loader

अयोध्या विवाद- उपासक के नाते वहाँ पूजा का हक़: याचिकाकर्ता

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को दसवें दिन भी अयोध्या विवाद पर सुनवाई जारी रही। मूल याचिकाकर्ताओं में शामिल गोपाल सिंह विशारद की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार ने पीठ के समक्ष दलीलें रखीं। उन्होंने कहा कि भगवान राम का उपासक होने के नाते मेरा वहाँ पर पूजा करने का अधिकार है। सुप्रीम कोर्ट उन केसों की सुनवाई कर रहा है जिसमें इलाहाबाद हाई कोर्ट के 30 सितंबर 2010 के फ़ैसले के ख़िलाफ़ 14 अपीलें दायर की गई हैं। इसी मामले में रामलला विराजमान और निर्मोही अखाड़ा की ओर से अभी तक दलीलें रखी जा रही थीं। लेकिन बुधवार शाम से ही याचिकाकर्ताओं की दलीलें सुनी जा रही हैं और गुरुवार को भी इनकी दलीलें सुनी गईं।

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील रंजीत कुमार ने दलील रखी कि मैं उपासक हूँ और मुझे विवादित स्थल पर उपासना का अधिकार है। यह अधिकार मुझसे छीना नहीं जा सकता। उन्होंने यह भी कहा कि वह रामलला विराजमान के वकील वैद्यनाथन और परासरन के उन तर्कों से सहमत हैं कि वह ज़मीन ख़ुद में भगवान की ज़मीन है। उन्होंने कहा, ‘भगवान राम का उपासक होने के नाते मेरा वहाँ पर पूजा करने का अधिकार है। यह मेरा सामाजिक अधिकार है, जिसे हटाया नहीं जा सकता। यह वह जगह है जहाँ भगवान राम का जन्म हुआ था। मैं यहाँ पर पूजा करने का अधिकार माँग रहा हूँ।’

सम्बंधित ख़बरें

वकील रंजीत कुमार ने कुछ मुसलिम गवाहों का ज़िक्र कर यह बताने की कोशिश की कि मंदिर का अस्तित्व वहाँ काफ़ी पहले से था। उन्होंने एक मुसलिम गवाह का ज़िक्र करते हुए कहा कि बाबरी मसजिद में काफ़ी लंबे अर्से से नमाज़ नहीं हो रही है और ब्रिटिश राज में मसजिद में सिर्फ़ जुमे की नमाज़ होती थी।

सुप्रीम कोर्ट के सवाल पूछने पर रंजीत कुमार ने कहा कि उनका क्रॉस एग्जामिनेशन नहीं किया गया, लेकिन वह लोग ख़ुद सामने आए थे और उन्होंने बयान दिया था। 

ताज़ा ख़बरें

रामलला विराजमान की दलीलें

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के नौवें दिन रामलला विराजमान के वकील सी. एस. वैद्यनाथन ने कहा था कि अगर जन्मस्थान ही देवता है, अगर संपत्ति ख़ुद में एक देवता है तो ज़मीन के मालिकाना हक़ का दावा कोई नहीं कर सकता। उन्होंने यह भी कहा कि भगवान रामलला नाबालिग हैं और ऐसे में नाबालिग की ज़मीन को न तो बेचा जा सकता है और न ही छीना जा सकता है। 

सुनवाई के दौरान एक सवाल पर वैद्यनाथन ने दलील दी कि यदि वहाँ पर कोई मंदिर नहीं था, कोई देवता नहीं है तो भी जन्मभूमि के प्रति लोगों की काफ़ी आस्था है। ऐसे में वहाँ पर मूर्ति रखने से पवित्रता ही आएगी। उन्होंने यह भी कहा, ‘ज़मीन केवल भगवान की है। वह भगवान राम का जन्मस्थान है, इसलिए किसी के वहाँ मसजिद बना कर उसपर कब्जे का दावा करने का सवाल नहीं उठता।’ 

बता दें कि अयोध्या मामले की पाँच सदस्यीय संविधान पीठ सुनवाई कर रही है। इससे पहले मध्यस्थता की भी कोशिश की गई थी लेकिन वह प्रयास भी विफल हो गया था।

देश से और ख़बरें

इलाहाबाद हाई कोर्ट का फ़ैसला

सुप्रीम कोर्ट उन केसों की सुनवाई कर रहा है जिसमें इलाहाबाद हाई कोर्ट के 30 सितंबर 2010 के फ़ैसले के ख़िलाफ़ 14 अपीलें दायर की गई हैं। हाई कोर्ट ने विवादित 2.77 एकड़ भूमि को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान के बीच समान रूप से विभाजित करने का आदेश दिया था। लेकिन हाई कोर्ट का यह फ़ैसला कई लोगों को पसंद नहीं आया। यही कारण है कि इस मामले के ख़िलाफ़ कई लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएँ दायर कीं। सुप्रीम कोर्ट ने इन्हीं याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए मई 2011 में हाई कोर्ट के फ़ैसले पर रोक लगा दी थी। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में विवादित स्थल पर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था। इसी मामले में यह सुनवाई चल रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें