loader

कोरोना: ब्राज़ील ने भारत को पीछे छोड़ा; वहाँ संक्रमण बेकाबू!

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि यदि सावधानी नहीं बरती गई तो लॉकडाउन लगाया जाएगा। कई ज़िलों में तो लॉकडाउन लगा भी दिया गया है। पूरे देश में संक्रमण के मामले 25 हज़ार से ज़्यादा आने लगे हैं। इससे भले ही भारत में कोरोना की स्थिति बेकाबू होती लग रही हो, लेकिन ब्राज़ील की स्थिति भारत से भी ज़्यादा ख़राब है।

ब्राज़ील में फिर से कोरोना का कहर है। सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले में यह भारत से आगे निकल गया है और दूसरे स्थान पर पहुँच गया है। ब्राज़ील में जहाँ 1 करोड़ 14 लाख 39 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आए हैं वहीं भारत में अब 1 करोड़ 13 लाख 33 हज़ार संक्रमण के मामले ही है। पहले स्थान पर अमेरिका है जहाँ अब तक 2 करोड़ 93 लाख 99 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

ब्राज़ील में इसलिए ज़्यादा ख़राब स्थिति है कि हर रोज़ संक्रमण के मामले में ब्राज़ील पहले नंबर पर है। वहाँ एक दिन में 70 हज़ार से भी ज़्यादा संक्रमण के मामले आए हैं और क़रीब 1900 लोगों की मौत हो गई। इतनी संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले अब हर रोज़ आने लगे हैं। जबकि अमेरिका में एक दिन में 48 हज़ार मामले सामने आए और भारत में 25 हज़ार केस। अब तक सबसे ज़्यादा मौतें अमेरिका में 5 लाख 34 हज़ार से ज़्यादा हुई हैं। दूसरे स्थान पर ब्राज़ील है जहाँ 2 लाख 77 हज़ार से ज़्यादा मौतें हुई हैं। दुनिया भर में मौत के मामले में भारत चौथे स्थान पर है और यहाँ 1 लाख 58 हज़ार मौतें हुई हैं। तीसरे स्थान पर मेक्सिको में 1 लाख 93 हज़ार लोगों की मौतें हुई हैं। 

ब्राज़ील की स्थिति कितनी ख़राब है इसका अंदाज़ा इससे भी लगाया जा सकता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने हालात को चिंताजनक बताया है। समझा जाता है कि संक्रमण के मामले इसलिए ज़्यादा बढ़ने लगे हैं क्योंकि वहाँ पर नये स्ट्रेन यानी नये क़िस्म का कोरोना पाया गया है और वह काफ़ी तेज़ी से फैल रहा है। इसे आम तौर पर ब्राज़ील वैरिएंट नाम दिया गया है। 

संक्रमण के तेज़ी से फैलने के लिए सरकार की नीतियों को भी ज़िम्मेदार ठहराया जा रहा है। लॉकडाउन के ख़िलाफ़ बात करने के लिए ब्राज़ील के राष्ट्रपति जईर बोसोनारो की आलोचना की जाती रही है।

विवादास्पद बयान देने के लिए जाने जाते रहे राष्ट्रपति जईर बोसोनारो ने एक हफ़्ते पहले ही कर्फ्यू को यह कहते हुए ग़लत बताया था कि डब्ल्यूएचओ को लगता है कि लॉकडाउन पर्याप्त नहीं है और इससे ग़रीब ज़्यादा प्रभावित होते हैं। हालाँकि उन्होंने डब्ल्यूएचओ की पूरी बात को नहीं बताया। डब्ल्यूएचओ ने यह भी कहा था कि लॉकडाउन के नकारात्मक असर होते हैं, लेकिन संक्रमण को रोकने के लिए कुछ देशों के पास इसको छोड़कर दूसरा उपाय भी नहीं है। 

brazil records second highest coronavirus cases ahead of india - Satya Hindi
राष्ट्रपति बोसोनारो ने पिछले साल अप्रैल महीने में देश की राजधानी ब्रासीलिया में लॉकडाउन हटाने की माँग कर रहे प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित किया था और उनका समर्थन किया था। यानी वह ख़ुद लॉकडाउन के ख़िलाफ़ हुई रैली में शामिल रहे थे। यदि किसी देश का राष्ट्रपति अपने ही देश में हो रहे विरोध प्रदर्शन का समर्थन करे, उसमें शामिल हो जाए या वहाँ लोगों के बीच भाषण देने पहुँच जाए तो आप क्या कहेंगे? बाद में भी कोरोना पर उनकी नीतियों की आलोचना होती रही है।
एक उम्मीद कोरोना वैक्सीन से है, लेकिन टीकाकरण अभी बहुत कम लोगों का किया जा सका है। एक रिपोर्ट के अनुसार चार फ़ीसदी लोगों को ही दोनों टीके लगाए जा सके हैं।

भारत में संक्रमण की दूसरी लहर?

ब्राज़ील की तुलना में भारत में मौजूदा स्थिति में हालात बेहतर जान पड़ते हैं, लेकिन धीरे-धीरे संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। और इसीलिए संदेह यह जताया जाने लगा है कि क्या भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर शुरू हो गई है। यह इसलिए कि हर रोज़ संक्रमण के मामले क़रीब 10 हज़ार आने लगे थे वे अब बढ़कार 25 हज़ार से भी ज़्यादा हो गए हैं। कोरोना पॉजिटिव एक्टिव मामले जहाँ 1 लाख 37 हज़ार पहुँच गए थे वे अब बढ़कर 2 लाख से ज़्यादा हो गए हैं। पहले जहाँ ठीक होने वाले मरीज़ों की संख्या नये कोरोना पॉजिटिव वालों की संख्या से ज़्यादा थी वहीं अब नये कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की संख्या ज़्यादा हो गई है। और तो और देश के कई ज़िलों में सख़्त लॉकडाउन लगा दिया गया है और महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों ने पूरे राज्य में ही लॉकडाउन लगाने की चेतावनी भी दे दी है।

brazil records second highest coronavirus cases ahead of india - Satya Hindi

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को राज्य में होटल और रेस्तरां को आदेश दिया कि वे अपने परिसर में कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें और राज्य को लॉकडाउन जैसे कठोर उपायों को लागू करने के लिए मजबूर न करें।

ठाकरे ने कहा, 'हमें एक सख्त लॉकडाउन के लिए मजबूर न करें। इसे अंतिम चेतावनी के रूप में मानें। सभी नियमों का पालन करें। सभी को यह समझना होगा कि आत्म-अनुशासन और प्रतिबंधों में अंतर है।'

उनकी यह चेतावनी तब आई है जब शनिवार को राज्य मे 15 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आए और 88 लोगों की मौत हो गई। राज्य में 22 लाख 97 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 52 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य के कई ज़िलों में लॉकडाउन लगाया जा चुका है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें