loader

किसान आंदोलन में एके-47 लेकर बैठे हैं आतंकवादी: बीजेपी सांसद

जब से किसान दिल्ली के बॉर्डर्स पर आकर बैठे हैं, बीजेपी नेताओं ने उन्हें खालिस्तानी, वामपंथी बताने से लेकर इस आंदोलन में चीन-पाकिस्तान का हाथ होने और विदेशी फंडिंग के कई आरोप लगा दिए हैं। ताज़ा बयान आया है राजस्थान की बीजेपी सांसद जसकौर मीणा का। 

मीणा का कहना है, ‘किसान आंदोलन में आतंकवादी बैठे हुए हैं, उन्होंने एके-47 ली हुई है, खालिस्तान का झंडा लगाया हुआ है, इस देश में ऐसी कितनी रूकावटें हैं, जिन्हें ध्यान में रखते हुए इन्हें दूर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ग्राम विकास के लिए जन-जन के विकास के लिए काम कर रहे हैं।’ 

सुरक्षित दौसा सीट से सांसद मीणा ने यह भी कहा कि मोदी युग पुरूष हैं और इस देश को जगत गुरू बनाने की ओर ले जा रहे हैं। 

केंद्र सरकार भी सुप्रीम कोर्ट में कह चुकी है कि किसानों के प्रदर्शन में खालिस्तानियों की घुसपैठ हो चुकी है।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी में ऐसे नेताओं की लंबी कतार है, जो किसान आंदोलन को खालिस्तानियों और वामपंथियों का आंदोलन बता चुके हैं या इसमें घुसपैठ होने की बात कह चुके हैं। इनमें वरिष्ठ मंत्री रविशंकर प्रसाद से लेकर, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत कुमार गौतम और अरुण सिंह का नाम शामिल है। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री राव साहब दानवे, हरियाणा सरकार के मंत्री जेपी दलाल इसमें चीन-पाकिस्तान का हाथ बता चुके हैं। 

राजनाथ सिंह नाराज़

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बीजेपी नेताओं के बयानों को लेकर नाराज़गी जाहिर कर चुके हैं। राजनाथ सिंह ने पिछले महीने एएनआई को दिए इंटरव्यू में किसानों को अन्नदाता कहते हुए अर्थव्यवस्था में उनका अहम योगदान बताया था। उन्होंने यह भी कहा था कि भारत की संस्कृति और स्वाभिमान की रक्षा में सिखों का बड़ा योगदान रहा है। राजनाथ सिंह ने आज तक से ‘सीधी बात’ में कहा था कि वे किसी भी किसान को खालिस्तानी मानने के लिए तैयार नहीं हैं। 

‘बात मान लें तो देशभक्त, न मानें तो आतंकवादी’

कृषि क़ानूनों के पुरजोर विरोध के कारण एनडीए से नाता तोड़ने वाली शिरोमणि अकाली दल के प्रधान और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने इस तरह के बयानों को लेकर मोदी सरकार को घेरा था और कहा था कि अगर ऐसा है तो फिर सरकार उन्हें बातचीत के लिए क्यों बुला रही है। 

BJP MP jas kaur meena controversial comment on farmers  - Satya Hindi

बादल ने कहा था, ‘अगर सरकार की बात मान लें तो देशभक्त और न मानें तो आतंकवादी, इससे ख़राब बात और क्या हो सकती है।’ उन्होंने कहा था कि हमारे लिए देश सबसे पहले है और किसान देश के लिए ही लड़ाई लड़ रहे हैं।

देश से और ख़बरें

अमरिंदर भी नाराज़

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पिछले महीने एएनआई से बातचीत में किसानों को आतंकवादी बताने वालों को आड़े हाथ लिया था। उन्होंने कहा था कि आंदोलन में बैठे लोग बेहद साधारण हैं और वे अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए इस आंदोलन को लड़ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा था कि अब वक़्त आ गया है कि प्रधानमंत्री इस मामले को गंभीरता से लें और इन क़ानूनों को ख़त्म करें वरना उनकी सरकार सुप्रीम कोर्ट का रूख़ करेगी।

ऐसे में बीजेपी और केंद्र सरकार पहले यह तय कर ले कि किसानों के बारे में उसकी क्या राय है। एक ओर उसके नेता किसानों के बारे में अनाप-शनाप और वाहियात बातें कह रहे हैं दूसरी ओर वह ख़ुद को किसानों का सम्मान करने और उनकी बेहतरी के लिए काम करने वाला बताते नहीं थकती। लेकिन इस तरह के बयान देने वाले बीजेपी नेताओं की सोशल मीडिया पर जमकर धुलाई हो चुकी है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें