loader

तीन गुणी कीमत पर इज़रायल से ड्रोन इंजन की खरीद, सीएजी ने लगाई फटकार

रक्षा सौदों में अलग-अलग कांग्रेस सरकारों को घेरने वाली भारतीय जनता पार्टी अब खुद सवालों के घेरे में है। अब वह सत्ता में है और उस पर रक्षा सौदों में गड़बड़ियाँ करने के आरोप लगे हैं। और वह भी सीएजी की रिपोर्ट पर। वही सीएजी, जिसकी 2-जी रिपोर्ट पर विपक्ष में रहते हुए बीजेपी ने पूरे देश में हंगामा खड़ा कर दिया था। 
कम्प्ट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल ने बुधवार को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अनमैन्ड एरो वीकिल यानू यूएवी के लिए इज़रायल एअरोस्पेस इंडस्ट्रीज़ से खरीदे गए इंजन के लिए तीन गुनी कीमत अदा की गई। अनमैन्ड एअरो वीकिल को चालू भाषा में ड्रोन कहते हैं। 
देश से और खबरें

मामला क्या है?

रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च 2010 में इज़रायली कंपनी से क़रार हुआ, जिसके  तहत 5 रोटोमैक्स इंजन खरीदे गए और हर इंजन के लिए 87.45 लाख रुपए की कीमत तय हुई।
डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन की प्रयोगशाला एअरोनॉटिकल डेवलपमेंट इस्टैमलिशमेंट ने ठीक वही इंजन 24.30 लाख में खरीदे थे। यानी भारतीय वायु सेना के लिए खरीदे गए इंजन की कीमत तीन गुणे अधिक थी।

सरकार को घाटा

इससे इज़रायली कंपनी को 3.16 करोड़ रुपए का अतिरिक्त भुगतान करना पड़ा। अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में इस इंजन की कीमत 21-25 लाख रुपए है। सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि इज़रायली कंपनी ने तीन गुणी कीमत लेने के बावजूद बग़ैर सर्टिफिकेट वाला इंजन ही भारतीय वायु सेना को दे दिया। 

इस इंजन की गुणवत्ता पर सवाल उठे हैं। इस इंजन से लैस ड्रोन कई बार दुर्घटना के शिकार हुए और एक ड्रोन तो पूरी तरह नष्ट ही हो गया। 'द प्रिंट' ने एक ख़बर में कहा है कि वायु सेना ने सीएजी की रिपोर्ट का खंडन नहीं किया है, पर उसके एक आला अफ़सर ने कहा कि 'वायु सेना का काम कीमत तय करना नहीं है।' 

अपग्रेडेशन में देरी

सीएजी ने इस पर भी चिंता जताई है कि 2002 में मीडियम लिफ़्ट एमआई-17 हेलिकॉप्टर के अपग्रेडेशन पर फ़ैसला हुआ, लेकिन 18 साल बाद भी वह काम अब तक नहीं हुआ है। सीएजी ने कहा है, 'इससे हेलिकॉप्टर सीमित क्षमता के साथ ही काम करते हैं और इससे उनके कामकाज की तैयारियों पर बुरा असर पड़ा है।'
सीएजी ने रुख कड़ा करते हुए कहा है कि 'इसी तरह 90 एमआई 17 हेलिकॉप्टर को अपग्रेड करने में 15 साल लग गए, वह काम इज़रायली कंपनी की मदद से 2017 में पूरा हुआ।'
सीएजी ने अपग्रेडेशन के काम में लेट लतीफी पर चिंता जताते हुए कहा कि 2018 में शुरू हुआ यह काम 2024 में पूरा हो भी जाएगा तो उस समय तक कम से कम 56 हेलीकॉप्टर दो साल बाद ही हटा दिए जाएंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें