डॉ. गुलेरिया ने साफ़ किया कि शुरुआत में सभी भारतीयों को टीका लगाना संभव नहीं होगा।

ख़ास ख़बरें

गुलेरिया ने इस पर ज़ोर दिया कि एक प्राथमिकता की सूची बनानी पड़ेगी कि सबसे पहले किसे वैक्सीन लगाई जाए। एएनआई से बातचीत में गुलेरिया ने कहा, 'शुरुआत में टीका सभी को देने के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होगा। हमें यह देखने के लिए प्राथमिकता सूची की ज़रूरत है कि हम उन लोगों का टीकाकरण करें जिनके कोरोना के कारण मरने की ज़्यादा आशंका हो। बुजुर्ग, एक साथ कई बीमारी से जूझने वाले लोगों और फ्रंट लाइन वर्कर्स को सबसे पहले टीका लगाया जाना चाहिए।'

डॉ. गुलेरिया का यह जवाब इसलिए अहम है क्योंकि कोरोना वैक्सीन के आने की ख़बरों के बीच यह पूछा जा रहा है कि आख़िर टीका लगाने के लिए किस आधार पर लोगों को चुना जाएगा। 

राहुल गांधी ने भी हाल ही में चार सवाल पूछे थे-

  • भारत सरकार सभी कोरोना वैक्सीन उम्मीदवारों में से किसका चयन करेगी और क्यों?
  • पहले टीका किसे मिलेगा और वितरण रणनीति क्या होगी?
  • क्या मुफ्त टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए PMCares फंड का उपयोग किया जाएगा?
  • सभी भारतीयों को कब टीका लगाया जाएगा?

वैक्सीन सुरक्षित पहुँचेगी कैसे?

इसके अलावा एक और अहम सवाल उठ रहा है। कोरोना के खौफ़ के बीच वैक्सीन से लोगों की बड़ी उम्मीद बंधी है, लेकिन वैक्सीन को सुरक्षित रखने और लोगों तक पहुँचाने की व्यवस्था कैसी होगी? क्या इसकी तैयारी सरकार ने की है और यदि की है तो यह तैयारी कैसी है? ये सवाल इसलिए कि वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए फ़्रीज़िंग की ज़रूरत होगी। कुछ वैक्सीन के लिए यह फ़्रीजिंग -80 डिग्री सेल्सियस तक होनी चाहिए। 

जिन वैक्सीन को सामान्य फ़्रीज़ में रखा नहीं जा सकता है उन्हें देश भर में दूर-दराज तक पहुँचाना, स्टोर रखना और फिर इसे लोगों को टीका लगाना क्या बड़ी चुनौती नहीं होगी?

यह सवाल ख़ासकर मॉडर्ना और फाईज़र वैक्सीन के संदर्भ में ज़्यादा उठता है। रिपोर्टों में कहा गया है कि इन दोनों वैक्सीन को -20 से लेकर -80 डिग्री सेल्सियस यानी ज़ीरो से भी नीचे के तापमान पर रखना होगा। लेकिन ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन के संदर्भ में ऐसा नहीं है। 

ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को सामान्य रेफ़्रिजरेटर के तापमान पर भी सुरक्षित रखा जा सकता है। इसीलिए कहा जा रहा है कि भारत के लिए ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन ज़्यादा सही और दूर-दराज के क्षेत्रों में पहुँचाने के लिए आसान होगी। लेकिन यह वैक्सीन देश की इतनी बड़ी ज़रूरतों को समय पर पूरी करने में शायद सक्षम न हो और दूसरी वैक्सीन को भी लाने की ज़रूरत पड़े।

वीडियो चर्चा में देखिए, क्या कोरोना से जान बचा सकता है स्टेराइड?

इस सवाल के जवाब में गुलेरिया कहते हैं कि कोल्ड चेन, उपयुक्त स्टोरहाउस की उपलब्धता, रणनीति, वैक्सीनेटर के प्रशिक्षण और सीरिंज की उपलब्धता के मामले में केंद्र और राज्य स्तर पर टीकाकरण वितरण योजना के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है।

उन्होंने यह भी कहा कि देश में कोरोना वायरस वैक्सीन का ट्रायल आख़िरी चरण में है और उम्मीद जताई कि इस महीने के आख़िर में या अगले साल की शुरुआत में उपयोग के लिए आपात मंजूरी मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि इसका डाटा उपलब्ध है कि वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है। 70 से 80 हज़ार वॉलिंटियर को टीका लगाए जाने पर कोई गंभीर साइड इफ़ेक्ट नहीं मिले हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें