loader

भारत बंद का खास असर नहीं, पुलिस व रेलवे हाई अलर्ट पर

अग्निपथ योजना के विरोध में सोमवार को बुलाए गए भारत बंद का असर नहीं दिखाई दिया। हालांकि बीते दिनों हुए प्रदर्शनों को देखते हुए पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। इस वजह से सोमवार को 500 से ज्यादा ट्रेनों को रद्द करना पड़ा। इसमें पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेन भी शामिल हैं। भारत बंद का आह्वान इस योजना के विरोध में प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने किया था। इससे पहले 18 जून को बिहार बंद किया गया था। 

दिल्ली के सिंघु बॉर्डर स्थित रेलवे स्टेशन पर कुछ प्रदर्शनकारी जुटे और उन्होंने अग्निपथ योजना का विरोध किया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया। दिल्ली और देश भर के तमाम रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता की गई है। 

जाम का झाम 

भारत बंद के आह्वान की वजह से दिल्ली-एनसीआर के तमाम बॉर्डर पर सोमवार सुबह लंबा जाम लगा और लोगों को अच्छी खासी मुश्किल का सामना करना पड़ा। यह जाम डीएनडी फ्लाईवे, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे, रजोकरी बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर आदि जगहों पर रहा। इसके अलावा प्रगति मैदान और नई दिल्ली के आसपास के इलाकों में भी लोग ट्रैफिक जाम से जूझते रहे।

ताज़ा ख़बरें

राजधानी दिल्ली में बॉर्डर के इलाकों में पुलिस पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त है और आने जाने वाले वाहनों की जांच की गई। 

दिल्ली से लगने वाले गौतम बुद्ध नगर, फरीदाबाद, गुड़गांव, गाजियाबाद में कई लेयर की सुरक्षा लगाई गई है। पुलिस ने कहा है कि कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने वाले किसी भी शख्स के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। भारत बंद की वजह से झारखंड में सोमवार को स्कूल बंद रखे गए हैं। केरल की पुलिस ने कहा है कि पूरे राज्य में जवान हाई अलर्ट पर हैं और हिंसा करने वाले किसी भी शख्स को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

Bharat Bandh on Agnipath recruitment policy - Satya Hindi

रेलवे पुलिस फोर्स से कहा गया है कि वह हिंसा करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करे और उनकी सीसीटीवी फुटेज और वीडियो को भी जुटाए।

अग्निपथ योजना और जांच एजेंसी ईडी के द्वारा पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछताछ के विरोध में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को देश में कई जगहों पर प्रदर्शन किया। दिल्ली में युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने शिवाजी ब्रिज स्टेशन के रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर विरोध जताया। पुलिस ने युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को वहां से हटाया। 

700 करोड़ से ज़्यादा का नुक़सान

उत्तर प्रदेश, बिहार सहित तमाम राज्यों में हुई हिंसा की घटनाओं के बाद गिरफ्तारियां जोरों पर है। बिहार में अब तक 145 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं और 800 से ज्यादा उपद्रवियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। 

बता दें कि बिहार के गोपालगंज, कैमूर, छपरा, दानापुर, आरा, लखीसराय और समस्तीपुर में प्रदर्शनकारियों ने रेलवे स्टेशनों में तोड़फोड़ की और ट्रेनों में आग लगा दी थी। इससे रेलवे की संपत्तियों को 700 करोड़ से ज़्यादा का नुक़सान हुआ है।

हालांकि रविवार को बिहार के किसी भी हिस्से से तोड़फोड़ और आगजनी की खबर नहीं आई। पुलिस ने प्रदर्शनकारी युवाओं से अफवाहों पर ध्यान ना देने और शांत रहने की अपील की है। 

बिहार की तरह ही उत्तर प्रदेश पुलिस भी धड़ाधड़ एफआईआर दर्ज कर रही है और गिरफ्तारियों में जुटी है। उत्तर प्रदेश में अब तक 34 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं और 387 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

उत्तर प्रदेश के बलिया, सहारनपुर, अलीगढ़, मथुरा, बनारस, प्रयागराज, चंदौली सहित कई शहरों में इस योजना के विरोध में हिंसा हुई थी। उत्तर प्रदेश में भी तमाम संवेदनशील जगहों पर पुलिस पूरी मुस्तैदी के साथ तैनात है। अलीगढ़ पुलिस ने अलीगढ़ में कोचिंग एकेडमी चलाने वाले कई लोगों की धरपकड़ की है। 

20 जिलों में इंटरनेट बंद

बिहार में हुए हिंसक प्रदर्शनों के बाद 350 ट्रेनों को रद्द करना पड़ा और 20 जिलों में इंटरनेट बीते तीन दिन से बंद है। बिहार में बीजेपी के दफ्तरों पर भी हमले हुए और हिंसा में प्रशासन की भूमिका को लेकर राज्य में सरकार चला रहे बीजेपी और जेडीयू आमने-सामने हैं। 

Bharat Bandh on Agnipath recruitment policy - Satya Hindi

केंद्र सरकार की ओर से अग्निवीरों के लिए तमाम बड़े एलान किए जाने के बाद भी युवाओं का गुस्सा शांत होते नहीं दिख रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें