loader

10 फ़ीसद आरक्षण से जुड़े विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को सरकारी नौकरियों और शिक्षा संस्थानों में दाखिले में 10 प्रतिशत आरक्षण देने से जुड़े विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। 'यूथ फ़ॉर इक्विलटी' नामक संगठन ने गुरुवार को सर्वोच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर इस 124वें संविधान संशोधन विधेयक को ख़ारिज करने की माँग की है। 
यूथ फ़ॉर इक्वलिटी के प्रमुख कौशल कांत मिश्र ने याचिका में कहा है कि यह विधेयक संविधान के ख़िलाफ़ है क्योंकि इससे आरक्षण की उच्चतम सीमा 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण हो जाएगा। उन्होंने कहा है कि संविधान संशोधन में जो चार मुख्य बातें जोड़ी गई हैं, वे संविधान की किसी न किसी मौलिक सिद्धांत के उलट है और इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने बहुत पहले ही एक आदेश में कहा था कि संविधान के मूल भूत सिद्धान्तों को नहीं बदला जा सकता है। 
Bill on 10 percent reservation for economically weaker people challenged in supreme court - Satya Hindi
मिश्रा का कहना है कि आर्थिक आधार पर भी आरक्षण नहीं दिया जा सकता है। यह भी संविधान के ख़िलाफ़ है कि सामान्य श्रेणी के लोगों को ही आरक्षण दिया जाए। विधेयक में यह साफ़ किया गया है कि इस आरक्षण का फ़ायदा वे लोग ही ले सकेंगे जो अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़े समुदाय के तहत मिलने वाले आरक्षण के तहत नहीं आते। इसका साथ ही यह भी कहा गया है कि यह आरक्षण मौजूदा 49.50 प्रतिशत से अलग होगा। कौशल और उनके संगठन को इन मुद्दों पर विरोध है। 
कल यानी बुधवार को राज्यसभा मे दिन भर की बहस के बाद इस विधेयक को 165-7 के बहुमत से पारित कर दिया गया था। राज्यसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भी इसका समर्थन किया था। सिर्फ डीएमके ने इसका विरोध किया था और उसे सेलेक्ट कमिटी को भेजने की माँग की थी, जिसे खारिज कर दिया गया था। उसके एक दिन पहले यानी मंगलवार को सामाजिक न्यााय मंत्री थावरचंद गहलोत ने इसे लोकसभा में पेश किया था, भारी बहुमत से पास कर दिया गया था। लोकसभा की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने वहां भी इसका समर्थन किया था। इसे पारित होने के लिए दोनों ही सदनों में मौजूद और वोट करने वाले सदस्यों के दो-तिहाई लोगों का वोट पड़ना ज़रूरी था। दोनों ही सदनों में इस विधेयक को दो-तिहाई वोट मिले थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें